loader

इन फ़िल्मों में दमदार एक्टिंग से ऋषि कपूर ने बनाई थी अलग पहचान

अभिनेता ऋषि कपूर ने अपनी एक्टिंग के दम पर अलग पहचान बनाई थी। सिनेमा में रुझान होने के कारण उन्होंने फ़िल्म इंडस्ट्री में क़दम रख दिया था। पिता राज कपूर जो कि फ़िल्म इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता और निर्माता-निर्देशक थे उनकी फ़िल्म मेरा नाम जोकर से ऋषि कपूर ने शुरुआत की थी। इस फ़िल्म में उन्होंने 14 साल के लड़के का किरदार निभाया था जो अपनी शिक्षिका से प्रेम करने लगता है। इस किरदार को ऋषि कपूर ने इस तरीक़े से निभाया था कि लोग पहली ही फ़िल्म से ऋषि कपूर को जानने लगे थे। इसके बाद उन्होंने एक के बाद एक कई हिट फ़िल्में दीं और अपनी अलग पहचान बनाई। आज हम बताने जा रहे हैं ऋषि कपूर की कुछ खास फ़िल्मों के बारे में-

सिनेमा से और ख़बरें

बॉबी (1973)

राज कपूर के निर्देशन में बनी फ़िल्म बॉबी में ऋषि कपूर की एक्टिंग ने दर्शकों का दिल जीत लिया था। इस फ़िल्म के ज़रिए ऋषि ने बतौर अभिनेता अपने करियर की शुरुआत की थी। फ़िल्म में ऋषि के साथ डिंपल कपाड़िया थीं और इसमें दिखाया गया था कि राजा (ऋषि कपूर) को एक बॉबी नाम की लड़की से प्यार हो जाता है लेकिन उनके परिवार शादी के लिए तैयार नहीं होते।

चांदनी (1989)

फ़िल्म चांदनी ऋषि कपूर की चुनिंदा और हिट फ़िल्मों में से एक है। फ़िल्म में ऋषि कपूर ने विनोद खन्ना और श्रीदेवी के साथ काम किया है। फ़िल्म में रोहित (ऋषि कपूर) को चांदनी से प्यार हो जाता है और कुछ समय बाद चांदनी को भी उससे प्यार हो जाता है। लेकिन रोहित को लकवा मार जाता है और वो चांदनी से अपने से दूर कर देता है और फिर चांदनी को ललित (विनोद खन्ना) मिलता है वो भी उससे प्यार करने लगता है।

कर्ज़ (1980)

फ़िल्म क़र्ज़ एक क्राइम-थ्रिलर फ़िल्म थी जिसमें रवि (ऋषि कपूर) का उसकी पत्नी ख़ून कर देती है और रवि का दोबारा जन्म होता है। इसके बाद वो अपनी पिछली ज़िंदगी के बारे में पता लगाता है। इसे सुभाष घई ने डायरेक्ट किया था।

rishi kapoor top 10 movies  - Satya Hindi

ये वादा रहा (1982)

ऋषि कपूर की हिट फ़िल्मों में से एक ‘ये वादा रहा’ भी थी। इसमें ऋषि कपूर ने एक ऐसे लड़के का किरदार निभाया था जिसे एक लड़की से प्यार हो जाता है लेकिन उसकी माँ लड़की को अपनाने से मना कर देती है क्योंकि वह ग़रीब होती है। फ़िल्म में ऋषि के साथ पूनम ढिल्लोन, टीना मुनीम ने काम किया था।

सागर (1985)

फ़िल्म सागर एक ड्रामा फ़िल्म थी जिसमें ऋषि कपूर के साथ डिंपल कपाड़िया और कमल हासन ने काम किया था। इस फ़िल्म में लव ट्रायंगल को दिखाया गया है, राजा मोना से प्यार करता है लेकिन मोना रवि को चाहती है। रवि की माँ मोना को पसंद नहीं करती है और वो उसे अपने बेटे से दूर रहने को कहती है। फ़िल्म में ऋषि कपूर की एक्टिंग ने लोगों का दिल जीत लिया था।

नसीब (1981)

फ़िल्म नसीब में ऋषि कपूर ने अमिताभ बच्चन और हेमा मालिनी के साथ काम किया था। फ़िल्म में ऋषि और अमिताभ की जोड़ी को लोगों ने ख़ूब पसंद किया था। फ़िल्म में लॉटरी के चलते एक मर्डर किया जाता है और इस ख़ून का बदला उसका दोस्त लेता है। फ़िल्म क्राइम-थ्रिलर है।

अमर अकबर एंथोनी (1977)

साल 1977 में आई फ़िल्म अमर अकबर एंथोनी लोगों को ख़ूब पसंद आई थी और इसमें विनोद खन्ना, अमिताभ बच्चन और ऋषि कपूर ने साथ काम किया था। फ़िल्म में तीन भाइयों के बिछड़ने और मिलने की कहानी दिखाई गई है। इसमें ऋषि कपूर ने अच्छी एक्टिंग की थी।

rishi kapoor top 10 movies  - Satya Hindi

आप के दीवाने (1980)

फ़िल्म आप के दीवाने में राकेश रोशन और ऋषि कपूर ने साथ काम किया था और इसमें ऋषि कपूर ने बेहतरीन एक्टिंग की थी। कहानी कुछ इस तरह से थी कि 2 लोग राम और रहीम एक लड़की को ट्यूशन पढ़ाते थे और दोनों को ही उस लड़की समीरा से प्यार हो जाता है।

ताज़ा ख़बरें

कपूर एंड सन्स (2016)

2016 में आई फ़िल्म कपूर एंड सन्स कॉमेडी ड्रामा फ़िल्म है। इसमें ऋषि कपूर ने आलिया भट्ट, सिद्धार्थ मल्होत्रा और फवाद ख़ान के साथ काम किया। कपूर एंड सन्स फ़ैमिली काफ़ी नॉर्मल है लेकिन यहाँ हर किसी ने एक न एक राज छिपा कर रखा है। फ़िल्म में प्यार, दुश्मनी, कंफ्यूजन, दोस्ती, कॉमेडी सब कुछ है। इसमें ऋषि कपूर ने दादाजी का किरदार निभाया है।

102 नॉट आउट (2018)

साल 2018 में रिलीज़ हुई फ़िल्म 102 नॉट आउट में ऋषि कपूर ने अमिताभ बच्चन के साथ काम किया है इसमें अमिताभ ने ऋषि के पिता का रोल अदा किया है। इसमें भी ऋषि और अमिताभ की जोड़ी की लोगों ने काफ़ी तारीफ़ की थी और फ़िल्म में दिखाया गया है कि बूढ़े होने के बाद भी बूढ़ा पिता अपने 90 साल के बूढ़े बेटे को ज़िंदगी ख़ुशी से जीना सिखाता है। 

ऋषि कपूर ने इन फ़िल्मों के अलावा भी कई हिट फ़िल्मों में काम किया है और सभी में लोगों ने उनके काम की सराहना की है। आज भले ही ऋषि कपूर दुनिया को अलविदा कह गए हों लेकिन लोग उन्हें हमेशा उनके काम और उनकी मुस्कान के साथ याद रखेंगे।
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें