loader

प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’ के डिसलाइक्स, लाइक्स से अधिक क्यों? 

72 बार देश को ‘मन की बात’ बता चुके हैं पीएम मोदी। मन की बात देखने वाले दर्शकों की संख्या में आश्चर्यजनक तरीक़े से कमी आती गयी है। अब इस कार्यक्रम को नापसंद करने वालों की तादाद हर उस प्लेटफ़ॉर्म पर बढ़ती चली गयी है जहाँ इसका स्ट्रीम लाइन प्रसारण होता है।

गुजरात में भी ‘मन की बात’ से निराशा!

गुजरात में सरकारी डीडी न्यूज़ के यूट्यूब चैनल पर लाइव स्ट्रीम होकर पहुँचे ‘मन की बात’ में दर्शकों की संख्या हैरान करने वाली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थकों के लिए तो बेहद निराश करने वाली है यह तादाद। यहाँ महज 386 दर्शक पहुँचे। इनमें से भी सिर्फ़ 9 को यह कार्यक्रम पसंद आया, जबकि 16 दर्शकों ने इसे नापसंद किया।

ताज़ा ख़बरें

इंडिया टीवी जैसे मशहूर न्यूज़ चैनल के यूट्यूब चैनल पर महज 1005 लोगों ने 28 फ़रवरी को ‘मन की बात’ कार्यक्रम देखा। इनमें से महज 4 लोगों ने इस कार्यक्रम को पसंद किया। वहीं नापसंद करने वालों की संख्या 10 गुणा ज़्यादा यानी 40 रही।

टीवी 9 भारत वर्ष के यू-ट्यूब चैनल पर ‘मन की बात’ लाइव स्ट्रीम को देखने 1676 दर्शक पहुँचे। यहाँ 58 लोगों ने इसे पसंद किया जबकि इससे दुगुने 117 लोगों ने इसे नापसंद किया।

अंग्रेजी भाषा के टीवी चैनल टाइम्स नाऊ के यूट्यूब चैनल पर लाइव स्ट्रीम पर भी महज 3,350 दर्शक ‘मन की बात’ देखने आए। यहाँ भी कार्यक्रम को पसंद करने वालों की तुलना में 10 गुणा से ज़्यादा उसे नापसंद करने वाले रहे। (तालिका देखें)

जी न्यूज़ के यूट्यूब चैनल पर मन की बात को पसंद करने वालों की संख्या ज़रूर इसे नापसंद करने वालों से ज़्यादा रही। यहाँ 1.18 लाख दर्शक आए। इनमें से 4.1 हजार दर्शकों को यह कार्यक्रम पसंद आया जबकि 3 हज़ार दर्शकों ने इसे नापसंद किया। 

छिपाने लगे लाइक-डिसलाइक

नरेंद्र मोदी और उनकी टीम अपने यूट्यूब प्लेटफॉर्म पर लाइक-डिसलाइक को छिपाने लगे हैं। आश्चर्य की बात है कि यही काम न्यूज़ चैनल भी करते दिख रहे हैं और पीएमओ भी।

दरअसल, बीते 8 महीने से डिसलाइक का ट्रेंड मज़बूत हुआ है जिसने नरेंद्र मोदी समर्थकों और उनकी पार्टी बीजेपी को बेचैन कर दिया है।

बीजेपी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर 1 लाख से ज़्यादा दर्शकों ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम को देखा। पसंद-नापसंद के आँकड़े छिपा लिए जाने के कारण सामने नहीं आ सके हैं। मगर, दर्शकों की संख्या का महज 1 लाख तक आ सिमटना पूरी कहानी बयां कर देता है। इस प्लेटफ़ॉर्म के 36 लाख सब्सक्राइबर हैं। दो महीने पहले के आँकड़े भी लें तो इसी प्लेटफ़ॉर्म पर इसी कार्यक्रम को देखने के लिए दिसंबर 2020 में 3 लाख से अधिक दर्शक मौजूद थे।

देश से और ख़बरें
बीजेपी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर डिसलाइक अधिक दिखने का ख़ौफ़ तो समझ में आता है। लेकिन, कई न्यूज़ चैनलों ने भी अपने प्लेटफॉर्म पर ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लाइक-डिसलाइक के आँकड़ों को छिपाना शुरू कर दिया है। यह बात चौंकाती है। मगर, इन चैनलों पर आए दर्शकों की संख्या पूरी कहानी कह देती है। नंबर वन होने का दावा करने वाले रिपब्लिक भारत पर इस कार्यक्रम को देखने महज 5,627 दर्शक आए तो अंग्रेजी चैनल रिपब्लिक वर्ल्ड पर महज 3,350 दर्शक पहुँचे। 

पीएमओ इंडिया भी लाइक-डिसलाइक छिपाने के रास्ते पर चलता नज़र आता है। यहाँ दर्शकों की तादाद 45,933 ज़रूर है लेकिन पिछले साल अगस्त महीने में इसी प्लेटफॉर्म पर इसी कार्यक्रम के लिए दर्शकों की संख्या 19 लाख थी।

नरेंद्र मोदी नामक यूट्यूब चैनल पर लाइक-डिसलाइक नहीं छिपाए गये हैं। यहाँ 3,04,565 दर्शक आए। 13 हज़ार दर्शकों ने मन की बात को पसंद किया, जबकि 20 हजार दर्शकों ने नापसंद किया। ग़ौरतलब है कि इस प्लेटफॉर्म पर 84 लाख से ज़्यादा सब्सक्राइबर हैं।

क्या बढ़ रही है निराशा?

विभिन्न चैनलों पर ‘मन की बात’ के दर्शकों और इसे पसंद-नापसंद करने वालों की संख्या पर ग़ौर करें तो इस कार्यक्रम को नापसंद करने वाले 3 गुणा से लेकर 8-9 गुणा तक अधिक नज़र आते हैं। देश को संबोधित कर अपनी बात पहुँचाने का उनका मक़सद निश्चित रूप से लोगों में उत्साह भरने का रहा होगा। मगर, ऐसा लगता है कि लोगों में निराशा और ग़ुस्सा बढ़ता जा रहा है।

pm modi man ki baat youtube live telecast has more dislikes than likes - Satya Hindi
ये आँकड़े मन की बात प्रसारित होने के 11 से 12 घंटे बाद के हैं।

आजतक पर ‘मन की बात’ देखने 1,79,691 दर्शक आए। मगर, यहाँ भी इस कार्यक्रम को नापसंद करने वालों की संख्या इसे पसंद करने वालों के मुक़ाबले लगभग तिगुनी दिखी। इंडिया टुडे पर 81 हज़ार से ज़्यादा दर्शक यह कार्यक्रम देखने आए। इनमें महज 772 लोगों को यह पसंद आया जबकि नहीं पसंद करने वालों की संख्या 12 हजार से ज़्यादा रही। एबीपी पर 33 हज़ार से ज़्यादा दर्शकों में 460 लोग इसे पसंद करने वाले तो 2.9 हजार लोग नापसंद करने वाले रहे। एबीपी गंगा पर 82 हजार से ज़्यादा दर्शकों में 844 ने इस कार्यक्रम को पसंद किया, तो 2.7 हजार दर्शकों ने नापसंद। राज्यसभा टीवी पर भी ‘मन की बात’ को पसंद-नापसंद करने वालों में 8 गुणा से ज़्यादा का फर्क देखा गया।

ख़ास ख़बरें

पीआईबी इंडिया और न्यूज़ ऑन एआईआर ऑफिशियल जैसे प्लेटफ़ॉर्म के यू-ट्यूब पर भी प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को पसंद-नापसंद करने वालों के आँकड़े में तीन गुणे का परेशान करने वाला फर्क दिखा।

शानदार आगाज करते हुए जिस ‘मन की बात’ ने रेडियो तक को ज़िन्दा कर दिया था, जो दुनिया का सबसे लोकप्रिय कार्यक्रम बन चुका था और जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए जनता से सीधा संवाद करने का सबसे सशक्त माध्यम था, वही माध्यम अब बैकफायर होकर प्रधानमंत्री मोदी की चिंता बढ़ाने लगा है। बीजेपी के बाद पीएमओ का लाइक-डिसलाइक छिपाना इसका प्रमाण है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रेम कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें