loader

पिता की मौत की जांच की मांग पर भड़के चिराग पासवान

बिहार विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सत्ता से हटाने की लड़ाई लड़ रहे एलजेपी मुखिया चिराग पासवान अपने एक हालिया वीडियो को लेकर घिर गए हैं। इस वीडियो में चिराग अपने पिता रामविलास पासवान की मौत के बाद उन्हें श्रद्धांजलि देने वाला एक वीडियो शूट कर रहे थे। 

लेकिन वीडियो में वह अपने बालों के टेक्सचर की बात कर रहे थे और सोशल मीडिया पर लोगों का कहना था कि वीडियो को देखकर ऐसा नहीं लगा कि वह गंभीर या दुखी थे। वीडियो के सामने आने के बाद कई नेताओं ने चिराग पर सवाल उठाया था। 

वीडियो को लेकर चिराग के सियासी विरोधी और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने उन पर हमला बोला था। मांझी ने राम विलास पासवान की मौत पर सवाल उठाया और कहा कि वह इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने ले गए हैं। लंबी बीमारी के बाद 8 अक्टूबर को पासवान का निधन हो गया था। वह केंद्र सरकार में मंत्री थे। 

ताज़ा ख़बरें

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक़, मांझी ने पीएम मोदी को इस विषय में पत्र लिखा है। पत्र में मांझी ने राम विलास पासवान की मौत की न्यायिक जांच कराने की मांग की है। मांझी ने चिराग के वीडियो का भी हवाला दिया है।

एएनआई के मुताबिक़, मांझी ने लिखा है, ‘राम विलास पासवान की मौत के कारण देश दुखी था लेकिन एलजेपी मुखिया उनके अंतिम संस्कार के अगले दिन वीडियो शूट करते हुए मुस्कुरा रहे थे। वह शूटिंग के बारे में बात कर रहे थे।’ हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष मांझी ने कहा है कि वीडियो सामने आने के बाद राम विलास पासवान के प्रशंसकों और रिश्तेदारों की ओर से कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं। 

मांझी ने पूछा है, ‘जिस अस्पताल में राम विलास पासवान भर्ती थे, किसके निर्देश पर उसने उनके मेडिकल बुलेटिन को रिलीज नहीं किया।’ उन्होंने यह भी पूछा है कि किसके निर्देश पर केवल तीन लोगों को ही राम विलास पासवान से मिलने की अनुमति थी।

चिराग ने दिया जवाब

मांझी के इन सवालों का जवाब देने के लिए चिराग ख़ुद आगे आए हैं। एएनआई के मुताबिक़, चिराग ने कहा है, ‘जब मेरे पिता अस्पताल में भर्ती थे, तब मांझी ने इतनी चिंता क्यों नहीं दिखाई। अब हर कोई एक मरे हुए इंसान पर राजनीति कर रहा है। जब वह जीवित थे, किसी ने उनसे मिलने की जहमत क्यों नहीं उठाई।’ 

Manjhi asked probe for Ram vilas paswan Death - Satya Hindi
चुनाव प्रचार के दौरान चिराग पासवान।
एएनआई के मुताबिक़, चिराग ने आगे कहा है, ‘मैंने मांझी जी को अपने पिता की गंभीर हालत के बारे में बताया था लेकिन वे कभी भी मेरे बीमार पिता को देखने नहीं आए।’ जमुई से सांसद चिराग ने कहा कि वे लोग जो एक बेटे के बारे में इस तरह की बातें कह रहे हैं, उन्हें ख़ुद पर शर्म आनी चाहिए। 
बिहार से और ख़बरें

नीतीश पर भी हमलावर

विरोधी दलों के नेताओं के इस बयान पर कि वह वीडियो के दौरान बहुत दुखी नहीं दिखाई दे रहे थे, चिराग ने कहा कि उन्हें अपने दुख को किसी के सामने साबित करने की ज़रूरत नहीं है। उन्होंने इसे लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी हमला बोला और कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि वह इतना नीचे गिर जाएंगे। 

देखना होगा कि चिराग के इस वीडियो के सामने आने के बाद और मांझी के इसे लेकर मोदी को चिट्ठी लिखने के बाद क्या एलजेपी की चुनावी संभावनाओं पर कोई असर पड़ेगा। क्योंकि चिराग के सियासी विरोधियों द्वारा की गई राम विलास पासवान की मौत की जांच की मांग उन्हें चुनाव के मौक़े पर राजनीतिक नुक़सान पहुंचाने की एक कोशिश भी हो सकती है। क्योंकि यह कहा जा सकता है कि चिराग जिस बुरी तरह से नीतीश पर हमलावर हैं, ऐसे में उन्हें घेरने के लिए नीतीश ने अपने लेफ़्टिनेंट मांझी को इस वीडियो को लेकर उन पर आक्रामक होने के लिए कहा हो, हालांकि ये सिर्फ़ कयास भी हो सकते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें