loader
कानपुर दंगे का फाइल फोटो

कानपुर हिंसाः 40 कथित दंगाइयों के फोटो जारी, यूपी पुलिस ने फिर दोहराई गलती

कानपुर पुलिस ने उन 40 कथित दंगाइयों के फोटो सार्वजनिक कर दिए हैं, जिनके खिलाफ उसने एफआईआर की है। पुलिस को उनकी तलाश है। जिन 40 कथित दंगाइयों की फोटो जारी की गई है, उनमें से अधिकांश समुदाय विशेष के हैं। इनमें वो लोग भी शामिल हैं, जो नूपुर शर्मा के खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज कराने पहुंचे थे। पुलिस ने उन लोगों की लिखित शिकायत को लेकर रख लिया था। उस शिकायत अर्जी में उन लोगों के नाम और हस्ताक्षर क्षे। उनमें से कुछ नाम एफआईआर में भी सामने आए हैं।
कानपुर पुलिस द्वारा लगाए गए कथित दंगा आरोपियों के होर्डिंग और पोस्टर आलोचना का विषय बन गया है। जिस समय देश में सीए-एनआरसी आंदोलन चल रहा था तो लखनऊ में ऐसे आंदोलन में हिस्सा लेने वालों के होर्डिंग लखनऊ शहर में लगाए गए थे। इस पर अदालत ने यूपी सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी और होर्डिंग हटाने के आदेश दिए थे। हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर ने 9 मार्च 2020 को इसे शर्मनाक बताया था। अब उस तरह की गलती फिऱ दोहराई गई है। कानपुर हिंसा के आरोपी कोई पुराने दंगाई या मुलजिम नहीं हैं, जिनके साथ पुलिस इस तरह से पेश आए, लेकिन उसने उनकी छवि ऐसी बना दी है कि वे पुराने गंभीर अपराधी हों। 
ताजा ख़बरें
कानपुर पुलिस ने पिछले शुक्रवार की घटनाओं की सीसीटीवी और वीडियो फुटेज की छानबीन के बाद 40 लोगों की तस्वीरें जारी की हैं। पुलिस को संदेह है कि इन लोगों ने शुक्रवार की हिंसा में सक्रिय भूमिका निभाई थी जिसमें कई लोग घायल हुए थे।

Kanpur Violence: Photos of 40 alleged rioters released, UP Police repeated the mistake - Satya Hindi
कानपुर पुलिस ने जारी किया फोटो
इन 40 कथित दंगाइयों का फोटो जारी करने वाली पुलिस ने घोषणा की है कि इन 40 लोगों के बारे में कोई भी जानकारी साझा करने वाले लोगों की पहचान गुप्त रखी जाएगी।  समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, उत्तर प्रदेश पुलिस ने इन लोगों के होर्डिंग्स - हिंसा के प्रमुख संदिग्धों - प्रभावित क्षेत्रों में और आसपास के प्रमुख स्थानों पर लगाने का फैसला किया है।

अधिकारियों ने पीटीआई को बताया कि होर्डिंग्स में स्टेशन हाउस अधिकारियों और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के संपर्क नंबर होंगे, ताकि लोग संदिग्धों के बारे में जानकारी दे सकें। 

पुलिस उपायुक्त (पूर्व), प्रमोद कुमार ने कहा, 3 जून की हिंसा में कथित तौर पर शामिल होने वाले लगभग 20 प्रमुख आरोपियों की तस्वीरों वाले 25 होर्डिंग प्रभावित इलाकों और आसपास के प्रमुख स्थानों पर लगाए जाएंगे। डीसीपी ने कहा, हमने वीडियो क्लिप, कैमरा और सीसीटीवी फुटेज के जरिए आरोपी व्यक्तियों की तस्वीरें एकत्र की हैं।
अतिरिक्त पुलिस आयुक्त, कानून और व्यवस्था, आनंद प्रकाश तिवारी ने कहा, हमने सीसीटीवी फुटेज और वीडियो क्लिप के माध्यम से 100 अन्य पथराव करने वालों और दंगाइयों की पहचान की है।

पिछले शुक्रवार को कानपुर के परेड चौक में हिंसक झड़पों और पथराव की सूचना मिली थी, जब लोगों के एक समूह ने टीवी बहस में पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ बीजेपी नेता नूपुर शर्मा द्वारा की गई टिप्पणी पर प्रदर्शन की घोषणा की थी। पुलिस इस मामले में अब तक 38 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।
देश से और खबरें

शहर काजी का बयान

शहर काज़ी अब्दुल कुद्दूस हादी ने सोमवार को कहा था कि अगर हिंसा होती है, तो दो पक्ष होते हैं। पुलिस ने एक पक्ष के खिलाफ कार्रवाई की है जबकि दूसरा पक्ष जो अपराध के लिए समान रूप से जिम्मेदार है उसे छोड़ा जा रहा है। अपने दावे के समर्थन में उन्होंने कहा कि एफआईआर में नामजद सभी 36 लोग एक समुदाय से थे। अन्य समुदायों के सदस्यों को क्यों नहीं गिरफ्तार किया जाता है या उनके खिलाफ एफआईआर क्यों नहीं दर्ज की जा रही है।

हादी का दावा है कि जब वह कानपुर के पुलिस आयुक्त के आह्वान पर लोगों को शांत करने गए तो उनके और उनके बेटों के साथ मारपीट की गई। यह सभी को देखना चाहिए। इसके पक्ष में वीडियो सबूत हैं। फिर भी पुलिस ने मेरे एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें