loader

ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #rajputVirodhibjp, लेकिन क्यों?

पेगासस जासूसी मामले, किसान आंदोलन को लेकर बीजेपी पहले से ही पस्त है और अब उसकी समर्थक माने जाने वालीं जातियां भी उसे आंख दिखा रही हैं। उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों की उससे नाराज़गी की ख़बरें हैं तो अब राजपूत समाज के लोगों ने ट्विटर पर #rajputVirodhibjp, #rajputVirodhirss ट्रेंड कराकर उसका ब्लड प्रेशर बढ़ा दिया है। 

#rajputVirodhibjp और #rajputVirodhirss ट्रेंड कराने वाले लोगों का कहना है कि बीजेपी उनके इतिहास से छेड़छाड़ कर रही है। 

ताज़ा ख़बरें

अपने-अपने दावे 

राजपूत समुदाय का कहना है कि सम्राट मिहिर भोज, दिल्ली के सम्राट अनंगपाल तंवर सहित पृथ्वीराज चव्हाण राजपूत समाज के राजा थे जबकि गुर्जर समाज इन्हें अपना बता रहा है और बीजेपी के नेता इस काम में शामिल हैं। जबकि गुर्जर समुदाय का कहना है कि चाहे सम्राट मिहिर भोज हों या फिर पृथ्वीराज चव्हाण, वे गुर्जर समुदाय के हैं। 

इसे लेकर दोनों समाज के युवाओं में सोशल मीडिया पर जबरदस्त युद्ध छिड़ा हुआ है। दोनों ही समाज के लोगों के अपने-अपने दावे हैं और दोनों ही अपने दावों से पीछे हटने के लिए तैयार नहीं हैं।

जो ताज़ा मामला है, वह दिल्ली से सटे फ़रीदाबाद के गांव अनंगपुर का है। अनंगपुर में 8 अगस्त को महाराजा मिहिर भोज और अनंगपाल तंवर गुर्जर की प्रतिमाओं का अनावरण किया जाना है। राजपूत समुदाय का कहना है कि इस कार्यक्रम को फरीदाबाद के सांसद और केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर का समर्थन हासिल है। इस वजह से राजपूत समुदाय के लोग ट्विटर पर अपनी नाराज़गी का इजहार कर रहे हैं और कृष्णपाल गुर्जर को जातिवादी बता रहे हैं। 

Rajput Virodhi BJP-RSS trends on Twitter  - Satya Hindi
इसके अलावा हरियाणा में भी कई जगहों पर गुर्जर समुदाय के लोगों ने सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा लगाई है और राजपूत समुदाय के युवा इसका विरोध कर रहे हैं।
Rajput Virodhi BJP-RSS trends on Twitter  - Satya Hindi
राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास भी इस लड़ाई में कूद पड़े और उन्होंने बीजेपी को चेताया। 

Rajput Virodhi BJP-RSS trends on Twitter  - Satya Hindi

महाराजा सुहेलदेव पर भी रार

यहां पर इसका भी जिक्र करना होगा कि राजपूत समुदाय की ओर से कुछ महीने पहले बीजेपी द्वारा महाराजा सुहेलदेव की प्रतिमा के शिलान्यास का भी विरोध किया गया था। राजपूत समुदाय का कहना है कि महाराजा सुहेलदेव उनके समाज के हैं और बीजेपी उन्हें राजभरों का बता रही है। इस समुदाय ने तब ट्विटर पर #राजपूत_विरोधी_भाजपा और #महाराजा_सुहेलदेव_बैंस ट्रेंड कराया था। 2016 में भी बीजेपी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने महाराजा सुहेलदेव की प्रतिमा का अनावरण किया था और उन पर लिखी गई एक किताब का विमोचन किया था। 

करणी सेना भी विरोध में 

श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रमुख सुखदेव सिंह गोगामेडी का कहना है कि बीजेपी और आरएसएस उनके समाज और उनके पूर्वजों की पहचान को छीनने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा है कि बीजेपी नेता राजपूत महाराजाओं की प्रतिमाओं का अनावरण कर रहे हैं और उन्हें दूसरी जातियों से जुड़ा हुआ बता रहे हैं। 

राजपूत समुदाय के युवाओं का कहना है कि राजपूत समुदाय के राजाओं को दूसरी जातियों का बताना बीजेपी और आरएसएस की कुत्सित योजना है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें