loader

अरूण मिश्रा ने जम्मू-कश्मीर के लिए क्यों की अमित शाह की तारीफ़?

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष अरूण मिश्रा ने मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह की जमकर तारीफ़ की। मिश्रा ने एक कार्यक्रम में कहा कि शाह ने जम्मू-कश्मीर में एक नये युग की शुरुआत की है। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे। 

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के 28वें स्थापना दिवस के मौक़े पर आयोजित कार्यक्रम में मिश्रा ने कहा कि भारत पर मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाने का नियम बन गया है और ऐसा अंतरराष्ट्रीय ताक़तों के इशारे पर होता है। 

कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ लोग मानवाधिकारों को लेकर सलेक्टिव एप्रोच रखते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग मानवाधिकारों को राजनीतिक फ़ायदे-नुक़सान के चश्मे से देखते हैं। उन्होंने कहा कि सलेक्टिव व्यवहार लोकतंत्र के लिए बेहद ख़तरनाक है। 

ताज़ा ख़बरें

कौन हैं अरूण मिश्रा?

अरूण मिश्रा को सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त होने के बाद इस साल राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष बनाया गया था। मिश्रा ने सुप्रीम कोर्ट का जज रहने के दौरान एक कार्यक्रम में कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं, जिनके पास वैश्विक नज़रिया है और काम स्थानीय स्तर पर करते हैं। उन्होंने मोदी को 'अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख़्यात विज़नरी' बताया था। 

मोदी की तारीफ़ करने पर बार एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने उनकी आलोचना की थी। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व जस्टिस मिश्रा के बयान को लेकर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने तंज कसा है। रमेश ने कहा है कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री गुजरात के दिनों से ही मानवाधिकारों का मखौल उड़ाते रहे हैं और अब उनकी जुगलबंदी अरूण मिश्रा के साथ हो गई है। 

देश से और ख़बरें

मानवाधिकार आयोग का काम देश के हर शख़्स को सरकारी जुल्मों से बचाना है। उसका काम कहीं भी ऐसा होने पर सरकार की आलोचना करना और पीड़ितों को इंसाफ़ दिलाना भी है। लेकिन आयोग अगर सरकार के साथ जुगलबंदी करेगा, उसके साथ रिश्ते बेहतर बनाने की कोशिश करेगा तो वह कैसे पीड़ितों के हक़ में मज़बूती से आवाज़ उठा पाएगा। 

अरूण मिश्रा ने कहा है कि अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर में एक नये युग की शुरुआत की है। लेकिन अनुच्छेद 370 ख़त्म करने के बाद जिस तरह कश्मीर में कई महीनों तक आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप रहीं, लंबे वक़्त तक इंटरनेट सेवाएं ठप रहीं, बच्चे स्कूल-कॉलेज नहीं जा सके, कई बड़े नेताओं को लंबे वक़्त तक नज़रबंद कर दिया, कश्मीरियों ने इसकी हज़ारों शिकायतें भी कीं, उनकी परेशानियों पर बात करने का और उन्हें दूर करने का जिम्मा भी अरूण मिश्रा का ही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें