loader
पीएम मोदी सोमवार को नेपाल में

नेपाल के भी लोग राम मंदिर से खुशः पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेपाल में अयोध्या के राम मंदिर का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा, जनकपुर में मैंने कहा था कि नेपाल के बिना हमारा राम भी अधूरा है। मैं जानता हूं कि आज जब भारत में भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बन रहा है, तो नेपाल के लोग भी उतने ही खुश हैं।नेपाली पीएम शेर बहादुर देउबा के निमंत्रण पर पीएम मोदी बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर लुंबिनी की एक दिवसीय यात्रा पर नेपाल में हैं। पीएम ने कहा कि वह तीर्थस्थल पर होने के लिए भाग्यशाली हैं। नई दिल्ली-काठमांडू संबंधों पर, पीएम मोदी ने कहा, आज जिस तरह की ग्लोबल स्थिति पैदा हो रही है, उसके बीच भारत और नेपाल के बीच बढ़ती और मजबूत होती दोस्ती पूरी मानवता के लाभ के लिए काम करेगी। भगवान बुद्ध की भक्ति हमें एक साथ बांधती है, बनाती है। हम एक परिवार के सदस्य की तरह हैं।

ताजा ख़बरें
उन्होंने कहा कि जिस स्थान पर भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था, वह एक अलग एहसास देता है और उन्हें यह देखकर खुशी होती है कि 2014 में उनके द्वारा उपहार में दिया गया महाबोधि पौधा अब एक पेड़ में बदल रहा है।पीएम मोदी ने कहा, मायादेवी मंदिर के दर्शन करने का जो अवसर मिला, वह मेरे लिए भी अविस्मरणीय है। जिस स्थान पर स्वयं भगवान बुद्ध ने जन्म लिया, वहां की ऊर्जा, वहां की चेतना, एक अलग अहसास है। प्रधान मंत्री ने जोर देकर कहा कि बुद्ध मानवता की सामूहिक समझ के अवतार हैं। बुद्ध ज्ञान भी है, और बुद्ध अनुसंधान भी है। बुद्ध विचार हैं, और बुद्ध संस्कार भी हैं।  

देश से और खबरें

उन्होंने कहा कि नेपाल में लुंबिनी संग्रहालय का निर्माण दोनों देशों के बीच संयुक्त सहयोग का उदाहरण है। पीएम मोदी ने कहा, आज हमने लुंबिनी बौद्ध विश्वविद्यालय में बौद्ध अध्ययन के लिए डॉ अंबेडकर चेयर स्थापित करने का भी फैसला किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने भगवान बुद्ध से भी अपना विशेष जुड़ाव साझा किया। उन्होंने इसे अद्भुत और सुखद संयोग बताते हुए कहा कि जिस स्थान पर उनका जन्म हुआ, गुजरात का वडनगर सदियों पहले बौद्ध शिक्षा का एक बड़ा केंद्र था। उन्होंने कहा, आज भी वहां प्राचीन अवशेष निकल रहे हैं, जिनके संरक्षण का कार्य चल रहा है। इससे पहले दिन में, पीएम मोदी ने देउबा के साथ द्विपक्षीय वार्ता की और चल रहे सहयोग को मजबूत करने और बहुआयामी द्विपक्षीय साझेदारी में नए क्षेत्रों को विकसित करने के तरीकों पर चर्चा की। दोनों पक्षों ने सांस्कृतिक और शैक्षिक क्षेत्रों में सहयोग पर छह समझौतों (एमओयू) पर भी हस्ताक्षर किए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें