loader

ओडिशा से टकराने के बाद आगे बढ़ा यास तूफान, तेज़ बारिश, लाखों लोगों को किया शिफ़्ट

चक्रवाती तूफान यास बुधवार सुबह 11 बजे ओडिशा के तटीय इलाक़ों से टकराया और आगे बढ़ गया। इसके बाद ओडिशा के बालासोर, भद्रक व आसपास के इलाक़ों में तेज़ बारिश होने के साथ ही हवाएं चल रही हैं। पश्चिम बंगाल के दीघा में कई घरों में पानी घुस गया है। यह तूफान कल झारखंड पहुंचेगा लेकिन उससे पहले आज शाम और कल भी बिहार-झारखंड के कुछ इलाक़ों में तेज़ बारिश होने के आसार हैं। 

इस दौरान 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार हवाएं चलीं। ओडिशा में इस तूफान का सबसे ज़्यादा असर बालासोर और भद्रक जिलों में दिखाई दे रहा है। ओडिशा के विशेष रात आयुक्त पीके जेना ने कहा कि इन दोनों जिलों से 5.80 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों में शिफ़्ट किया गया है। 

ताज़ा ख़बरें

सेना, नेवी और एयरफ़ोर्स, एनडीआरएफ़ स्टैंड बाई मोड पर हैं और राहत कार्यों में जुटे हुए हैं। तूफ़ान से लोगों के जीवन को ख़तरा देखते हुए लाखों लोगों को वहां से हटाकर सुरक्षित स्थानों में भेज दिया गया है। 

मौसम विभाग ने कहा है कि उत्तरी ओडिशा और राज्य के तटीय इलाक़ों में बुधवार को भारी बारिश जारी रहेगी। इसके अलावा सिक्किम, असम और मेघालय में भी आज और कल भारी बारिश का अनुमान है। 

यास तूफान की वजह से ओडिशा में पिछले 24 घंटों से तेज़ बारिश हो रही है। सेना ने कहा है कि वह आपात काल में लोगों की मदद के लिए अलर्ट मोड पर है। तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ और पुडुचेरी में भी सरकारी महकमों को अलर्ट पर रखा गया है। 

गांवों में घुसा पानी

बंगाल के दीघा और दक्षिण 24 परगना जिलों में बारिश और तेज़ हवाओं के कारण कई पेड़ गिर गए हैं। तूफान को रोकने के लिए जो तटबंध बनाए गए थे, वे टूट गए हैं और अब पानी नजदीकी गांवों में घुस गया है। तूफान के आने के बाद समुद्र में काफी ऊंची लहरें उठी हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि लगभग 12 लाख लोगों को ख़तरों वाले इलाक़ों से हटाया गया है। 

देश से और ख़बरें

'ताउते' ने मचाई थी तबाही

कुछ दिन पहले आए चक्रवाती तूफ़ान 'ताउते' ने भीषण तबाही मचाई थी। इससे महाराष्ट्र में 6 लोगों की मौत हुई थी और कम से कम 17 लोग घायल हुए थे। महाराष्ट्र में ताउते का खासा असर दिखा। मुंबई एयरपोर्ट पर सेवाएं प्रभावित रहीं। राज्य में भारी बारिश भी हुई। कई क्षेत्रों में पानी भर गया और कई जगहों से पेड़ उखड़ गए। कई क्षेत्रों में बिजली के पोल गिर गए। गुजरात में भी इस वजह से तेज़ बारिश हुई थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें