loader
डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के टीकाकरण केंद्र पर प्रधानमंत्री मोदी।फ़ोटो साभार : ट्विटर/नरेंद्र मोदी

100 करोड़ टीके का जश्न मनाने से पहले टीकाकरण के ख़राब हालात तो देख लें!

देश में 100 करोड़ टीके लगने पर जश्न का माहौल तो ठीक है, लेकिन टीकाकरण के मौजूदा हालात भी कम चिंताजनक नहीं है। ये जो टीके लगाए गए हैं इनमें से वैक्सीन लगाने की योग्य आबादी के क़रीब 30 फ़ीसदी लोगों को ही दोनों खुराक लगाई जा सकी हैं। क़रीब 71 करोड़ पहली खुराक लगाई गई हैं और बाक़ी की क़रीब 29 करोड़ ही दूसरी खुराक लगाई जा सकी हैं। एक खुराक लगाने का मतलब है कि वे अभी भी कोरोना संक्रमण से पूरी तरह सुरक्षित नहीं हैं और इसके फैलने का ख़तरा है। बच्चों को अभी भी टीका लगाया जाना शुरू नहीं हुआ है। अक्टूबर महीने में टीकाकरण की रफ़्तार कम हुई है। और काफ़ी पहले जिन्हें टीके लग गए हैं उनमें एंटी-बॉडी कमजोर पड़ने लगी है। यानी ऐसे लोगों के लिए तीसरी खुराक ज़रूरी हैं। 

देश की आबादी 130 करोड़ से ज़्यादा है। सरकार ने ही कहा है कि इनमें से 93-94 करोड़ लोग 18 वर्ष से ज़्यादा उम्र के हैं यानी वयस्क हैं। इसका मतलब है कि सिर्फ़ पूरी वयस्क आबादी को ही टीके लगाने के लिए क़रीब 190 करोड़ खुराक चाहिए। यदि बच्चों को भी शामिल कर लिया जाए तो 260 करोड़ से ज़्यादा खुराक चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें

इस साल की शुरुआत में कोरोना टीके लगाए जाने शुरू किए गए थे। इसका मतलब है कि क़रीब 10 महीने में 100 करोड़ ही टीके लगाए जा सके हैं। यानी पूरी आबादी को टीके लगाने में अभी भी वक़्त लगेगा? सरकार ने कहा था कि वह इस साल के आख़िर तक पूरी वयस्क आबादी को दोनों टीके लगा देगी, लेकिन अब ऐसा होता दिख नहीं रहा है। सरकार अपने इस लक्ष्य से पीछे चल रही है। जहाँ तक बच्चों को टीके लगाने का सवाल है तो उनको टीके लगाए जाने शुरू भी नहीं किए गए हैं। हालाँकि, टीके के इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है, लेकिन इसे लगाए जाने में अभी भी समय लगेगा। 

बहरहाल, 75% वयस्कों को पहली खुराक लगने के बाद सरकार ने बड़े पैमाने पर अपनी पीठ थपथपाने का अभियान छेड़ रखा है। इसकी बानगी स्वास्थ्य मंत्रालय के चमकदार ग्राफिक्स में तो नज़र आती ही है, प्रधानमंत्री मोदी भी इसमें पीछे नहीं दिखाई देते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट कर कुछ इस तरह बधाई दी है-

प्रधानमंत्री मोदी तो ख़ुद आज वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुँच गए। उन्होंने ट्वीट किया, 'आज जब भारत ने वैक्सीन सेंचुरी हासिल कर ली है, तो मैं डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के एक टीकाकरण केंद्र पर गया। वैक्सीन ने हमारे नागरिकों के जीवन में गौरव और सुरक्षा लाई है।'

देश के स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया के कार्यालय ने ट्वीट किया कि मंडाविया 100 करोड़ टीके लगाए जाने के जश्न में एक गीत और ऑडियो-विजुअल फ़िल्म लॉन्च करेंगे।

100 करोड़ खुराक लगाने के बाद सरकार में जिस तरह के जश्न का माहौल दिखाई दे रहा है उससे लगता है कि उनको अपने सामने खड़ी चुनौतियों का एहसास नहीं है। इसकी एक मिसाल तो यही है कि कोविन वेबसाइट पर टीकाकरण की रफ़्तार धीमी होने का संकेत मिल रहा है। 

कोविन वेबसाइट से पता चलता है कि सितंबर महीने में 10 बार ऐसा हुआ कि एक-एक दिन में 80 लाख से ज़्यादा टीके लगाए गए। लेकिन अक्टूबर महीने में केवल दो दिन ऐसा हुआ जब 80 लाख से ज़्यादा टीके लगाए गए।

4 अक्टूबर को पहली और दूसरी खुराक वयस्क आबादी के 70.1% और 26.3% तक मिल पाई थी। इससे पहले यह आँकड़ा 20 सितंबर को 64% और 21.7% था। यानी सितंबर महीने के पखवाड़े में 6.1 और 4.6 पर्सेंटेज प्वाइंट की वृद्धि हुई। जबकि 18 अक्टूबर तक के पखवाड़े में केवल 3.9 और 3.7 पर्सेंटेज प्वाइंट की बढ़ोतरी देखी गई और यह पहली-दूसरी खुराक वयस्क आबादी के 74% और 30% पर लग पाई। साफ़ है कि टीकाकरण की रफ़्तार धीमी हुई है। पिछले दो दिनों में तो 43-44 लाख टीके ही हर रोज़ लगाए गए। 

देश से और ख़बरें

लेकिन विडंबना यह है कि आपूर्ति अब पर्याप्त मात्रा में है। राज्यों के पास 10.78 करोड़ खुराक स्टॉक में पड़ी हैं। इसका मतलब साफ़ है कि लोगों को टीका लगवाने के लिए उस तरह प्रोत्साहित नहीं किया जा रहा है, उस तरह का अभियान नहीं चलाया जा रहा है जिस तरह पहले किया जा रहा था। इसकी ज़िम्मेदारी जितनी स्वास्थ्य कर्मियों की है उतनी ही सरकार की भी। बहरहाल, 100 करोड़ टीका लगाने के जश्न में कोई कमी नहीं दिख रही है। 

वैसे, दुनिया भर के विकसित देशों से तुलना करें तो भारत ने अपनी वयस्क आबादी के जितने प्रतिशत लोगों को दोनों खुराक लगवाई हैं उससे कहीं ज़्यादा दूसरे कई देशों ने लगवाई हैं। ब्लूमबर्ग वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार अमेरिका ने ऐसे 57 फ़ीसदी, चीन ने 74 फ़ीसदी, जापान ने 68 फ़ीसदी, इंग्लैंड ने 68 फ़ीसदी, ब्राज़ील ने 51 फ़ीसदी, कनाडा ने 73 फ़ीसदी, यूरोपीय यूनियन ने 66 फ़ीसदी लोगों को दोनों टीके लगवा दिए हैं। चीन अब तक सबसे ज़्यादा 223 करोड़ से भी ज़्यादा खुराक लगवा चुका है। 

ख़ास ख़बरें

पूरी आबादी को दोनों खुराक नहीं लगने का ही असर है कि कई देशों में फिर से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। डेल्टा-प्लस वैरिएंट फिर से सिर उठा रहा है। इसकी एक वजह यह भी है कि वैक्सीन से बनी एंटी-बॉडी कमजोर पड़ने लगी है। इसीलिए अब तीसरी खुराक देने की ज़रूरत बताई जा रही है। कुछ देशों में तीसरी खुराक देने की शुरुआत की भी जा चुकी है, लेकिन भारत में अभी तक इसकी पहल भी नहीं हुई है। भारत में जो अलग-अलग राज्यों में वैक्सीन का स्टॉक पड़ा हुआ है उसका लोगों को तीसरी खुराक देने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन लगता है कि अभी तक इसके लिए कोई ठोस योजना भी नहीं बनी है!

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें