loader

देवांगना, नताशा रिहा नहीं हुईं, अदालत ने फ़ैसला सुरक्षित रखा

दिल्ली की एक अदालत ने पिंजड़ा तोड़ आन्दोलन की कार्यकर्ता देवांगना कलिता और नताशा नरवाल की तुरन्त रिहाई करने से जुड़ी याचिका पर आदेश सुरक्षित रख लिया है। यानी, इन दोनों को बुधवार को तिहाड़ जेल से रिहा नहीं किया गया।

दिल्ली पुलिस ने इसके पहले रिहाई से जुड़े एक फ़ैसले को चुनौती देते हुए एक याचिका दायर कर दी थी। उसने अदालत से अभियुक्तों और ज़मानत देने वालों के पतों की पुष्टि के लिए तीन दिन का समय माँगा था। 

कड़कड़डूमा कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रविंदर बेदी ने आवेदकों और एपीपी अमित प्रसाद की ओर से पेश अधिवक्ता अदित एस. पुजारी की दलीलें सुनने के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया।

ख़ास ख़बरें

क्या है मामला?

बता दें कि इसके पहले हाईकोर्ट ने नताशा नरवाल, देवांगना कलिता और आसिफ इक़बाल तन्हा को मंगलवार को यह देखते हुए ज़मानत दे दी थी कि दिल्ली दंगों की साजिश के मामले में उनके ख़िलाफ़ ग़ैरक़ानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत पहली नज़र में अपराध नहीं बनते हैं।

देवांगना कलिता और नताशा नरवाल की न्यायिक हिरासत से रिहाई मंगलवार को उनके पते और जमानत के सत्यापन के अभाव में प्रभावी नहीं हो सकी। हालांकि, आसिफ़ इक़बाल तन्हा पहले ही अंतरिम जमानत पर बाहर हैं।

devangana kalita, natasha narwal of pinjra toda not released  - Satya Hindi
नताशा नरवाल, 'पिंजड़ा तोड़' कार्यकर्ता

क्या आरोप थे?

बता दें कि देवांगना कालिता, नताशा नरवाल और आसिफ़ इक़बाल तन्हा के ख़िलाफ़ पिछले साल उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों को लेकर यूएपीए क़ानून के तहत मुक़दमा दर्ज किया गया था।

देवांगना और नताशा पिंजड़ा तोड़ आंदोलन की कार्यकर्ता हैं जबकि आसिफ़ जामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी के छात्र हैं। 

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में पिछले साल 23 फरवरी को दंगे शुरू हुए थे और ये तीन दिन तक चले थे। इस दौरान यह इलाक़ा बुरी तरह अशांत रहा था और दंगाइयों ने वाहनों और दुकानों में आग लगा दी थी। 

ज़फ़राबाद, वेलकम, सीलमपुर, भजनपुरा, गोकलपुरी और न्यू उस्मानपुर आदि इलाक़ों में फैल गए इस दंगे में 53 लोगों की मौत हुई थी और 581 लोग घायल हो गए थे। 

सीएए का विरोध

दिल्ली पुलिस ने देवांगना कलिता पर आरोप लगाया था कि जब लोग जाफ़राबाद मेट्रो स्टेशन पर सीएए और एनआरसी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे थे तो देवांगना वहां मौजूद थीं और उसने लोगों को उकसाया था। 

पुलिस का कहना था, '5 जनवरी 2020 की एक वीडियो क्लिप है जिसमें देवांगना कलिता सीएए-एनआरसी के ख़िलाफ़ भाषण देती दिख रही हैं। इसके अलावा उनके ट्विटर के वीडियो लिंक से भी यह पता चलता है कि वह 23 फरवरी, 2020 को वहां मौजूद थीं।'

आसिफ़ ने 26 अक्टूबर, 2020 को एक जांच अदालत की ओर से उनकी जमानत याचिका को खारिज किए जाने के आदेश को चुनौती दी थी। हाई कोर्ट में दिल्ली पुलिस के वकील ने आसिफ़ को जमानत देने का यह कहकर विरोध किया कि दंगों की सुनियोजित साज़िश रची गई और आसिफ़ इसका हिस्सा थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें