loader

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए दिशा निर्देश, 14 दिन का क्वरेन्टाइन, आइसोलेशन ज़रूरी

विदेश से आने वाले लोगों को अब अपने खर्च पर 14 दिन के क्वरेन्टाइन में रहना होगा और उसके बाद एक सप्ताह के होम क्वरेन्टाइन से गुजरना होगा। स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए दिशा निर्देश जारी करते हुए यह एलान किया है। इसी तरह उड़ान से पहले हर विमान यात्री को यह लिखित आश्वासन देना होगा कि वह उड़ान के बाद के दिशा निर्देशों का पालन करेगा। 
नए दिशा निर्देश में कहा गया है कि हर यात्री को उड़ान से पहले आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा। जिन मुसाफिरों में कोरोना के लक्षण बाहर से नहीं दिखेंगे उन्हें भी थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही विमान में सवार होने दिया जाएगा। 
देश से और खबरें
बता दें कि एसके पहले ही नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने एलान किया था कि कुछ शर्तों के साथ विमानन क्षेत्र को खोला जाएगा। 

नए दिशा निर्देश

  • मुसाफिरों को विमान पर सवार होने से पहले ही लिखित आश्वासन देना होगा कि वे 14 दिन का क्वरेन्टाइन और उसके बाद एक सप्ताह का होम आइसोलेशन करेंगे।
  • कुछ मामलों में छूट दी जाएगी, मसलन, गर्भवती महिलाएं, परिवार में किसी की मौत, आपदा की स्थिति, गंभीर रोग, 10 साल से कम उम्र के बच्चे।
  • विमान यात्रा के दौरान 'क्या करें, क्या न करें', यह टिकट पर ही छपा रहेगा।
  • हर यात्री को आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा।
  • जिन लोगों में कोरोना के लक्षण बाहर से नहीं दिखेंगे उन्हें थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा। 
  • विदेशों से सड़क मार्ग से आने वाले मुसाफिरों को भी इन दिशा निर्देशों का पालन करना होगा।
  • सभी यात्रियों को सेल्फ डिक्लरेशन फॉर्म भर कर देना होगा।
  • यात्रा के दौरान सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करना होगा।
  • हवाई अड्डों पर जो घोषणाएँ की जाएँगी, उनका पालन सभी मुसाफिरों को करना होगा।
  • उड़ान के दौरान मास्क पहनना होगा,  सांस से जुड़ी सावधानियाँ, हाथ धोने से जुड़ी सावधानियां और दूसरी स्वास्थ्य से जुड़ी सावधानियाँ बरतनी होंगी। विमान के उतरने के बाद भी सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।
  • जो मुसाफिर असिमप्टोमैटिक होंगे, यानी जिनमें बाहर से लक्षण नहीं दिखेगा लेकिन उनमें संक्रमण होगा, उन्हें क्वरेन्टाइन के लिए ले जाया जाएगा।
  • सभी यात्रियों की जाँच इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च के दिशा निर्देशों के अनुसार होगी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें