loader

ब्राज़ील में कोवैक्सीन खरीद की जाँच, घपले का आरोप

ब्राज़ील के अधिकारियों ने भारतीय कंपनी भारत बायोटेक से कोरोना टीका कोवैक्सीन खरीद की जाँच शुरूर कर दी है।

अधिकारियों को इस बात का पता लगाना है एक ऐसा टीका जिसके प्रभाव के बारे में कोई पुख़्ता जानकारी नहीं है और विश्व स्वासथ्य संगठन ने भी जिसकी सिफ़ारिश नहीं की है, क्यों खरीदा गया। 

भारत बायोटेक के साथ हुए क़रार, ब्राज़ील के राष्ट्रपति जेअर बोइसोनेरो की भूमिका और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके रिश्तों की जाँच भी की जा रही है। 

ख़ास ख़बरें

भ्रष्टाचार के आरोप

बोइसोनेरो पर कोरोना टीका खरीद में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा है और लोगों ने सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किए हैं। मामले की जाँच ब्राज़ील का संसदीय जाँच आयोग (सीपीआई) कर रहा है। 

ब्राज़ील ने भारत बायोटेक से 1.6 अरब रियाल (ब्राज़ील की मुद्रा) यानी लगभग 30 करोड़ डॉलर में कोवैक्सीन की दो करोड़ खुराक़ें खरीदीं। एक खुराक़ की कीमत 15 डॉलर रखी गई थी और यह सबसे महंगा कोरोना टीका साबित हुआ था।

ब्राज़ील की कंपनी प्रेसिज़ा मेडिकामेन्टोज़ ने इस सौदे में बिचौलिए की भूमिका निभाई थी और भारत बायोटेक व ब्राज़ील सरकार में सौदा करवाया था।

घपले की जाँच!

ब्राजील के सीनेटर यानी सांसद रेनन कैलेरोज़ ने कहा है कि वे हर घपले की जाँच कराएंगे। वे ब्राज़ील के संसदीय आयोग यानी सीपीआई के प्रमुख बनाए गए हैं। 

'द वायर' के अनुसार, ब्राज़ील के संसदीय आयोग के पास ऐसे काग़ज़ात हैं, जिनसे यह पता चलता है कि भारत बायोटेक से कोवैक्सीन खरीदने में ज़्यादा जल्दीबाजी दिखाई गई और इसके लिए बहुत दबाव बनाया गया। 

brazil probes bahrat biotech covaxine deal - Satya Hindi
ब्राज़ील की संसद ने अप्रैल में ही कोरोना से निपटने में राष्ट्रपति बोइसोनेरो के कामकाज की जाँच शुरू कर दी थी। पर बीते कुछ हफ़्तों में एस कुछ ऐसे विस्फोटक सबूत मिले हैं, जिससे जाँच की दिशा ही बदल गई है।
अब सरकार के कामकाज ही नहीं, इसकी भी जाँच की जा रही है कि क्या कोरोना टीकों, दवाओं व उपकरणों की खरीद में भ्रष्टाचार किया गया है।

एमडी से पूछताछ

जाँच से पता चला है कि बिचौलिया कंपनी प्रेसिज़ा मेडिकामेंन्टोज़ को जो 10 करोड़ डॉलर की रकम मिली, वह उसकी कुल सेवा शुल्क का एक तिहाई हिस्सा ही है। हालांकि सरकार ने बिचौलिए को कोई रकम देने से इनकार किया है, पर यह सवाल उठ रहा है। संसदीय आयोग ने प्रेसिज़ा मेडिकामेंन्टोज़ के प्रबंध निदेशक फ्रांसिस्को मैक्सिमियानो को पूछताछ के लिए 23 जून को तलब किया है। 

बता दें कि ब्राज़ील के राष्ट्रपति शुरू में कोरोना को महामारी ही नहीं मान रहे थे, वे इसके इलाज, टीका या दवा के ख़िलाफ़ थे। बाद में जब ब्राज़ील में मौत होने लगी तो उन्होंने भारत से हाइड्रोक्सोक्लोरोक्विन की दवा माँगी। 

हालांकि इस दवा से कोरोना के इलाज में कोई फ़ायदा होता हो, ऐसा नहीं है, पर अमेरिका के वैज्ञानिकों ने पाया था कि इस दवा के नियमित इस्तेमाल से कोरोना संक्रमण रोकने में मदद मिलती है। इसके बाद पहले अमेरिका ने भारत से यह दवा ली और उसके बाद ब्राज़ील ने।

ब्राज़ील के राष्ट्रपति ने सीधे नरेंद्र मोदी को फोन किया और उनसे दवा माँगी। उन्होंने मोदी को बताया था कि किस तरह हनुमान ने लक्ष्मण के मूर्छित होने पर संजीवनी बूटी लाकर दी थी और लक्ष्मण का इलाज किया गया था।

हाइड्रोक्सिक्लोरोक्विन खरीद पर भी सवाल

ब्राजील में यह सवाल पूछा जा रहा है कि जब हाइड्रोक्सिक्लोरोक्विन के प्रभााव के बारे में पक्की जानकारी नहीं थी तो भारत से यह दवा क्यों आयात की गई। 

जब भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को भारत में मंजूरी मिल गई तो जेअर बोइसोनेरो ने प्रधानमंत्री मोदी को सीधे फोन किया और उनसे दवा देने को कहा। 

ब्राजील में सवाल उठ रहा है कि कोवैक्सीन के प्रभाव को लेकर कोई पक्की  जानकारी नहीं थी, किसी ने इसके प्रभाव की पुष्टि नहीं की थी, खुद कंपनी ने तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजों का एलान नहीं किया था। ऐसे में यह दवा ली ही क्यों गई। 

brazil probes bahrat biotech covaxine deal - Satya Hindi

ब्राज़ील में यह सवाल भी पूछा जा रहा है कि सीधे उत्पादक कंपनी से दवा न लेकर किसी बिचौलिए को लाने की क्या ज़रूरत थी जब किसी तरह के आयात में बिचौलियों की भूमिका से पहले ही खारिज कर दिया गया था। 

ब्राज़ीलियन हेल्थ रेगुलेटरी एजेंसी एएनवीआईएसए ने कोवैक्सीन की कीमत पर सवाल उठाते हुए पूछा था कि दुनिया की सबसे महँगी वैक्सीन क्यों खरीदी गई। 

ब्राज़ील में तीन तरह के कोरोना टीका हैं। चीन की मदद से बनाया गया कोरोनावैक, एस्ट्राज़ेनेका का टीका और फ़ाईज़र का टीका। इसके बीच भारत बायोटेक से कोवैक्सीन भी खरीदा गया, जो सबसे महंगा है और विवादास्पद भी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें