loader

मिर्ज़ापुर की गद्दी और बदला लेने की कहानी है 'मिर्जापुर 2'

वेब सीरीज- मिर्ज़ापुर 2

डायरेक्टर-  गुरमीत सिंह और मिहिर देसाई

स्टार कास्ट- पंकज त्रिपाठी, दिव्येंदु शर्मा, अली फज़ल, श्वेता त्रिपाठी, अमित स्याल, आसिफ खान, राजेश तैलंग, विजय वर्मा, रसिका दुग्गल, शाजी चौधरी

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म- अमेज़न प्राइम वीडियो

रेटिंग- ⅗

ख़ून-ख़राबा

जिसका सभी को इंतजार था, आख़िर वह सीरीज़ आ गई। ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो पर सीरीज़ 'मिर्जापुर 2' रिलीज़ हो चुकी है। इसका पहला सीज़न साल 2018 में आया था और इसके दूसरे सीज़न का लोगों को बेसब्री से इंतजार था। पहले सीज़न में भी गोली, गाली और ख़ून-ख़राबा था और दूसरे सीज़न में भी वहीं है। लेकिन साथ ही इस बार मिर्ज़ापुर की गद्दी हथियाने की कहानी को भी दिखाया गया है।

वेब सीरीज़ 'मिर्जापुर 2' का गुरमीत सिंह और मिहिर देसाई ने मिलकर निर्देशन किया है। इसमें लीड रोल में  पंकज त्रिपाठी, दिव्येंदु शर्मा, अली फज़ल और श्वेता त्रिपाठी लीड रोल में हैं। 

'मिर्ज़ापुर 2' की कहानी

गुड्डू पंडित (अली फज़ल) और गोलू (श्वेता त्रिपाठी) अखंडानंद त्रिपाठी उर्फ कालीन भैया (पंकज त्रिपाठी) और मुन्ना त्रिपाठी (दिव्येंदु शर्मा) से अपने भाई बबलू और बहन स्वीटी की मौत का बदला लेना चाहते हैं और साथ ही मिर्ज़ापुर की गद्दी भी छीननी है। गुड्डू और गोलू सीवान में भरत त्यागी (विजय वर्मा) के साथ अफीम का धंधा करने लगते हैं। दूसरी तरफ रतिशंकर शुक्ला का बेटा शरद शुक्ला (अंजुम शर्मा) भी अपने पिता की मौत का बदला और मिर्ज़ापुर लेने की ताक में लगा हुआ है। इसके लिए शरद त्रिपाठी से हाथ मिला लेता है।

कालीन भैया व्यापार से आगे बढ़कर अपना दबदबा बढ़ाने और राजनेता बनने के लिए सीएम से हाथ मिला लेते है और सीएम की विधवा बेटी माधुरी (ईशा तलवार) के साथ मुन्ना त्रिपाठी की शादी करा देते हैं। इन सब से परे गुड्डू के पिता (राजेश तैलंग) और एसपी मौर्या (अमित स्याल) गुड्डू पंडित और मुन्ना त्रिपाठी को सज़ा दिलाने के लिए सबूत जुटाने में लगे हैं।
web series mirzapur 2 on amazon prime video released - Satya Hindi
अब आगे क्या होगा, ये सब जानने के लिए आपको मिर्ज़ापुर 2 देखना पड़ेगा। क्या गुड्डू पंडित और गोलू मुन्ना त्रिपाठी से अपना बदला ले पायेंगे? क्या गुड्डू पंडित को गिरफ्तार कर लिया जायेगा? मुन्ना त्रिपाठी और कालीन भैया के साथ क्या होगा? गुड्डू पंडित या शरद शुक्ला में से किसे मिलेगी मिर्ज़ापुर की गद्दी? 'मिर्ज़ापुर 2' कुल 10 एपिसोड की सीरीज़ है।

निर्देशन

निर्देशक गुरमीत सिंह और मिहिर देसाई ने मिलकर 'मिर्ज़ापुर 2' का निर्देशन किया है। पहले सीज़न में जो मसाला देखने को मिला था, वहीं दूसरे सीज़न में भी है।
'मिर्ज़ापुर 2' में संवाद अच्छे है, लेकिन कहानी थोड़ी और मजबूत हो सकती थी। सीरीज़ में बैकग्राउंड म्यूजिक और सिनेमैटोग्राफी अच्छी है।

एक्टिंग

कालीन भैया के किरदार में पंकज त्रिपाठी ने अपनी शानदार एक्टिंग के बूते अलग छाप छोड़ी है। अली फज़ल ने शानदार अभिनय किया है और हर तरह के भाव उनके चेहरे और एक्टिंग के साथ मेल खाते रहे। श्वेता त्रिपाठी ने अपने किरदार को ठीक ठाक निभाया है। इसके अलावा दिव्येंदु शर्मा ने भी काफी अच्छी एक्टिंग की है।

ईशा तलवार ने अपने किरदार के साथ पूरी तरह से न्याय किया। बाबर के किरदार में आसिफ़ खा़न ने अपने किरदार को बखूबी निभाया है। इसके अलावा अमित स्याल, राजेश तैलंग, विजय वर्मा, रसिका दुग्गल, शाजी चौधरी, शीबा चड्ढा, दिव्येंदु भट्टाचार्य, प्रियांशू पेनयुली, अंजुम शर्मा और  दूसरे कलाकारों ने बेहतरीन अभिनय किया है।
वेब सीरीज़ मिर्ज़ापुर 2 में पहले सीज़न की तरह ही गोली, खून-खराबा और अपशब्द देखने और सुनने को मिलेगा लेकिन शुरू के दो एपिसोड धीमे हैं, जिसमें आपको धैर्य रखना पड़ेगा।
तीसरे एपिसोड से कहानी ट्रैक पकड़ती है। इसके साथ ही इस सीज़न में कहानी सिर्फ मिर्ज़ापुर और जौनपुर तक ही सीमित नहीं है, बल्कि लखनऊ और बिहार के सीवान तक पहुंची है। बदले की कहानी से शुरू हुए दूसरे सीज़न में कुछ भी नया देखने को नहीं मिलेगा और अगर आप खून-खराबा और गालियों से परहेज़ करते है तो 'मिर्ज़ापुर 2' आपको पसंद नहीं आयेगा। 

'मिर्ज़ापुर 2' में थोड़ा बहुत एक्शन, सस्पेंस और कलाकारों की अच्छी परफॉर्मेंस है, जिसके बल पर आप इसे देख सकते है। अगर आपने पहला सीज़न नहीं देखा तो भी दूसरा सीज़न आपको आराम से समझ आ जायेगा और पहले सीज़न 'मिर्ज़ापुर' का फ्लैशबैक दूसरे सीज़न के शुरू होते ही मिल जायेगा। अमेज़न प्राइम वीडियो पर वेब सीरीज़ 'मिर्ज़ापुर 2' मिलेगी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें