loader
वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की बैठक दावोस में रविवार शाम से शुरू होगी

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की महफिल सजी, भारत के 3 मंत्री दावोस पहुंचे

विश्व के कई देश जब गहन आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं तो ऐसे में करीब ढाई साल बाद दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की बैठक रविवार शाम से शुरू होने जा रही है। इसमें भारत सहित कई ग्लोबल नेताओं के यूक्रेन संकट, जलवायु परिवर्तन पर विचार-विमर्श करने की उम्मीद है। इसके अलावा दुनिया को प्रभावित करने वाले कई अन्य मुद्दों पर भी विचार होगा।
दुनिया भर के अमीरों और ताकतवरों का हाई-प्रोफाइल वार्षिक जमावड़ा गुरुवार, 26 मई तक जारी रहेगा। यहां बोलने वालों में यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमिर ज़ेलेंस्की, यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन और जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़, अन्य विश्व नेताओं के बीच शामिल हैं। 
ताजा ख़बरें
भारत से तीन केंद्रीय मंत्री - पीयूष गोयल, मनसुख मंडाविया और हरदीप सिंह पुरी, साथ ही दो मुख्यमंत्रियों - बसवराज एस बोम्मई और वाई एस जगनमोहन रेड्डी सहित कई राज्य के नेताओं के साथ-साथ तेलंगाना से केटी रामा राव, महाराष्ट्र के आदित्य ठाकरे और थंगम थेनारासु, कई अन्य सार्वजनिक हस्तियों और कई सीईओ के साथ यहां अगले छह दिनों में प्रमुख मुद्दों पर चर्चा करेंगे।कुल मिलाकर, 50 से अधिक सरकार या राज्य के प्रमुखों के वार्षिक बैठक में भाग लेने की उम्मीद है, जो आमतौर पर जनवरी में यहां होती है जब यह छोटा शहर पूरी तरह से बर्फ से ढका होता है, लेकिन इस बार यह धूप के मौसम में हो रहा है। 2021 की वार्षिक बैठक शारीरिक रूप से नहीं हो सकी, जबकि 2022 की बैठक को कोविड महामारी के कारण स्थगित करना पड़ा।  
दुनिया से और खबरें

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) ने कहा कि वार्षिक बैठक 2022 शिखर सम्मेलन की थीम 'एक महत्वपूर्ण मोड़ पर इतिहास' है। यहां जिन मुद्दों पर चर्चा की जानी है उनमें वैश्विक महामारी की पृष्ठभूमि में सरकारी नीतियां और व्यावसायिक रणनीतियां और यूक्रेन में युद्ध और भू-आर्थिक चुनौतियां शामिल हैं।

बैठक एक रणनीतिक बिंदु पर बुलाई जाती है जहां सार्वजनिक हस्तियां और वैश्विक नेता फिर से जुड़ने, अंतर्दृष्टि का आदान-प्रदान करने, नए दृष्टिकोण और अग्रिम समाधान प्राप्त करने के लिए व्यक्तिगत रूप से मिलेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें
डब्ल्यूईएफ ने कहा कि बैठक की प्रमुख प्राथमिकता प्रगति में तेजी लाना और वैश्विक चुनौतियों से निपटने और दुनिया की स्थिति में सुधार लाना है। ढाई साल के अंतराल के बाद, बैठक दुनिया भर के लगभग 2,500 नेताओं और विशेषज्ञों को एक साथ लाएगी, जो सभी दुनिया की स्थिति में सुधार के लिए "दावोस स्पिरिट" के लिए प्रतिबद्ध हैं। फोरम ने कहा कि गहराते वैश्विक संघर्ष सदी में एक बार आने वाली महामारी की पृष्ठभूमि के खिलाफ, अभूतपूर्व वैश्विक संदर्भ उद्देश्य और संकल्प की मांग करता है, और बैठक की महत्वाकांक्षा इन चुनौतियों का सामना करना है।  
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें