loader

आंदोलन में किसानों की मौत का आँकड़ा नहीं है, इसलिए आर्थिक मदद नहीं: सरकार

तीन कृषि क़ानूनों को सरकार ने वापस ले लिया है तो क्या किसान आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को सरकार मुआवजा देगी? इस सवाल का जवाब मोदी सरकार ने संसद में दिया है। उसका तर्क पढ़िए। सरकार ने कहा कि उसके पास दिल्ली सीमा पर कैंप कर रहे किसानों की मौत का आँकड़ा ही नहीं है।

विपक्ष के एक सवाल के लिखित जवाब में केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा, 'कृषि मंत्रालय का इस मामले में कोई रिकॉर्ड नहीं है और इसलिए इसका सवाल ही नहीं उठता।'

ताज़ा ख़बरें

किसान नेताओं का कहना है कि नवंबर 2020 से लेकर अब तक सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर विवादास्पद कृषि क़ानूनों का विरोध करते हुए 700 से अधिक किसान मारे गए हैं। मौतें मुख्य रूप से ख़राब मौसम, ख़राब परिस्थितियों से जुड़ी बीमारी और आत्महत्या के कारण हुईं।

किसानों को लेकर दिए गए इस बयान पर विपक्ष के हमले की संभावना है। किसानों के मुद्दे पर संसद में लगातार गतिरोध बना हुआ है। किसान भी प्रदर्शन स्थल से हटने को तैयार नहीं हैं। संयुक्त किसान मोर्चा यानी एसकेएम के साथ, प्रदर्शनकारी किसान अपनी मांगों पर अडिग हैं। वे चाहते हैं कि सरकार किसान नेताओं के साथ बातचीत करे और एमएसपी सहित सभी लंबित मुद्दों का समाधान करे। 

लोकसभा में तीनों कृषि क़ानून को निरस्त करने वाला विधेयक पारित होने के बावजूद एसकेएम ने कहा है कि किसानों का विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी के लिए क़ानूनी गारंटी प्रदान करने की उनकी मांग को स्वीकार नहीं करती। 

एमएसपी के अलावा एसकेएम ने प्रदर्शन कर रहे किसानों के ख़िलाफ़ दर्ज मुक़दमों को वापस लेने और प्रदर्शन के दौरान मारे गए किसानों के परिजनों को मुआवजा देने की भी मांग की है।
संसद में इस मुद्दे पर चर्चा नहीं किए जाने को लेकर भी सरकार की आलोचना की जा रही है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी उन आलोचकों में से हैं जिन्होंने संसद में बहस की अनुमति नहीं देने पर केंद्र पर हमला किया। उन्होंने कहा, 'हम एमएसपी पर चर्चा करना चाहते थे, हम लखीमपुर खीरी घटना पर चर्चा करना चाहते थे, हम इस आंदोलन में मारे गए 700 किसानों पर चर्चा करना चाहते थे, और दुर्भाग्य से उस चर्चा की अनुमति नहीं दी गई है।'
देश से और ख़बरें

बता दें कि 19 नवंबर को मोदी सरकार ने बड़ा फ़ैसला लेते हुए कृषि क़ानूनों को रद्द करने की घोषणा की थी। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने किसानों की भलाई के लिए ये क़ानून बनाए थे और इनकी मांग कई सालों से की जा रही थी। उन्होंने कहा था कि लेकिन किसानों का एक वर्ग लगातार इसका विरोध कर रहा था, इसे देखते हुए ही सरकार इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में इन कृषि क़ानूनों को रद्द करने की प्रक्रिया को पूरा कर देगी। 

प्रधानमंत्री ने आंदोलन कर रहे किसानों से आह्वान किया था कि वे अब अपने घर लौट जाएं और एक नई शुरुआत करें। लेकिन किसान अभी भी वहीं डटे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें