loader

नफ़रती नारे: 3 की जमानत खारिज; कोर्ट बोला- वीडियो में अलोकतांत्रिक टिप्पणी

दिल्ली की एक अदालत ने जंतर-मंतर पर कथित भड़काऊ और मुस्लिम विरोधी नारों के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए तीन लोगों की जमानत याचिका खारिज कर दी है। इसके साथ ही अदालत ने कहा कि वीडियो में ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया गया है जो अलोकतांत्रिक है और इस देश के किसी भी नागरिक से अपेक्षित नहीं है। इससे पहले इसी मामले में अदालत ने आरोपी बीजेपी सदस्य अश्विनी उपाध्याय को ज़मानत दे दी थी। 

पिछले रविवार को जंतर मंतर पर एक कार्यक्रम 'औपनिवेशिक युग के क़ानूनों के ख़िलाफ़' हुआ था और उस कार्यक्रम के कई वीडियो सामने आए थे। भारतीय संसद से कुछ ही मीटर की दूरी पर दिल्ली के जंतर-मंतर पर हुए उस मार्च के दौरान कथित तौर पर मुस्लिम विरोधी और उनके ख़िलाफ़ हिंसा के लिए उकसाने वाले नारे लगाए गए थे। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने एफ़आईआर भी दर्ज की है। इस रैली में दिल्ली प्रदेश बीजेपी के पूर्व प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय भी शामिल हुए थे। काफ़ी आलोचनाओं के बाद मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने अश्विनी उपाध्याय समेत 6 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया था। 

ताज़ा ख़बरें

इसी मामले की सुनवाई करते हुए मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट उद्धव कुमार जैन ने गुरुवार को तीन आरोपियों प्रीत सिंह, दीपक सिंह हिंदू और विनोद शर्मा की ज़मानत याचिका खारिज कर दी थी।

दीपक और प्रीत के जमानत वाले मामले में अदालत ने कहा कि उसने वीडियो क्लिपिंग देखी है और ओपन कोर्ट में इसका कुछ हिस्सा चलाया गया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार अदालत ने कहा, 'एक क्लिपिंग में आवेदक/अभियुक्त, जैसा कि वीडियो क्लिपिंग में आईओ द्वारा पहचाना गया है, को तीखी टिप्पणी करते हुए देखा जा सकता है, जो अलोकतांत्रिक है और इस देश के एक नागरिक से अपेक्षित नहीं है जहाँ धर्मनिरपेक्षता जैसे सिद्धांत के बुनियादी मूल्य संविधान में निहित हैं।'

अदालत ने यह माना कि नागरिकों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वास्तव में नागरिकों को हर संभव सीमा तक है लेकिन उसने यह भी कहा कि 'हर अधिकार के साथ एक समान कर्तव्य जुड़ा होता है।' अदालत ने यह भी कहा- 

आईपीसी की धारा 153ए के पीछे का सिद्धांत धार्मिक/सांप्रदायिक सद्भाव को बनाए रखना है और यह प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है कि जब वह खुद को व्यक्त करने के अपने अधिकार का इस्तेमाल करे तो वह धार्मिक सद्भाव को बनाए रखे। यह वास्तव में धर्मनिरपेक्षता का सकारात्मक पहलू है।


मुसलिम विरोधी नारे पर दिल्ली के कोर्ट की टिप्पणी

प्रीत के वकील रुद्र विक्रम सिंह और अश्विनी दुबे ने अदालत को बताया कि वह घटना के समय मौजूद नहीं थे या प्राथमिकी में नाम नहीं था। दीपक की ओर से पेश हुए वकील अवध कौशिक ने तर्क दिया कि उन्हें मामले में झूठा फँसाया गया है।

बता दें कि अदालत ने 11 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के वकील और भाजपा के पूर्व प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय को यह कहते हुए जमानत दे दी थी कि 'मौजूदा मामले में जाँच प्रारंभिक चरण में है, हालाँकि, इसका मतलब यह नहीं है कि किसी नागरिक की स्वतंत्रता को केवल दावे और आशंका से कम किया जा सकता है।'

दिल्ली से और ख़बरें

इस मामले में अश्विनी उपाध्याय का कहना है कि यह कार्यक्रम सेव इंडिया फ़ाउंडेशन की ओर से किया गया था और उनका इस कार्यक्रम से कोई लेना-देना नहीं है। उनके मुताबिक़, उन्हें वहाँ दूसरे लोगों की ही तरह बतौर मेहमान बुलाया गया था और वे 11 बजे कार्यक्रम में पहुंचे थे और 12 बजे वहां से लौट आए थे। उन्होंने यह भी कहा कि वे इस घटना में शामिल शरारती तत्वों को नहीं पहचानते। 

जबकि उपाध्याय ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लोगों से भारत जोड़ो आंदोलन के नाम पर 8 अगस्त को दिल्ली चलो का आह्वान किया था और वह इसे लेकर खासे सक्रिय थे। उपाध्याय ने नफ़रती नारों के मामले में पुलिस में शिकायत देकर कहा है कि अगर वीडियो सही है तो नारे लगाने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जानी चाहिए। कार्यक्रम में बीजेपी नेता गजेंद्र चौहान भी शामिल थे। 

delhi court rejected bail plea of three accused in jantar mantar anti muslim sloganeering - Satya Hindi
दिल्ली के जंतर-मंतर पर रविवार को जिस मार्च में मुसलिमों के ख़िलाफ़ नफ़रत उगली गई उसमें 'जय श्री राम' के नारे लगवाने के लिए पत्रकार को कथित तौर पर डराया-धमकाया गया और उनसे धक्का-मुक्की की गई थी। पत्रकार उस मार्च की रिपोर्टिंग कर रहे थे तभी उसमें शामिल लोगों की भीड़ ने उन्हें घेर लिया। नेशनल दस्तक वेबसाइट से जुड़े पत्रकार अनमोल प्रीतम ने आरोप लगाया था कि इसके बाद उन्हें 'डरा धमकाकर जय श्री राम बुलवाने की कोशिश की गई' और जब उन्होंने ऐसा करने से इनकार किया तो उनके साथ 'धक्का मुक्की भी की गई।' 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें