loader
दिल्ली में रविवार को आयोजित हिन्दू महापंचायत में विवादित साधू यति नरसिंहानंद

जमानत पर छूटा नरसिंहानंद फिर बोला- मुसलमानों के खिलाफ हिन्दू हथियार उठा लें

जमानत पर चल रहे विवादित साधू यति नरसिंहानंद ने आज फिर एक महापंचायत में हिन्दुओं से मुसलमानों के खिलाफ हथियार उठाने को कहा। इस शख्स ने हरिद्वार में ऐसी ही धर्म संसद आयोजित की थी। जिसमें उसने मुसलमानों के नरसंहार की अपील की थी। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। फिर वो जमानत पर बाहर आ गया। जमानत पर आने के बाद उसने फिर नफरत फैलाने वाला भाषण दिया। उसके समर्थकों ने रविवार को इस महापंचायत को कवर करने गए पत्रकारों से बदसलूकी की। पुलिस ने कोई कार्रवाई करने की बजाय पत्रकारों को हिरासत में ले लिया। हालांकि पुलिस ने हिरासत में लेने वाली बात से इनकार किया है।यति नरसिंहानंद जब नफरती भाषण दे रहा था तो वहां दिल्ली पुलिस की पीसीआर मौजूद थी। दिल्ली पुलिस को मालूम भी है कि यह शख्स ऐसे ही मामले में जमानत पर है। पुलिस यह भी मानती है कि इस कार्यक्रम को अनुमति नहीं थी, फिर भी उसने कार्रवाई नहीं की।
ताजा ख़बरें
यह विवादित साधू खुद को गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर का प्रधान पुजारी बताता है। उसने रविवार को कहा कि अगर हिन्दुओं ने हथियार नहीं उठाया तो भारत में मुस्लिम प्रधानमंत्री आ जाएगा। आप में से 50% हिंदू अगले 20 वर्षों में अपना धर्म बदल लेंगे। यति ने दिल्ली के बुराड़ी मैदान में रविवार को यह नफरती बयान दिया। उस हिन्दू महापंचायत में करीब 200 लोग जमा हुए थे। 
कार्यक्रम का आयोजन सेव इंडिया फाउंडेशन के संस्थापक प्रीत सिंह ने किया। यह प्रीत सिंह वही है, जिसने पिछले साल जंतर मंतर पर एक कार्यक्रम आयोजित किया था, उसमें मुस्लिम विरोधी नारे लगाए गए थे। उसे उस मामले के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था और फिलहाल वह जमानत पर बाहर है। नरसिंहानंद भी हरिद्वार मामले में जमानत पर बाहर है।

भीड़ को संबोधित करते हुए, नरसिंहानंद ने यह भी कहा कि अगर भारत में मुस्लिम पीएम बना तो 40% हिंदू मारे जाएंगे। यह हिंदुओं का भविष्य है। यदि आप इसे बदलना चाहते हैं, तो मर्द बनो। कोई है जो सशस्त्र है।
दिल्ली पुलिस ने कहा कि आयोजकों को कार्यक्रम करने की अनुमति नहीं थी। प्रीत सिंह के ट्विटर अकाउंट के मुताबिक, इस साल 4 जनवरी से इस इवेंट की प्लानिंग की गई थी।

देश से और खबरें

इस बीच कार्यक्रम को कवर करने गए कुछ पत्रकारों ने आरोप लगाया कि नरसिंहानंद के समर्थकों ने उन्हें पीटा। उनमें से कुछ ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें दिल्ली पुलिस ने कार्यक्रम स्थल से हिरासत में लिया और मुखर्जी नगर पुलिस स्टेशन ले जाया गया। हालांकि दिल्ली पुलिस ने इस आरोप से इनकार किया है। पुलिस का कहना है कि कुछ पत्रकारों ने स्वेच्छा से भीड़ से बचने के लिए कार्यक्रम स्थल पर तैनात पीसीआर वैन में बैठ गए और सुरक्षा कारणों से पुलिस स्टेशन जाने का विकल्प चुना। किसी को हिरासत में नहीं लिया गया। उचित पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें