loader

यूएस सुप्रीम कोर्ट ने 50 साल पुराने एबॉर्शन के अधिकार कानून को खत्म किया

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक ऐतिहासिक फैसले में गर्भपात (एबॉर्शन) के अधिकार को खत्म कर दिया। अदालत ने 50 साल पुराने 1973 के "रो बनाम वेड" के फैसले को पलट दिया। इस फैसले से अमेरिकी महिलाओं को एबॉर्शन के हक का कानूनी हक खत्म हो जाएगा। अब अमेरिका के अलग-अलग राज्य खुद अनुमति दे सकते हैं या प्रतिबंधित कर सकते हैं।

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि संविधान गर्भपात का अधिकार नहीं देता है। यह गहरा नैतिक मुद्दा है, जिस पर लोगों के अपने-अपने नजरिए हैं। इसलिए एबॉर्शन को रेगुलेट करने का अधिकार लोगों और उनके चुने हुए प्रतिनिधियों को वापस कर दिया गया है। हर राज्य अपना फैसला ले सकता है।

ताजा ख़बरें

कोर्ट में नॉर्मा मैककॉर्वी नामक महिला ने इस कानून को चुनौती दी थी। अदालत के दस्तावेजों में उस महिला को जेन रो नाम दिया गया है। नॉर्मा मैककॉर्वी 1969 में एबॉर्शन कराना चाहती थीं। वो टेक्सस में रहती थीं। वहां एबॉर्शन प्रतिबंधित है। वहां तभी अनुमति मिलती है, जब मां की जान को कोई खतरा हो। जाहिर है कि दो बच्चों की मां नॉर्मा को इसकी अनुमति नहीं मिली तो उन्होंने कोर्ट में इस चैलेंज कर दिया। उस मुकदमे में बचाव पक्ष की ओर से अटॉर्नी हेनरी वेड थे। 

इसीलिए इस केस का नाम रो बनाम वेड पड़ा।इस मामले में 1973 में फैसला आया और कोर्ट ने कहा कि एबॉर्शन का अधिकार महिला का है। उसे ही तय करने दिया जाए कि वो एबॉर्शन कराना चाहती है या नहीं। इस फैसले के जरिए अमेरिकी महिलाओं को सुरक्षित एबॉर्शन का अधिकार मिल गया। अमेरिका के तमाम धार्मिक समूहों ने एबॉर्शन के अधिकार को गलत माना। उन्होंने इसका खुलकर विरोध किया। 
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें
उन्होंने कहा कि महिला के अंदर पल रहे भ्रूण को जीवन का अधिकार है। अमेरिका की डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टी तक इस फैसले पर बंट गए। चूंकि इस फैसले का ड्राफ्ट पहले ही लीक हो गया था, इसलिए अमेरिका के महिला संगठनों ने इसका भारी विरोध किया। राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी इस पर अपना विचार रखते हुए कहा था कि एबॉर्शन का अधिकार तो महिला का ही होता है। उसे ही तय करने का अधिकार मिले। 
बहरहाल, अब राज्यों को इसे तय करने का अधिकार मिल गया है। अमेरिका के करीब 24 राज्य एबॉर्शन को अवैध घोषित करने वाले हैं। लेकिन महिला संगठनों ने इसका विरोध शुरू कर दिया है। यह लड़ाई एक तरफ धार्मिक समूहों और दूसरी तरफ महिला अधिकार और अन्य सामाजिक संगठनों के बीच चलेगी।अदालत का यह फैसला गर्भपात कानूनों को आसान बनाने की एक अंतरराष्ट्रीय ट्रेंड के खिलाफ जाता है, जिसमें आयरलैंड, अर्जेंटीना, मैक्सिको और कोलंबिया जैसे देश शामिल हैं जहां कैथोलिक चर्च का काफी प्रभाव है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें