loader

भारत में अनियोजित टीकाकरण से बढ़ सकते हैं स्ट्रेन के मामले: रिपोर्ट

देश में टीकाकरण नीति पर सुप्रीम कोर्ट तक से आलोचनाओं का सामना कर चुकी मोदी सरकार को अब विशेषज्ञों ने एक बेहद अहम रिपोर्ट दी है। इसमें कहा गया है कि अनियोजित टीकाकरण से कोरोना के म्यूटेंट यानी इसके स्ट्रेन को बढ़ावा मिल सकता है। विशेषज्ञों की यह चेतावनी बेहद चिंता पैदा करने वाली होनी चाहिए। ऐसा इसलिए कि भारत में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट को कोरोना की दूसरी लहर के लिए ज़िम्मेदार माना गया। 

कोरोना की दूसरी लहर कितनी घातक रही यह इससे समझा जा सकता है कि हर रोज़ संक्रमण के मामले 4 लाख से ज़्यादा आने लगे थे और सबसे ज़्यादा 6 मई को 4 लाख 14 हज़ार केस दर्ज किए गए थे। तब अस्पतालों में बेड, ऑक्सीज़न, दवाइयों की कमी हो गई थी। श्मशानों में शवों की कतार लग गई थी। और गंगा किनारे पानी में सैकड़ों शव तैरते हुए और रेतों में दफन किए हुए शव दिखे थे। कोरोना संक्रमण से उपजे ऐसे हालात के लिए नये वैरिएंट को ज़िम्मेदार माना गया। 

ताज़ा ख़बरें

एम्स के डॉक्टरों, कोरोना पर नेशनल टास्क फोर्स के सदस्यों वाले विशेषज्ञों के समूह ने जो अब ताज़ा चेतावनी दी है वह भी नये स्ट्रेन या म्यूटेंट के बारे में है। उस समूह ने कहा है कि बड़े पैमाने पर अंधाधुंध और अधूरा टीकाकरण म्यूटेंट को फिर से बढ़ावा दे सकता है। इसने सिफारिश की है कि उन लोगों को टीका लगाने की कोई आवश्यकता नहीं है जिनमें कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसने साफ़ तौर पर कहा है कि ऐसे लोगों को बाद में तब टीका लगाा जा सकता है जब इसके सबूत मिल जाएँ कि कोरोना संक्रमण होने के बाद कोरोना टीका कारगर है। 

विशेषज्ञों ने कहा कि बड़े पैमाने पर पूरी आबादी के बजाय कमजोर और जोखिम वाले लोगों का टीकाकरण करना लक्ष्य होना चाहिए। न्यूज़ एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार यह रिपोर्ट देने वालों में इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन, इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन और इंडियन एसोसिएशन ऑफ एपिडेमियोलॉजिस्ट के विशेषज्ञ भी शामिल हैं। उन्होंने कहा, 'देश में महामारी की वर्तमान स्थिति की मांग है कि हमें इस स्तर पर सभी आयु समूहों के लिए टीकाकरण खोलने के बजाय टीकाकरण को प्राथमिकता देने के लिए महामारी विज्ञान के आंकड़ों के आधार पर निर्णय लिया जाए।' 

विशेषज्ञों ने चेताया है कि एक साथ सभी के लिए टीकाकरण खोल देने से मानव और दूसरे संसाधन कम पड़ जाएँगे।
health experts warn unplanned vaccination can increase strain cases - Satya Hindi

विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि कोरोना के ख़िलाफ़ वैक्सीन ही सबसे ताक़तवर औजार है और दूसरे औजारों की तरह ही इसका अंधाधुंध इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है, इसको रणनीति के तहत इस्तेमाल किया जाना चाहिए। सरकार को दी गई उस सिफारिश में कहा गया है कि सभी व्यस्कों को वैक्सीन लगाने का विचार बिल्कुल सही लगता है, लेकिन सच्चाई है कि ऐसी महामारी के बीच वैक्सीन सीमित रूप से ही उपलब्ध है। ऐसे हालात में इस पर जोर होना चाहिए कि मृत्यु दर कम हो, जिसमें अधिकतर वे लोग हैं जो बुजुर्ग हैं और जो कोमोर्बिडिटीज या मोटापा के पीड़ित लोग हैं। 

देश से और ख़बरें

विशेषज्ञों ने साफ़ कहा है कि जो मौजूदा लहर है वह नये-नये वैरिएंट की वजह से है। इसने नये वैरिएंट की पहचान के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग को बढ़ाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा है कि ऐसा कर नये स्ट्रेन पर जल्दी से काम किया जा सकेगा और फिर इसको समय पर रोका जा सकेगा। 

कोरोना के नये वैरिएंट पर इसलिए ज़्यादा जोर दिया जा रहा है कि भारत, ब्राज़ील, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में बाद की लहरों के लिए नये स्ट्रेन को ज़िम्मेदार माना गया। सबसे पहले भारत में पाये गये डेल्टा वैरिएंट को तो काफ़ी घातक माना गया है। डेल्टा पहली बार यूके में मिले उस अल्फा से भी काफ़ी ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाला है। एम्स के शोध में कहा गया है कि अल्फा से 40 फ़ीसदी ज़्यादा तेज़ी से डेल्टा फैलता है तो ब्रिटेन के एक शोध में दावा किया गया है कि डेल्टा 60 फीसदी तेज़ी से फैलता है। ऐसे में यदि टीकाकरण अभियान को योजना के तहत नहीं चलाया गया तो नये स्ट्रेन का ख़तरा तो बढ़ेगा ही!

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें