loader

रिपब्लिक टीवी, टाइम्स नाउ पर बॉलीवुड ने ठोंका मुक़दमा

सुशांत सिंह राजपूत कांड में रिया चक्रवर्ती और फिल्म इंडस्ट्री के लोगों को जिस तरह निशाने पर लिया गया, उनका मीडिया ट्रायल किया गया और उन्हें 'नशेड़ी' बताया गया, उससे ख़फ़ा फिल्म उद्योग ने मीडिया घरानों के ख़िलाफ़ कड़ा कदम उठाया है। रिपब्लिक टीवी और टाइम्स नाउ के ख़िलाफ़ मुक़दमा दायर किया गया है। इस मामले में रिपब्लिक के अर्णब गोस्वामी व प्रदीप भंडारी और टाइम्स नाउ के राहुल शिवशंकर व नाविका कुमार को भी नामज़द किया गया है।

4 संगठन, 34 निर्माता

फ़िल्म उद्योग के चार संगठनों और 34 फ़िल्म निर्माताओं ने मिल कर दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। इन निर्माताओं में करण जौहर, यशराज फिल्म्स, आमिर ख़ान, सलमान ख़ान और शाहरुख ख़ान की फ़िल्म कंपनियाँ भी शामिल हैं।
याचिका में मांग की गई है कि ये चैनल और इनके सोशल मीडिया प्लैटफ़ॉर्म ग़ैरज़िम्मेदाराना, अपमानजनक और अवमानना वाली सामग्री प्रकाशित न करें और इस तरह की बातें न कहें। इसमें यह भी कहा गया है कि फ़िल्मी हस्तियों का मीडिया ट्रायल बंद हो और इस उद्योग के लोगों की निजता के अधिकार का उल्लंघन न किया जाए।
ख़ास ख़बरें
सबसे पहले रिपब्लिक टीवी ने ही रिया चक्रवर्ती पर ड्रग्स लेने, सुशांत को ड्रग्स देने और यहाँ तक कि ड्रग्स कार्टेल का सदस्य होने की बात कही थी। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने अपनी शुरुआती जाँच के बाद रिया चक्रवर्ती को सुशांत को ड्रग्स देने  और ड्रग्स रखने और ड्रग्स कार्टेल से जुड़ी बताया था।
इस मामले में रिया चक्रवर्ती को तक़रीबन एक महीने तक जेल की सलाखों के पीछे भी रहना पडा था। बाद में अदालत ने लगभग क्लीन चिट देते हुये रिया को ज़मानत दे रिहाई के आदेश दिये थे। इसी के साथ करण जौहर के घर पर बने एक विडियो को दिखा कर फिल्म इंडस्ट्री पर ये आरोप लगाया गया था कि ये सब नशेड़ी हैं। 

इस विडियो में करण जौहर, शाहिद कपूर, अर्जुन कपूर, विकी कौशल को साफ देखा जा सकता था। करण जौहर के बार बार सफाई देने के बावजूद इन लोगों पर कीचड़ उछाले गये और विडियो के आधार पर कहा गया कि ये ड्रग पार्टी थी। रिपब्लिक टीवी और टाइम्स पर इन विडियो के आधार पर गंभीर आरोप लगाये गये और इकतरफ़ा डिबेट की गयी। 

मीडिया ट्रायल

याद दिला दें कि यह पहली बार नहीं हुआ है जब रिपब्लिक टीवी पर इस तरह के मीडिया ट्रायल का आरोप लगा है या अदालत ने उसे फटकार लगाई है। इसके पहले सुनंदा पुस्कर मृत्यु के मामले में भी कांग्रेस सांसद व सुनंदा के पति शशि थरूर ने अणर्ब गोस्वामी के खिलाफ़ याचिका दायर की थी।
दिल्ली हाई कोर्ट ने अर्णब गोस्वामी से जुड़े मामले में कहा था कि मीडिया को समानांतर ट्रायल चलाने या बिना पुख्ता सबूत के दावे करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। कोर्ट ने जवाब देने के लिए अर्णब गोस्वामी को नोटिस जारी किया था। थरूर ने याचिका दायर कर आरोप लगाया था कि सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में अर्णब गोस्वामी बिना किसी सबूत के हत्या की ख़बरें प्रसारित कर रहे हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें