loader
अपूर्वा दूबे, आईएएस

यूपीः डीएम साहिबा की गाय की देखभाल के लिए 7 पशु डॉक्टर तैनात

पशु प्रेम किसी शख्स की संवेदनशीलता की निशानी है। कई बार तो लोग इसके लिए किसी भी सीमा तक चले जाते हैं। उत्तर प्रदेश की एक डीएम ने तो अपनी बीमार गाय की देखभाल और इलाज के लिए 7 सरकारी डॉक्टरों की ड्यूटी लगा दी।
एक सरकारी पत्र के अनुसार फतेहपुर के मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ एस. के. तिवारी ने जिला मजिस्ट्रेट अनुप्रिया दुबे की बीमार गाय का इलाज करने के लिए जिले के सात पशु डॉक्टरों को निर्देश दिया है।

ताजा ख़बरें
आदेश पत्र में कहा गया है कि पशु चिकित्सक दिन में दो बार सुबह और शाम बीमार गायों की रोजाना जांच करेंगे। वे इन जांचों को करने के बाद मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को एक रिपोर्ट भी सौंपेंगे।

इस घटना ने 2017 की यादें ताजा कर दीं, जब पूरे रामपुर पुलिस बल को शक्तिशाली सपा नेता आजम खान की लापता भैंसों की तलाश के लिए तैनात किया गया था। आजम के जानवरों को चुरा लिया गया था और खोजी कुत्तों की इस मामले में मदद ली गई थी।

फतेहपुर डीएम के बारे में यह खबर वीआईपी लोगों की मनमानी की घटनाओं पर व्यापक आक्रोश के मद्देनजर आई है। पिछले महीने, एक आईएएस दंपती को ट्रांसफर कर दिया गया था, जब यह बताया गया था कि उन्होंने अपने कुत्ते के टहलने के लिए दिल्ली के एक स्टेडियम को कुछ देर के लिए खाली करा लिया था। 
देश से और खबरें

हाल ही में, कर्नाटक में एक बीजेपी विधायक ने अपनी बेटी द्वारा कथित तौर पर रेड लाइट नियम तोड़ने के बाद पुलिस के साथ बहस करने और दुर्व्यवहार करने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद माफी मांगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें