loader

हरसिमरत बोलीं- किसानों को मौत की ओर धकेला जा रहा है

विपक्षी दलों के सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ीपुर में धरने पर बैठे किसानों से मुलाकात की। इन सांसदों ने किसानों से बात की और उनकी स्थिति पर चिंता जताई।

शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर ने कहा, "जेल में भी लोगों को खाना, पानी और बिजली दी जाती है। यहाँ तो ऐसा लग रहा है मानो आन्दोलनकारी किसानों को मौत की ओर धकेला जा रहा है।" 

ख़ास ख़बरें

इसके पहले किसानों से मिलने ग़ाज़ीपुर गए सांसदों के प्रतिनिधिमंडल को उत्तर प्रदेश पुलिस ने रोक दिया था। 

हरसिमरत कौर ने ट्वीट कर कहा कि 'बीजेपी की अगुआई वाली केंद्र सरकार की ज़्यादती देखिए कि वह सांसदों को भी रोक देती है। हमें धरना स्थल से तीन किलोमीटर पहले ही उतरना पड़ा।' 
हरसिमरत कौर ने कहा, 'हम यहाँ इसलिए आए हैं ताकि इस मुद्दे पर संसद में चर्चा कर सकें। स्पीकर हमें इस मुद्दे को उठाने नहीं दे रहे हैं। अब सभी पक्ष इस बात का विवरण देंगे कि यहाँ क्या हो रहा है।' 

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि सरकार को किसानों की बात सुननी चाहिए और उनके साथ न्याय होना चाहिए।

उन्होंने कहा, 'हम सभी किसानों का समर्थन करते हैं, हम सरकार से किसानों के साथ बातचीत करने का अनुरोध करते हैं।' 

UP police stop harsimrat kaur, supriya sule meeting farmers at Ghazipur2 - Satya Hindi
दूसरी ओर, संसद में कृषि क़ानूनों पर बहस चल रही है। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चल रही बहस में ही कृषि क़ानूनों का मुद्दा उठाया गया है। सरकार या सत्तारूढ़ दल बीजेपी ने अब तक कोई संकेत नहीं दिया है कि वह किसानों की माँग मानने को तैयार है। 

क्या है मामला?

बता दें कि कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दो महीने से अधिक समय से हज़ारों किसान ग़ाज़ीपुर सीमा पर धरना पर बैठे हुए हैं। ये तीनों कृषि क़ानूनों को रद्द करने की माँग पर अड़े हुए हैं जबकि केंद्र सरकार ने साफ कह दिया कि इन क़ानूनों को किसी कीमत पर वापस नहीं लिया जाएगा। 
स्थानीय प्रशासन ने ग़ाज़ीपुर इलाक़े की किलेबंदी कर दी है। वहाँ ब्लेड लगे तारों की बाड़ लगा दी गई है, सड़कें खोद दी गई हैं, बैरिकेड बना दिए गए हैं और ज़मीन पर नुकीली कीलें लगा दी गई हैं। ऐसा इसलिए किया गया है कि कोई वहाँ पहुँच नहीं सके। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें