loader

एनसीईआरटी ने 12वीं की किताब से हटाया गुजरात दंगों से जुड़ा कंटेंट 

एनसीईआरटी ने 12वीं कक्षा की किताब से गुजरात दंगों के कंटेंट को हटा दिया है। 12वीं कक्षा में राजनीतिक विज्ञान के पाठ्यक्रम में गुजरात दंगों से जुड़ा कंटेंट था। इसके पीछे कोरोना महामारी के मद्देनजर पाठ्य पुस्तकों को और बेहतर बनाने का हवाला दिया गया है।

एनसीईआरटी की ओर से एक बयान जारी कर कहा गया है कि 12वीं की किताब में पेज नंबर 187 से 189 तक गुजरात दंगों का जिक्र था, इसे और कुछ और कंटेंट को किताबों से हटा दिया गया है। 

बता दें कि साल 2002 में गुजरात में दंगे हुए थे और इसमें बड़ी संख्या में जान माल की हानि हुई थी। गुजरात दंगों को लेकर तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी पर तमाम गंभीर सवाल उठे थे। 

ताज़ा ख़बरें
गुजरात दंगों से जुड़ी हुई तस्वीरों को भी किताब से हटा दिया गया है।  किताबों में गुजरात दंगों से जुड़ा जो कंटेंट था उसमें तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की ओर से नरेंद्र मोदी को राजधर्म का पालन करने की नसीहत भी थी। याद दिला दें कि गुजरात दंगों के बाद अटल बिहारी वाजपेयी ने नरेंद्र मोदी से कहा था कि उन्हें राजधर्म का पालन करना चाहिए और किसी भी राजा को जाति, धर्म के आधार पर किसी तरह का भेदभाव नहीं करना चाहिए।

इसके अलावा किताब के पेज नंबर 105 पर नक्सल आंदोलन से जुड़ा इतिहास भी था और पेज 113 से पेज 117 तक आपातकाल से जुड़े हुए विवाद भी थे, इन्हें भी हटा दिया गया है।

एनसीईआरटी ने कहा है कि कोरोना महामारी के कारण बने हालात के मद्देनजर यह जरूरी था कि छात्रों के लिए किताबों से थोड़ा बोझ कम किया जाए। एनसीईआरटी ने कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 भी इसी बात पर जोर देती है और इसे ध्यान में रखते हुए ही सभी कक्षाओं की किताबों को युक्तिसंगत बनाने का प्रयास किया गया है। 

देश से और खबरें

इससे पहले 2020 में असम की बीजेपी सरकार ने मंडल आयोग की रिपोर्ट, जवाहरलाल नेहरू पर पाठ, 2002 के गुजरात दंगों पर लिखे गए पाठ को असम में 12वीं कक्षा के सिलेबस से कोरोना महामारी के मद्देनजर 30% की कटौती की नीति के रूप में हटा दिया था। 

विवाद होने के बाद असम सरकार ने कहा था कि हटाये गये पाठों को राज्य भर के शिक्षकों और विषय विशेषज्ञों के साथ परामर्श के बाद चुना गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें