loader

संजीव भट्ट की पत्नी ने कहा, मेरी और बेटे की हत्या की कोशिश

गुजरात दंगों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका पर सवाल उठाने वाले पूर्व आईपीएस ऑफ़िसर संजीव भट्ट की पत्नी ने कहा है कि उन्हें और उनके बेटे को जान से मारने की कोशिश की गई। भट्ट की पत्नी, श्वेता संजीव भट्ट ने एक फ़ेसबुक पोस्ट लिखकर 7 जनवरी को हुई एक घटना के बारे में विस्तार से बताया है। संजीव भट्ट को 2011 में गुजरात सरकार ने नौकरी से निलंबित कर दिया था और बाद में उन्हें हटा दिया गया था। भट्ट 22 साल पुराने एक मामले में 125 दिनों से जेल में हैं और गुजरात हाई कोर्ट में उनकी जमानत याचिका पर सुनवाई होने से ठीक एक दिन पहले ही यह घटना हुई है। 

फ़ेसबुक पोस्ट में श्वेता संजीव भट्ट ने लिखा है, ‘मैंने और मेरे बेटे ने मौत को बहुत क़रीब से देखा। आईआईएम की व्यस्त सड़क पर तेज रफ़्तार से आ रहे एक डंपर ने हमारी कार को ड्राइवर वाली साइड से जोरदार टक्कर मारी। ट्रक के ड्राइवर ने हमें कुचलने की कोशिश की। एक पल को मुझे ऐसा लगा जैसे मैं अपने बेटे को खो दूँगी। यह बस चमत्कार ही था कि हम दोनों बच गए और हमें सिर्फ़ मामूली चोटें आईं।’ नीचे पढ़िए श्वेता की फ़ेसबुक पोस्ट - 

मोदी के ख़िलाफ़ लड़ा था चुनाव

श्वेता ने 2012 में कांग्रेस के टिकट पर अहमदाबाद की मणिनगर विधानसभा सीट से तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ा था, जिसमें उन्हें हार मिली थी। श्वेता ने पोस्ट में आगे लिखा है, ‘भगवान की कृपा से, संजीव के नेक कामों और आपकी दुआओं के कारण हम आज जिंदा हैं और मैं इस पोस्ट को लिख पा रही हूँ।’ 

एक दिन पहले क्यों हुई दुर्घटना?

श्वेता ने 2012 में कांग्रेस के टिकट पर अहमदाबाद में मणिनगर विधानसभा क्षेत्र से तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ा था, जिसमें उन्हें हार मिली थी। श्वेता आगे लिखती हैं, ‘मुझे इस सदमे से निकलने और ऐसा क्यों हुआ, यह सोचने में दो दिन लगे। मैंने सोचा कि सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि गुजरात हाई कोर्ट में सुनवाई से ठीक एक दिन पहले ही यह दुर्घटना क्यों हुई।’ 

डंपर पर नहीं थी नंबर प्लेट 

श्वेता ने कहा, ‘हैरान करने वाली बात यह है कि डंपर ने मेरी कार को पीछे से नहीं, बल्कि ड्राइवर वाली साइड से टक्कर मारी। हमारी कार तेजी से घूमी और डंपर इसे घसीटता चला गया, जबकि टक्कर होने के बाद इसे रुक जाना चाहिए था।’ श्वेता लिखती हैं, ‘डंपर पर न कोई नंबर प्लेट थी, न ही इसका रजिस्ट्रेशन हुआ था और न ही इसके कोई कागजात थे। 

Ex-gujrat IPS Sanjiv Bhatt shweta bhatt conspiracy to murder - Satya Hindi
दुर्घटना के बाद श्वेता की कार। साभार - नेशनल हेरल्ड

'पूरी ताक़त से लड़ेंगे'  

श्वेता लिखती हैं, 'अगर कोई यह सोचता है कि इस तरह की हरकतों से वह हमें डरा देगा या संजीव भट्ट को पीछे हटने को मजबूर कर देगा तो मैं उन सभी को यह बताना चाहती हूँ कि हम घबरा सकते हैं लेकिन डरेंगे नहीं।' उन्होंने कहा कि हम पूरी ताक़त के साथ लड़ाई लड़ते रहेंगे। श्वेता ने कहा, 'उम्मीद है कि नया साल हमारे लिए इंसाफ़ के नए दरवाजे खोलेगा। ईश्वर आप सबको ख़ुश रखे।' 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें