loader

श्रीलंका: हिंसक प्रदर्शनों में 8 लोगों की मौत, भीड़ ने कई नेताओं के घर फूंके

श्रीलंका में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। हिंसक झड़पों में अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है। यह हालत तब हैं जब मुल्क में आपातकाल के साथ ही कर्फ्यू भी लगा हुआ है। 

अब तक हुई हिंसक झड़पों में 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए हैं और उन्होंने राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे से भी अपने पद से हटने के लिए कहा है।

लगातार बिगड़ रहे हालात के बीच पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे की गिरफ्तारी हो सकती है। महिंदा राजपक्षे और उनके परिवार के सदस्यों को मंगलवार को घर छोड़कर भागना पड़ा था और उन्होंने एक नौसैनिक अड्डे में शरण ली थी।

ताज़ा ख़बरें
श्रीलंका में बीते कई महीनों से हुकूमत के खिलाफ चल रहे ये प्रदर्शन तब हिंसक हो गए थे जब सोमवार को महिंदा राजपक्षे के समर्थकों का प्रदर्शनकारियों के साथ आमना-सामना हुआ था। इसके बाद महिंदा राजपक्षे को तुरंत इस्तीफा देना पड़ा था। 
बता दें कि श्रीलंका में खाने के सामान, ईंधन, दवाइयों की जबरदस्त कमी हो गई है और बिजली न होने की वजह से लोग बीते कई महीनों से लंबे पावर कट झेलने को मजबूर हैं।

कुछ ही दिनों में प्रदर्शनकारियों ने कई पूर्व मंत्रियों, सांसदों के घरों को आग के हवाले कर दिया है। राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के पैतृक घर में भी प्रदर्शनकारियों ने आग लगा दी थी। 

लगातार बिगड़ते हालात के बीच सत्तारूढ़ पार्टी के एक सांसद को जब प्रदर्शनकारियों ने घेर लिया तो उन्होंने अपनी रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली। 

Sri Lanka economic crisis 8 dead in violent protests - Satya Hindi
पुलिस हालात को काबू में करने के लिए बल प्रयोग कर रही है लेकिन अब उसके लिए हालात को संभालना बेहद मुश्किल हो गया है।

प्रदर्शनकारी सरकार से बेहद नाराज हैं और वे लगातार नेताओं के घरों पर हमला कर रहे हैं।

गोली चलाने का आदेश 

श्रीलंका के रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को सेना, एयरफोर्स और नेवी को आदेश दिया था कि सार्वजनिक संपत्ति में तोड़फोड़ करने वाले किसी भी शख्स पर गोली चला दी जाए। 

दुनिया से और खबरें

राजधानी कोलंबो और देश के दूसरे हिस्सों में यह प्रदर्शन लगातार तेज हो रहे हैं। राजनेताओं के घरों पर हमले होने के बीच इस बात की आशंका है कि वे भागकर भारत में शरण ले सकते हैं। हालांकि श्रीलंका में भारत के दूतावास ने इस तरह की खबरों का खंडन किया है।

राष्ट्रपति राजपक्षे ने लोगों से हिंसा न करने की अपील की है लेकिन लोग बेहद गुस्से में हैं और उन्हें काबू करना मुश्किल है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें