loader

दिल्ली पर किसका नियंत्रण हो, सुप्रीम फैसला सुरक्षित

दिल्ली में प्रशासनिक सेवाओं पर किसका नियंत्रण हो और इस मुद्दे को पांच जजों की संविधान पीठ को भेजा जाए या नहीं, इस बारे में सुप्रीम कोर्ट ने अपना आदेश सुरक्षित रख लिया है। आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने केंद्र के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में सिविल सेवाओं पर नियंत्रण को लेकर याचिका दायर की है।
इससे पहले दिल्ली सरकार बनाम केंद्र सरकार की सुनवाई के दौरान केंद्र ने कहा था कि अधिकारियों के तबादले और पोस्टिंग पर उसका नियंत्रण होना चाहिए, क्योंकि दिल्ली देश की राजधानी है और पूरी दुनिया भारत को दिल्ली की नजर से देखती है। वहीं, दिल्ली सरकार ने केंद्र के रुख पर आपत्ति जताई।
ताजा ख़बरें
केंद्र की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट में धारा 239 ए ए की व्याख्या करते हुए बालकृष्णन कमेटी की रिपोर्ट का भी हवाला दिया। उन्होंने कहा, चूंकि दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी है, इसलिए यह आवश्यक है कि केंद्र के पास लोक सेवकों की नियुक्ति और स्थानांतरण का अधिकार हो। दिल्ली भारत का चेहरा है। दिल्ली के कानूनों के बारे में आवश्यक विशेषता इस बात से तय होती है कि इस देश की महान राजधानी कैसी होगी। यह किसी विशेष राजनीतिक दल के बारे में नहीं है।

केंद्र सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल ने तर्क दिया कि दिल्ली क्लास सी राज्य है। दुनिया के लिए दिल्ली को देखने का मतलब भारत को देखना है। इस संबंध में बालकृष्णन समिति की रिपोर्ट का बहुत महत्व है। चूंकि यह राष्ट्रीय राजधानी है, इसलिए यह आवश्यक है कि केंद्र के पास अपने प्रशासन और महत्वपूर्ण मुद्दों पर नियंत्रण के लिए विशेष अधिकार हों।

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि इस मामले को पांच जजों की संवैधानिक बेंच के पास भेजा जाना चाहिए, जिसका दिल्ली सरकार ने कड़ा विरोध किया था।

  
देश से और खबरें

सिंघवी की दलील

वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली सरकार का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने तर्क दिया कि केंद्र के सुझाव के अनुसार मामले को बड़ी पीठ के पास भेजने की जरूरत नहीं है। पिछली दो-तीन सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार मामले को संविधान पीठ को भेजने के लिए बहस कर रही है। इस पर चर्चा करने की कोई जरूरत नहीं है। बालकृष्णन समिति की रिपोर्ट को खारिज कर दिया गया था। मैं उन पर उपराज्यपाल के जरिए गड़बड़ी पैदा करने का आरोप लगाता रहा हूं। यानी एलजी ने बालकृष्णन रिपोर्ट को लेकर सॉलिसीटर जनरल को गुमराह किया।

सुप्रीम कोर्ट की एक संविधान पीठ ने 2018 में फैसला सुनाया था कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पुलिस, भूमि और सार्वजनिक व्यवस्था का प्रशासन दिल्ली सरकार के पास है। केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी है कि 2018 के फैसले का मतलब यह नहीं था कि दिल्ली सरकार को जमीन, पुलिस और सार्वजनिक व्यवस्था को छोड़कर सभी विषयों पर कानून बनाने का अधिकार है। वहीं इस मामले में दिल्ली सरकार का तर्क है कि उपराज्यपाल के माध्यम से एक चुनी हुई सरकार के फैसलों में लगातार दखल देकर केंद्र संविधान के संघीय ढांचे को नष्ट कर रहा है और दिल्ली विधानसभा को अर्थहीन कर दिया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें