loader
लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी

अग्निपथः सरकार ने खजाना खोला, देश पर जान देने वाले अग्निवीरों को 1 करोड़

अग्निपथ योजना को कामयाब बनाने के लिए सरकार ने खजाना खोल दिया है। सेना की ओर से रविवार दोपहर को लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कई खास घोषणाएं कीं। प्रमुख घोषणा में कहा गया है कि अगर कोई अग्विवीर देश पर जान कुर्बान करता है तो उसके परिवार को एक करोड़ रुपये सरकार देगी। उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि सेना में अब पहले जैसी रेगुलर भर्ती नहीं होगी। यानी अब अग्निपथ के जरिए ही सेना में जवान भर्ती होंगे।

उन्होंने कहा कि  अगले 4-5 वर्षों में, हम 50,000-60,000 सैनिक भर्ती करेंगे जो बाद में बढ़कर 90,000 - 1 लाख तक जाएगा। हमने योजना का विश्लेषण करने के लिए 46,000 से छोटी शुरुआत की है। हम बुनियादी ढांचे की क्षमता बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। लेकिन अब सेना में रेगुलर भर्तियां नहीं होंगी।

ताजा ख़बरें

लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी सैन्य मामलों के विभाग के अतिरिक्त सचिव भी हैं। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि  हम सेना में युवाओं को समान अनुपात में जोश और होश का संयोजन चाहते हैं। अग्निपथ लाने का मकसद ये है कि आने वाले युद्ध तकनीकी रूप से लड़े जाएंगे। आज का युवा तकनीक में माहिर है। इसलिए सरकार अग्निपथ और अग्निवीर योजना लाई है।

अग्निवीरों को सियाचिन और अन्य क्षेत्रों में वही भत्ता मिलेगा जो वर्तमान में सेवारत नियमित सैनिकों पर लागू है। सेवा शर्तों में अग्निवीरों के साथ कोई भेदभाव नहीं होगा।


-लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी, रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में

चार साल के बाद अग्निवीर क्या करेंगे, इसका जवाब उन्होंने इस उदाहरण से दिया। उन्होंने कहा कि हर साल लगभग 17,600 लोग तीनों सेवाओं से समय से पहले रिटायरमेंट ले रहे हैं। कभी किसी ने उनसे यह पूछने की कोशिश नहीं की कि रिटायरमेंट के बाद वे क्या करेंगे?

अग्निपथ स्कीम वापस नहीं होगी। जिनके खिलाफ एफआईआर दर्ज है, वो तीनों सेनाओं में कभी भी ज्वाइन नहीं कर सकेंगे। भारती सेना एक अनुशासित संगठन है। इसमें प्रदर्शन, तोड़फोड़ की कोई जगह नहीं है। इसमें सौ फीसदी वेरिफिकेशन होगा।


-लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी, रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में

उन्होंने कहा कि विभिन्न मंत्रालयों और विभागों द्वारा घोषित 'अग्निपथ' के लिए आरक्षण के संबंध में घोषणाएं पहले ही तैयार कर ली गई थीं। वो घोषणाएं अग्निपथ योजना की घोषणा के बाद आगजनी की प्रतिक्रिया में नहीं की गई हैं।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के लिए भर्ती प्रक्रियाः 24 जून से ऑनलाइन शुरू होगी भर्ती। 24 जुलाई को पहले चरण की ऑनलाइन परीक्षा शुरू होगी। दिसंबर अंत के पहले चरण में नामांकन होगा। 30 दिसंबर से पहले बैच का प्रशिक्षण शुरू होगा।

नौसेना (नेवी) की भर्ती योजना

  • 21 नवंबर को पहला अग्निवीर जत्था प्रशिक्षण केंद्र पर देगा रिपोर्ट
  • नौसेना में अग्निवीर जेंडर न्यूट्रल होगी
  • महिलाओं को काम पर रखा जाएगा
  • इस साल 21 नवंबर से पहला नौसैनिक 'अग्निवीर' प्रशिक्षण प्रतिष्ठान आईएनएस चिल्का, ओडिशा में पहुंचना शुरू हो जाएगा। इसके लिए महिला और पुरुष दोनों अग्निवीरों की अनुमति है।

देश से और खबरें

इस मौके पर घोषणा की गई कि 1 जुलाई से सभी भर्ती कार्यालयों से नोटिफिकेशन जारी होगा। उसमें रजिस्ट्रेशन का विकल्प मिलेगा। सेना में भर्ती के लिए रैलियां अगस्त के पहले पखवाड़े में शुरू होंगी। सभी कैंडिडेट्स को यह लिखकर देना होगा कि उन्होंने अग्निपथ विरोधी किसी भी आंदोलन में हिस्सा नहीं लिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें