loader

दिल्ली की शराब नीतिः 11 अफसर सस्पेंड, क्या कई 'बड़े' भी डूबेंगे करप्शन की गंगा में

दिल्ली सरकार के 11 अधिकारियों को उपराज्यपाल ने शनिवार को सस्पेंड कर दिया। इनमें एक आईएएस अधिकारी भी शामिल है। इन सभी पर आरोप है कि ये अधिकारी केजरीवाल सरकार की नई शराब नीति को लागू कराने में शामिल थे। नई शराब नीति को खुद केजरीवाल सरकार ने वापस ले लिया है। लेकिन अब यह मामला और बड़ा हो गया है। इसकी आंच में कई लोग झुलस सकते हैं।

उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने सभी 11 अफसरों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करने को भी मंजूरी दी है। जिन पर कार्रवाई की गई, उनमें तत्कालीन आबकारी आयुक्त, 2012 एजीएमयूटी बैच के आईएएस अधिकारी अरवा गोपी कृष्ण, और तत्कालीन उप आबकारी आयुक्त, 2003 बैच के दानिक्स अधिकारी आनंद कुमार तिवारी सबसे वरिष्ठ ब्यूरोक्रेट थे, जिन्हें सस्पेंड किया गया।  
उपराज्यपाल ने इनके अलावा 3 अन्य दानिक्स अधिकारियों और आबकारी विभाग के 4 अधिकारियों के खिलाफ भी कार्यवाही का भी आदेश दिया। एलजी हाउस के सूत्रों ने बताया कि एलजी विनय कुमार सक्सेना ने यह फैसला आबकारी नीति के क्रियान्वयन में संबंधित अधिकारियों की ओर से गंभीर चूक को देखते हुए लिया है।
सूत्रों ने कहा इन अफसरों में टेंडर को अंतिम रूप देने में कथित अनियमितताएं और चुनिंदा शराब ठेकेदारों को टेंडर के बाद के लाभों को लेने में मदद की। सतर्कता निदेशालय (डीओवी) ने भी अपनी जांच रिपोर्ट में यह बात कही है। 
सूत्रों ने कहा कि दिल्ली की नई आबकारी नीति का फायदा केजरीवाल सरकार ने छह शराब ठेकेदारों को कराया। इन लोगों ने आपस में कर्टेल बनाया और पैसे कमाए। बताया जाता है कि इन्हीं ठेकेदारों ने आम आदमी पार्टी से जुड़े लोगों को भी पार्टी फंड के लिए पैसे दिए। हालांकि इसकी पुष्टि किसी भी स्तर पर नहीं की जा सकती। लेकिन बीजेपी ने यह आरोप खुलकर लगाया है।
दिल्ली सरकार ने पिछले हफ्ते, पिछली आबकारी नीति 2021-22 यह कहते हुए वापस लाने का फैसला किया था। मौजूदा लाइसेंसधारियों को 31 अगस्त तक एक महीने का मौका देते हुए नई नीति के तहत काम समेटने को कहा गया।  
वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई चीफ सेक्रेटरी नरेश कुमार और सतर्कता विभाग की जांच रिपोर्ट के बाद हुई है। चीफ सेक्रेटरी ने 8 जुलाई को उपराज्यपाल और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भ्रष्टाचार और टीओबीआर नियम 57 के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए एक रिपोर्ट सौंपी थी। रिपोर्ट में बड़े भ्रष्टाचार और आबकारी विभाग पर आबकारी मंत्री के निर्देश पर अनुचित लाभ देने का भी आरोप लगाया गया था। आबकारी मंत्री मनीष सिसोदिया जो अब सीबीआई और दिल्ली पुलिस के ईओडब्ल्यू के निशाने पर हैं।
आबकारी विभाग द्वारा आबकारी नीति के संबंध में उनके द्वारा उठाए गए सात सवालों पर मुख्य सचिव को जवाब देने के बाद कृष्णा का तबादला कर दिया गया था।

इस रिपोर्ट के बाद, एलजी ने पिछले हफ्ते जुलाई में कुमार को नीति के अवैध निर्माण और कार्यान्वयन में अधिकारियों और सिविल सेवकों की भूमिका पर एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।
सूत्रों ने कहा कि अधिकारी भी जांच के दायरे में हैं क्योंकि उन्होंने यह जानने के बावजूद कि "गैरकानूनी गतिविधियां चल रही हैं और कैबिनेट की ओर से सिसोदिया द्वारा एलजी की मंजूरी के बिना बदलाव किए जा रहे हैं, संबंधित प्राधिकरण को सूचित नहीं किया।

दिल्ली से और खबरें

हालांकि सिसोदिया सारे आरोपों से इनकार कर रहे हैं। अब उनका कहना है कि सारे फैसले पिछले उपराज्यपाल के दफ्तर में लिए गए थे। क्योंकि अंतिम फैसला वहीं से हुआ था।

बहरहाल, दिल्ली सरकार शराब नीति के मामले में बुरी तरह फंस गई है। इस मामले की आंच आम आदमी पार्टी पर आ रही है। यह पार्टी और इसके मुखिया अरविंज केजरीवाल भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन चलाकर सत्ता में आए थे। वही पार्टी अब भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रही है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें