loader

JEE और NEET को टलवाने के लिए छह राज्य पहुँचे सुप्रीम कोर्ट

अगले महीने सितंबर में होने वाली JEE और NEET को फ़िलहाल टाल देने की माँग को लेकर छह राज्यों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। इसके लिए पश्चिम बंगाल, झारखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, पंजाब और महाराष्ट्र की ओर से सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन दाखिल की गई है। इस याचिका में सुप्रीम कोर्ट से 17 अगस्त के आदेश की समीक्षा की माँग की गई है, जिसमें कोर्ट ने परीक्षा कराने को हरी झंडी दी थी। याचिका में कहा गया है कि कोरोना महामारी को देखते हुए सितंबर में होने वाली JEE और NEET को स्थगित कर दिया जाए।

छह राज्यों के छह कैबिनेट मंत्रियों की तरफ़ से दाखिल की गयी याचिका में कहा गया है कि, “जेईई और नीट परीक्षा को कराये जाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का जो आदेश आया है उसमें छात्रों के स्वास्थ्य सुरक्षा और उनके जीवन की सुरक्षा के महत्त्वपूर्ण पहलू को नज़रअंदाज़ किया गया है। नीट 13 सितंबर को और जेईई (मेंस) 1 से 6 सितंबर तक कराये जाने के नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के निर्णय में परीक्षाओं के संचालन में आने वाली तार्किक कठिनाइयों को सुप्रीम कोर्ट के आदेश में नज़रअंदाज़ कर दिया गया है”।

ताज़ा ख़बरें

छह कैबिनेट मंत्रियों की तरफ़ से एडवोकेट सुनील फर्नांडीज ने याचिका लगाई है। इसमें कहा गया है कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की तरफ़ से आये आँकड़ों के मुताबिक़ नीट में क़रीब 15.97 लाख और जेईई (मेंस) में 9.53 लाख छात्र शामिल होने जा रहे हैं। भारत में कोविड महामारी के संक्रमितों की संख्या 33 लाख से ज़्यादा हो चुकी है जबकि कोविड ने देशभर में 60 हज़ार लोगों की अब तक जान ली है। जेईई (मेंस) के लिए देशभर में 660 सेंटर बनाये गये हैं जिसमें औसतन 1443 बच्चें शामिल होंगे जबकि नीट के लिए 3843 सेंटर बनाये गये हैं जिनमें औसतन 415 बच्चे शामिल होंगे। इस प्रकार से जहाँ केन्द्र सरकार ने सभी सार्वजनिक कार्यक्रमों पर भीड़ और सोशल डिस्टैंसिग को देखते हुए रोक लगा रही है, वहाँ इतनी भीड़ में बच्चों का शामिल होना उनके स्वास्थ्य और कोरोना वायरस के लगातार प्रसार को देखते हुए गैरवाजिब होगा।

याचिका में 17 अगस्त के सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पुनर्विचार की माँग करते हुए कहा गया है कि,

“याचिका दाखिल करने का मक़सद केन्द्र सरकार पर कोई राजनैतिक आरोप-प्रत्यारोप नहीं करना है, बल्कि केन्द्र सरकार द्वारा जारी की गयी गाइडलांइस के मुताबिक़ परीक्षा केन्द्रों में शरीर का तापमान लेकर परीक्षा में बैठने की अनुमति देना या न देना शामिल होगा, जबकि यह साबित तथ्य है कि देश में लाखों लोग बिना किसी लक्षण के भी कोरोना संक्रमित हैं। इस तरह लाखों बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करना ग़लत साबित होगा”। 

सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल करने वालों में पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री मोलॉय घाटक, झारखंड सरकार के कैबिनेट मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव, राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री डॉ. रघु शर्मा, छत्तीसगढ़ सरकार में मंत्री अमरजीत भगत, पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू, और महाराष्ट्र सरकार के मंत्री उदय रवींद्र सामंत शामिल हैं। 

देश से और ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद से ही कांग्रेस समेत कई भाजपा विरोधी दलों ने फ़ैसले के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाना शुरू कर दिया था। कांग्रेस पार्टी की तरफ़ से कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने ग़ैर भाजपा शासित कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों और प्रमुखों से बातचीत करके सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का प्रस्ताव दिया था। 

पहले सुप्रीम कोर्ट ने जेईई मेन्स और नीट को स्थगित करने संबंधी याचिका को खारिज कर दिया था और कहा था कि छात्रों के बहुमूल्य शैक्षणिक वर्ष को बर्बाद नहीं किया जा सकता। कांग्रेस और कुछ विपक्षी दलों की माँग है कि कोविड-19 महामारी के फैलने और कुछ राज्यों में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए परीक्षा को टाल देना चाहिए। वहीं सरकार ने स्पष्ट किया है कि परीक्षा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उपयुक्त सावधानी बरतते हुए आयोजित की जाएगी। कोरोना वायरस के कारण ये परीक्षाएँ पहले ही दो बार टाली जा चुकी हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
विप्लव अवस्थी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें