loader

कोरोना से लड़ने को तैयार सेना, कमांड हॉस्पिटल, आईसीयू, मेडिकल टीम मुस्तैद

भारतीय सेना ने कोरोना की रोकथाम, संक्रमण फैलने की स्थिति में उपचार और दूसरे मामलों में नागरिक प्रशासन और स्थानीय सरकारों की भरपूर मदद करने की कार्य योजना तैयार कर ली है।
देश से और खबरें
कमान्ड हॉस्पिटल तैयार हैं, क्विक मेडिकल टीम बना ली गई है, हेल्पलाइन नंबर काम कर रहे हैं और छह घंटे के अंदर आईसीयू बनाने की तैयारी पूरी कर ली गई है।
सेना का फ़ोकस सरकार के कहने पर तुरत-फुरत उसके अनुसार सेवाएं मुहैया कराने के लिए पूरी तरह से तैयार रहने पर है। 
थल सेनाध्यक्ष जनरल एम. एम. नरवाणे ने इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत में पूरी कार्य योजना के बारे में विस्तार से बताया। 
जनरल नरवाणे ने कहा कि स्थानीय नागरिक प्रशासन के कहने पर मेडिकल सेवाएं, सुविधाएं और उपकरण वगैरह मुहैया कराया जाएगा। सभी कमान्ड अस्पतालों से कह दिया गया है कि वे पूरी तरह तैयार रहें। उन्हें अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं को अभी से बढ़ा कर दुरुस्त रखने को कहा गया है। मुख्य तैयारियाँ : 
  • मेन हॉस्पिटल, कमांड हॉस्पिटल और ब्रांच हॉस्पिटल को तैयार रखा गया है।
  • सभी कमान्ड हॉस्पिटल से कहा गया है कि वे इस तरह की तैयारी रखें कि ज़रूरत पड़ने पर छह घंटे के अंदर 45 बिस्तरों वाला अस्पताल बना दें।
  • सभी कमान्ड हॉस्पिटल से कहा गया है कि वे 10 बिस्तरों वाला आईसीयू बनाने को तैयार रहें।
  • 30 प्रतिशत फ़ील्ड हॉस्पिटल कोरोना संक्रमितों के लिए तैयार रखे गए हैं।
  • क्विक रिएक्शन मेडिकल टीम तैयार रखे गए हैं जिन्हें आपात स्थिति में तैनात कर सकते हैं।
  • हर कमान्ड एरिया के लिए अलग हेल्पलाइन बनाया गया है। 

क्वरेन्टीन केंद्र

इसके अलावा सेना ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए पहले भी कुछ काम किए हैं। सेना ने दिल्ली के नज़दीक मनेसर, राजस्थान के जैसलमेर और जोधपुर में विशेष क्वरेन्टाइन केंद्र बना रखे हैं। यहाँ चीन, इटली और ईरान से कोरोना संक्रमित लोगों को ला कर रखा गया।
मनेसर में 372 लोगों को क्वरेन्टाइन कर उनके घर भेज दिया गया है। फ़िलहाल 82 लोग इस केंद्र में हैं। जैसलमेर में में 484 और जोधपुर में 277 लोगों को क्वरेन्टाइन किया जा रहा है। इन्हें ईरान से लाया गया था।
Satya Hindi Logo स्वैच्छिक सेवा शुल्क
'सत्य हिन्दी' का एक ही लक्ष्य है कि आपको जानना चाहिए सच। क्योंकि सीधा, सपाट और पूरा सच लोकतंत्र की सबसेज़रूरी शर्त है। गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने और 'सत्यहिन्दी' को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए आप हमें स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) चुकासकते हैं। नीचे दिये बटनों में से किसी एक को क्लिक करें:
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें