loader

क्या है 'तांडव' में जिसका हो रहा है इतना विरोध?

क्या तांडव में हिन्दू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है और इस तरह बहुसंख्यक हिन्दू समाज की भावनाओं को ठेस पहुँचााई है? 

वेब सिरीज़ 'तांडव' पर विवाद इतना बढ़ गया है कि इसके निर्माता-निर्देशक और कलाकारों की ओर से माफ़ी माँगने के बाद भी मामला शांत नहीं हो रहा है। इस पर आरोप लग रहा है कि इसने हिन्दू देवी-देवताओं का अपमान किया है और इस तरह बहुसंख्यक हिन्दू समाज की भावनाओं को ठेस पहुँचााई है। 

क्या है मामला और इस वेब सिरीज़ में ऐसा क्या है कि हिन्दुओं की भावनाएं आहत हुई हैं? इसके दो दृश्यों पर लोगों को आपत्तियाँ हैं। 

मुहम्मद जीशान अयूब ने जो भूमिका निभाई है, वह एक छात्र नेता की है जो कॉलेज के नाटक में शिव की भूमिका निभाता है। लेकिन नाटक में शिव को पारंपरिक हिन्दू देवता के रूप में नहीं दिखाया गया है। यह कलाकार सूट पहनता है, बाएं हाथ में त्रिशूल रखता है और चेहरे व गले पर नीले रंग का पेंट लगाए हुए है। 

ख़ास ख़बरें
भगवान शिव सोशल मीडिया पर भगवान राम की तुलना में अपनी घटती लोकप्रियता पर चिंता जताते हैं और पूछते हैं कि उन्हें क्या करना चाहिए। इस पर श्रषि नारद उन्हें सलाह देते हैं कि उन्हें कुछ सनसनीखेज ट्वीट कर देना चाहिए। वे यह भी कहते हैं कि विश्वविद्यालय में छात्र आज़ादी-आज़ादी के नारे लगा रहे हैं।
reason behind tandava controversy - Satya Hindi

आपत्ति क्यों?

इस दृष्य में यह भी कहा जाता है कि ये छात्र ग़रीबी, सामंतवाद और जाति- आधारित भेदभाव से आज़ादी चाहते हैं, पर उन्हें ग़लत समझा जा रहा है। भगवान शिव इस पर कहते हैं, "मतलब देश से आज़ादी नहीं चाहिए, देश में रहते हुए आज़ादी चाहिए।"

लोगों को एक दूसरे दृश्य पर भी आपत्ति है, जिसमें संध्या (संध्या मृदुल) और उनके पति कैलाश कुमार (अनूप सोनी) हैं। कैलाश कुमार संध्या के प्रेमी और उसके होने वाले बच्चे के पिता हैं। संध्या कहती है कि उसके पूर्व पति ने उसे एक बार एक बेहूदा बात कही थी। वह अपने पति को उद्धृत करती है। उसके पति ने कहा था कि जब कोई दलित किसी ऊँची जाति की स्त्री से प्रेम करता है तो वह अपने साथ और अपने समुदाय के साथ वर्षों से हुए भेदभाव का बदला लेता है। 

संध्या कहती है, "उसने कहा था कि जब कोई छोटी जाति का एक आदमी एक ऊँची जाति की औरत को डेट करता है, तो सिर्फ बदला लेने के लिए..सदियों के अत्याचारों का ...उस एक औरत से।"

बीजेपी नेताओं का विरोध

संध्या इस बात पर गुस्सा है कि कैलाश ने उससे संबंध बनाने से पहले अपनी पत्नी से तलाक़ लेने के बारे में उससे झूठ बोला था। 

  

बीजेपी नेता और मुंबई के नज़दीक घाटकोपर के विधायक राम कदम शिव को पारंपरिक रूप से नहीं दिखाए जाने पर आपत्ति करते हैं। वे कहते हैं, पहली कड़ी के 17वें मिनट में बहुत ही ग़लत तरीके से कपड़े पहने हुआ व्यक्ति हिन्दू देवी-देवताओं को ग़लत रूप से पेश करता है...इससे हिन्दुओं की भावनाएं आहत हुई हैं।

बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा है कि तांडव हमारे देवी-देवताओं के ख़िलाफ़ नफ़रत फैलाता है और आतंकवादियों को हीरो बना कर पेश करता है। याद दिला दें कि कपिल मिश्रा वही व्यक्ति हैं, जिन्होंने शाहीन बाग आन्दोलन को ख़त्म कराने की माँग दिल्ली पुलिस से करते हुए पुलिस अधिकारी को चेतावनी दी थी कि यदि वह और उसके लोग इस इलाक़े को खाली कराने सड़क पर उतर जाएंगे और तब उन्हें पुलिस भी नहीं रोक पाएगी। इसके बाद ही उस इलाक़े में दंगा शुरू हो गया गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें