loader

जब अमिताभ बच्चन ट्रोलों पर ज़बरदस्त नाराज़ हुए, कहा- ठोक दो *** को

तार्किक बातें रखने और सवाल पूछने वालों पर टूट पड़ने वाले ट्रोलों को अमिताभ बच्चन ने तगड़ा जवाब दिया है। सोशल मीडिया पर काफ़ी संयमित और दोस्ताना पेश आने वाले अमिताभ बच्चन इससे पहले इतने ग़ुस्से में शायद कभी नहीं दीखे थे। वह इतना ज़्यादा ग़ुस्साए कि उन्होंने लिख दिया- 'ठोक दो *** को'। उनके ग़ुस्से को इससे भी समझा जा सकता है कि उन्होंने इस पर ब्लॉग लिख दिया। ट्रोल को उन्होंने राक्षसों से तुलना की और समाज पर एक कलंक बताया। कोरोना संक्रमण का इलाज करा रहे इस महानायक अमिताभ के लिए उस ट्रोल ने कोरोना से उनकी मौत की कामना कर डाली थी। 

ताज़ा ख़बरें

अमिताभ बच्चन और उनके बेटे अभिषेक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद दोनों को मुंबई के नानावती अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसके बाद उनकी बहू ऐश्वर्या और पोती आराध्या की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। हालाँकि ऐश्वर्या और आराध्या की रिपोर्ट अब निगेटिव आई है और दोनों को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है, लेकिन अमिताभ और अभिषेक की रिपोर्ट अभी भी पॉजिटिव है। 

अमिताभ बच्चन ने ट्रोल की लाइन का ज़िक्र कर अपने ताज़ा ब्लॉग को लिखना शुरू किया। बच्चन ने लिखा, - "वे लोग मुझे लिखते हैं... 'मैं उम्मीद करता हूँ कि इस कोरोना से आप मर जाएँ'।"

बच्चन ने आगे लिखा, "अरे, मिस्टर अज्ञात... आप अपने पिता का नाम भी नहीं लिखते हैं, ... क्योंकि आप नहीं जानते कि आपको किसने जन्म दिया... केवल दो चीजें हैं जो हो सकती हैं... या तो मैं मर जाऊँगा या मैं ज़िंदा रहूँगा। अगर मैं मर जाऊँ तो आपको निंदा लिखने के लिए नहीं मिलेगा और किसी सेलिब्रिटी के नाम पर टिप्पणी लिखने का मौक़ा ख़त्म हो जाएगा।'

amitabh bachchan gives befitting reply to troll saying hope you die with Covid - Satya Hindi
अमिताभ बच्चन ने लिखा कि यदि ईश्वर की कृपा से मैं बच जाता हूँ और जीवित रहता हूँ तो आपको केवल मुझसे ही नहीं, बल्कि बहुत रूढ़िवादी स्तर पर 90+ मिलियन फॉलोअर्स के तूफ़ान का सामना करना पड़ेगा। आगे उन्होंने लिखा कि मैं उनसे बस इतना ही कहना चाहूँगा... 'ठोक दे *** को'।

इसके बाद महानायक ने राक्षसों का ज़िक्र कर ट्रोल को समाज पर कलंक बताया। उन्होंने लिखा- 'मारीच, अहिरावन, महिषासुर, असुर उपनाम हो तुम; हमारा यज्ञ प्रारंभ होते ही तुम राक्षसों की तरह तड़पोगे, जान लो इतना कि अब तुम ही केवल समाज की आवाज़ न हो; चरित्रहीन, अविश्वासी, श्रद्धाहीन, लीचड़ तुम हो; जलो गलो पिघलो, बेशर्म, बेहया, निर्लज्ज, समाज कलंकी....

अपने ही आक्रोश में जल भूनो!'

सिनेमा से और ख़बरें
ट्रोलों को अमिताभ बच्चन के इस जवाब को इस संदर्भ में देखा जा सकता है कि हाल के कुछ वर्षों में जब से सोशल मीडिया पर राजनीतिक दलों की आईटी सेल सक्रिए हुई है, ट्रोलों द्वारा सोशल मीडिया पर गाली-गलौज करना आम बात हो गई है। सबसे ज़्यादा दिक्कत तो यह है कि उनकी बातों से सहमत नहीं होने वाले या फिर सवाल उठाने वाले लोगों को वे रेप और हत्या तक की धमकी दे देते हैं। तार्किकता से तो ट्रोलों को ज़बरदस्त नफ़रत है। लगता है कि तार्किक बातें ही उनका सबसे बड़ा दुश्मन है। लेकिन अमिताभ बच्चन ने जिस अंदाज़ में जवाब दिया है वो किसी ट्रोल के लिए एक सबक़ होना चाहिए। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें