loader

दिल्ली-एनसीआर में जमकर फूटे पटाखे, ख़राब हुई हवा, प्रदूषण बढ़ा

दिवाली पर दिल्ली-एनसीआर में जमकर पटाखे फोड़े गए। जबकि इस पर रोक लगाई गई थी। दिवाली की रात और सुबह पूरे शहर में जबरदस्त धुएं का गुबार था। सांस संबंधी दिक्कतों से जूझ रहे लोगों और बुजुर्गों को इससे काफ़ी दिक़्क़त हुई। इसने दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता को भी बेहद ख़राब हालत में पहुंचा दिया। 

दिल्ली में कई जगहों पर लोगों ने दिवाली के धुएं के कारण गले में ख़राश होने और आंखों से पानी निकलने की भी शिकायत की है। 

दिन में ही आतिशबाज़ी

लोगों ने छुट्टी का दिन होने के कारण दिल्ली-एनसीआर में दिन में ही आतिशबाज़ी शुरू कर दी और शाम होते-होते ही यह शबाब पर पहुंच गई। इस दौरान जमकर शोर हुआ और आसमान में धुएं की चादर बन गई। 

ताज़ा ख़बरें

लोगों पर नहीं हुआ असर

प्रदूषण के कारण बने हालात को देखते हुए दिल्ली सरकार ने इस बार भी दिवाली के मौके पर पटाखों की खरीद-बिक्री, उत्पादन और भंडारण पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी थी। हरियाणा सरकार ने भी एनसीआर से सटे हुए 14 जिलों में पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया था। लेकिन बावजूद इसके गुड़गांव और फरीदाबाद में जमकर पटाखे फोड़े गए। 

इसके अलावा पराली के जलाने से जो प्रदूषण बढ़ रहा है, उससे भी हवा ख़राब होती जा रही है। दिल्ली सरकार ने इस बार ‘पटाखे नहीं, दिये जलाओ’ का नारा भी दिया था और लोगों से कहा था कि वे पटाखे ना फोड़ें लेकिन लोगों पर इसका असर नहीं हुआ। दिल्ली सरकार ने कार्रवाई करते हुए 13 हज़ार किलो से ज़्यादा अवैध पटाखों को जब्त कर लिया और नियमों को तोड़ने वाले कई लोगों को गिरफ़्तार भी किया। 

firecrackers burst pollution on Diwali  - Satya Hindi

एक्यूआई

एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (एक्यूआई) यानी हवा गुणवत्ता सूचकांक से हवा में मौजूद 'पीएम 2.5', 'पीएम 10', सल्फ़र डाई ऑक्साइड और अन्य प्रदूषण के कणों का पता चलता है। पीएम यानी पर्टिकुलेट मैटर वातावरण में मौजूद बहुत छोटे कण होते हैं जिन्हें आप साधारण आंखों से नहीं देख सकते। 'पीएम10' मोटे कण होते हैं। लेकिन स्वास्थ्य के लिए ये बेहद ही ख़तरनाक होते हैं। कई बार तो ये कण जानलेवा भी साबित होते हैं।  201 से 300 के बीच एक्यूआई को ‘ख़राब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत ख़राब’ और 401 और 500 के बीच होने पर उसे ‘गंभीर’ माना जाता है।

देश से और ख़बरें

लेकिन दिवाली के बाद एनसीआर में 'पीएम 2.5' के बढ़ने की वजह से हवा ख़राब हो गई। दिल्ली में शाम 4 बजे एक्यूआई 382 था जो शाम 8 बजे तक ‘गंभीर’ स्थिति में पहुंच गया जबकि 9 बजे के बाद फरीदाबाद में यह (424), ग़ाज़ियाबाद में (442), गुड़गांव में (423) और नोएडा में (431) रहा। मतलब साफ है कि हवा बेहद ख़राब होती गई लेकिन लोगों ने पटाखे जलाना नहीं छोड़ा। 

सोशल मीडिया पर बहस

पटाखे फोड़ने पर रोक को लेकर सोशल मीडिया पर भी काफ़ी बहस हुई। कुछ लोगों ने कहा कि हिंदू धर्म के त्योहारों पर ही इस तरह की सीख क्यों दी जा रही है और उन्होंने ख़ुद भी पटाखे फोड़े और दूसरों से भी ज़्यादा से ज़्यादा पटाखे फोड़ने के लिए कहा। निश्चित रूप से इस वजह से आने वाले कुछ दिन तक दिल्ली-एनसीआर में हवा बेहद ख़राब रहेगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें