loader

टीकाकरण: जुलाई में लक्ष्य से भी पीछे; इस साल सबको टीके कैसे लगेंगे?

कोरोना टीकाकरण की रफ़्तार कितनी धीमी हो गई है यह इससे भी पता चलता है कि जुलाई महीने में 13.5 करोड़ का लक्ष्य भी पूरा होता नहीं दिख रहा है। इस रविवार तक 9.94 करोड़ खुराक लगाई जा सकी है और मौजूदा रफ़्तार से आगे भी वैक्सीन लगाई जाती है तो 12.5 करोड़ टीके इस महीने लगाए जाने की संभावना है। फ़िलहाल हर रोज़ औसत रूप से 38.26 लाख खुराक लगाई जा रही है।

को-विन वेबसाइट पर दिए गए आँकड़ों के अनुसार 26 जून को जहाँ 65 लाख टीके लगाए गए थे वहीं 25 जून को 20 लाख टीके ही लगाए जा सके। अब यदि 13.5 करोड़ के लक्ष्य को पूरा करना है तो हर रोज़ 60 लाख टीके लगाए जाने होंगे। लेकिन क्या यह संभव है, वह भी तब जब इस पूरे महीने में सिर्फ़ दो बार ही 60 लाख टीके लगाए जा सके हैं?

ताज़ा ख़बरें

जुलाई महीने के लिए यह लक्ष्य तब तय किया गया था जब जून महीने में 21 जून को टीकाकरण का नया अभियान शुरू किया गया था। उसी दिन से देश में 18 वर्ष से ज़्यादा उम्र के सभी लोगों के लिए मुफ़्त टीका लगाया जा रहा है। पहले दिन तो खुराक लगाने में रिकॉर्ड बनाया गया, लेकिन इसके बाद से टीकाकरण की गति धीमी हो गई है। को-विन वेबसाइट के इन आँकड़ों को पढ़िए। देश में 21 जून को एक दिन में 91 लाख कोरोना टीके लग गए थे, लेकिन अब हाल के दिनों में हर रोज़ औसत रूप से 38 लाख खुराक ही लगाई जा रही है। 

आधिकारिक आँकड़ों से पता चलता है कि 26 जून को ख़त्म होने वाले सप्ताह में 4.5 करोड़ खुराक लगाई गई थी जो कम होकर 25 जुलाई को ख़त्म होने वाले सप्ताह में 2.8 करोड़ हो गई। 

टीकाकरण अभियान धीमा तब पड़ गया है जब केंद्र सरकार ने तय कर रखा है कि वह इस साल के आख़िर तक वैक्सीन के लिए योग्य पूरी आबादी को टीका लगवा देगी।

पिछले महीन ही यह रिपोर्ट आई थी कि इस साल के आख़िर तक सभी को टीके लगाने के लिए हर रोज़ औसत रूप से 80-90 लाख टीके लगाए जाने की ज़रूरत होगी। पर सरकार इतनी संख्या में टीके नहीं लगवा पा रही है। अब तो औसत रूप से क़रीब 38 लाख ही हर रोज़ टीके लगाए जा रहे हैं। 

covid vaccination behind july target - Satya Hindi
सरकार की ओर से कहा गया था कि जुलाई से टीके की उपलब्धता और बढ़ जाएगी। लेकिन जुलाई महीना अब ख़त्म होने को आया, पर अभी तक टीकाकरण तेज़ होता नहीं दिख रहा है। इस मामले में सरकार ने पहले तो कहा था कि अगस्त से लेकर दिसंबर तक पाँच महीने में 216 करोड़ वैक्सीन उपलब्ध करा देगी, लेकिन बाद में उसने इस आँकड़े को संशोधित किया था। सरकार ने कहा था कि वह 135 करोड़ वैक्सीन ही उपलब्ध करा पाएगी। हालाँकि, मौजूदा हालात में तो यह लक्ष्य भी काफ़ी दूर नज़र आ रहा है।
इस मामले में सरकार ने आज उन मीडिया रिपोर्टों को खारिज कर दिया है जिनमें दावा किया गया था कि भारत जुलाई के अंत में 50 करोड़ कोविड वैक्सीन खुराक हासिल करने के लक्ष्य से चूक जाएगा। सरकार ने कहा है कि ये रिपोर्टें ग़लत जानकारी के साथ और ग़लत तरीक़े से पेश की गई हैं। उसने दावा किया है कि जनवरी से 31 जुलाई तक 51.60 करोड़ से अधिक वैक्सीन खुराक की आपूर्ति की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने हालिया मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए बयान जारी किया है। 
देश से और ख़बरें
देश में फ़िलहाल 44 करोड़ 19 लाख खुराक ही लगायी जा सकी है। देश की टीके के योग्य आबादी की क़रीब 7 फ़ीसदी जनसंख्या को ही दोनों टीके लगाए जा सके हैं। दुनिया भर के कई देशों से इस मामले में भारत पीछे है। 'ब्लूमबर्ग' के वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार, यूरोपीय संघ में 47%, अमेरिका में 49%, ब्रिटेन में 55%, जर्मनी में 49 फ़ीसदी, इटली, स्पेन व कनाडा में 50 फ़ीसदी से ज़्यादा जनसंख्या को पूरी तरह टीका लगाया जा चुका है। ब्राज़ील में भी 17 फ़ीसदी से ज़्यादा आबादी को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। पर्याप्त टीकाकरण की कमी के कारण विकासशील देशों के सामने कोरोना संक्रमण के फैलने का ख़तरा ज़्यादा है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें