loader

असम के बीजेपी विधायक की भी हेट स्पीच नहीं हटाई थी, फ़ेसबुक ने माना

भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के हेट स्पीच नहीं हटाने के मुद्दे पर फ़ेसबुक का संकट बढ़ता ही जा रहा है। नए-नए मामले सामने आ रहे हैं और कंपनी से उसका उचित जवाब देना नहीं बन पा रहा है। एक नए मामले में फ़ेसबुक इंडिया पर यह आरोप लगा है कि उसने असम के बीजेपी नेता के नफ़रत फैलाने वाले पोस्ट को जानबूझ कर नहीं हटाया। फ़ेसबुक ने इसे मान लिया है। 

मुसलमान-विरोधी पोस्ट

मशहूर अमेरिकी पत्रिका 'टाइम मैगज़िन' ने एक ख़बर में दावा किया है कि असम के बीजेपी विधायक शिलादित्य देव ने फ़ेसबुक पर एक पोस्ट डाला था, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि 'एक मुसलमान आदमी ने एक बंगाली लड़की को नशा खिला दिया और उसके बाद उसके साथ बलात्कार किया।' इसके बाद शिलादित्य देव ने लिखा, 'ये बांग्लादेशी मुसलमान हमारे लोगों के साथ ऐसा ही व्यवहार करते हैं।'
देश से और खबरें
'टाइम' का कहना है कि यह घटना 2019 की है, उसके बाद एक साल तक फ़ेसबुक ने इस पोस्ट को नहीं हटाया। फ़ेसबुक इंडिया ने ग़ैरसरकारी संगठन 'आवाज़' की ओर से यह मुद्दा उठाने पर टाइम से कहा, 

'जब आवाज़ ने इस ओर ध्यान दिलाया तो हमने इसे पहली बार देखा था, हमारे रिकॉर्ड में यह दर्ज है कि इसे हेट स्पीच माना गया था, पर हम इसे हटा नहीं पाए।'


फ़ेसबुक इंडिया के जवाब का अंश

नहीं हटाई हेट स्पीच

'टाइम मैगज़िन' ने अपनी ख़बर में यह भी कहा कि 'आवाज़' की अलाफ़िया जोएब ने फ़ेसबुक के साउथ एशिया के पब्लिक पॉलिसी डाइरेक्टर शिवनाथ ठकराल से इस मुद्दे पर फ़ोन पर बात की तो वह बीच में ही उठ कर चले गये। 
बता दें कि इसके पहले वॉल स्ट्रीट जर्नल ने एक ख़बर में कहा था कि तेलंगाना के बीजेपी विधायक टी राजा सिंह के हेट स्पीच को पकड़ा गया था। पर फ़ेसबुक इंडिया की पब्लिक पॉलिसी डाइरेक्टर आंखी दास ने उसे हटाने से यह कह कर रोक दिया कि ऐसा करने से कंपनी के भारत में व्यवसाय पर बुरा असर पड़ेगा।
'टाइम मैगज़िन' का कहना है कि भारत में मानवाधिकार के मुद्दे पर स्वतंत्र रिपोर्ट तैयार करने के लिए फ़ेसबुक ने किसी एजेंसी से कहा है। इससे हिंसा भड़काने में हेट स्पीच के असर का आकलन किया जा सकेगा। अमेरिकी क़ानून कंपनी फोली होग को इस पर रिपोर्ट तैयार करने को कहा गया है। इस तरह फ़ेसबुक ने इसके पहले म्यांमार में भी ऐसी ही एक रिपोर्ट तैयार की है। 
फ़ेसबुक पर म्यांमार में यह आरोप लगा था कि उसने रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ़ नफ़रत फैलाने वाले पोस्ट नहीं हटाए। फ़ेसबुक ने इसे स्वीकार भी किया था।

सत्तारूढ़ दल से सांठगांठ

समझा जाता है कि फ़ेसबुक सत्तारूढ़ दल के लोगों के हेट स्पीच को जानबूझ कर नज़रअंदाज करती है ताकि सरकार के साथ उसका समीकरण न बिगड़े।
पर्यवेक्षकों का कहना है कि जिस समय फ़ेसबुक इंडिया ने तेलंगाना के बीजेपी विधायक के हेट स्पीच को नहीं हटाया, उस समय फ़ेसबुक इंक भारत में बड़े पैमाने पर निवेश की संभावना तलाश रहा था। बाद में उसने रिलायंस जियो के साथ करार किया और उसमें 5 अरब डॉलर से अधिक का निवेश किया। फ़ेसबुक की रणनीति भारत के डिजिटल बाज़ार और डिजिटल पेमेंट प्रणाली पर मजबूत पकड़ बनाना है। वह ऐसे में भारत सरकार के साथ बेहतर संबंध रखना चाहता है।
बहरहाल, फ़ेसबुक इंक ने एक कमेटी का गठन किया है, जिसका मकसद इस तरह के हेट स्पीच को रोकने में कंपनी की नाकामियों की ओर ध्यान दिलाना होगा। वह इसके साथ ही उपाय सुझाएगी जिससे इस तरह की गलती भविष्य में न हो। लेकिन इस कमेटी का गठन भी दो साल बाद हुआ है।
दूसरी ओर, अपने कर्मचारियों ने बग़ावत का झंडा बुलंद कर दिया है। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने एक ख़बर में कहा है कि फ़ेसबुक के मुसलमान कर्मचारियों ने कंपनी प्रबंधन को इस मुद्दे पर एक चिट्ठी लिख कर कड़ा विरोध जताया है।
भारत, अमेरिका और मध्य-पूर्व में फ़ेसबुक में काम करने वाले मुसलमानों ने 'मुसलिम एट दे रेट ऑफ़ स्टाफ़र्स फ्रॉम इंडिया, यूएस एंड मिडिल ईस्ट' नाम का समूह बनाया है। इसने कंपनी के शीर्ष अधिकारियों से कहा है कि कंपनी की कंटेट नीति को लागू करने के मामले में बड़े और नामी यूजर्स से जुड़े मामलों में अधिक पारदर्शिता अपनाने की ज़रूरत है। इसके साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि राजनीतिक प्रभाव का कम से कम असर पड़े।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें