loader

कोरोना का कहर : एक महीने में 12 करोड़ लोगों की रोज़ी-रोटी छिनी

कोरोना रोकथाम के लिए लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से अप्रैल यानी सिर्फ एक महीने में 12 करोड़ से ज़्यादा लोगों का रोज़गार छिन गया। इनमें से अधिकतर लोग असंगठित क्षेत्र के कर्मचारी और दिहाड़ी मज़दूर हैं।

सीएमआईई की रिपोर्ट

सेंटर फ़ॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकॉनमी (सीएमआईई) ने एक रिपोर्ट में कहा है कि अप्रैल में 12.20 करोड़ लोगों का रोज़गार छिना है। छोटी कंपनियों या दुकानों वगैरह में काम करने वाले लोगों पर इसका सबसे ज़्यादा असर पड़ा है। 
अर्थतंत्र से और खबरें
इसमें स्वरोज़गार में जुड़े लोग और छोटा-मोटा काम-धंधा चलाने वाले लोग भी शामिल हैं। इसके अलावा रेहड़ी पटरी वाले, फेरी लगाने वाले, निर्माण कार्य में मज़दूरी करने वाले और इस तरह के काम करने वाले दूसरे लोग भी इससे प्रभावित हुए हैं।

विश्व बैंक की रिपोर्ट

इससे अलग विश्व बैंक ने एक रिपोर्ट में आशंका जताई है कि कम से कम 4.90 करोड़ ग़रीबी रेखा से नीचे चले जाएंगे। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 1.90 डॉलर रोज़ाना की आय को ग़रीबी रेखा माना गया है। यानी, इससे कम रोज़ाना कमाने वाला ग़रीबी रेखा के नीचे यानी बहुत ही ग़रीब है। कोरोना संक्रमण के कारण और 4.90 करोड़ लोग ग़रीबी रेखा से नीचे चले जाएंगे, यह विश्व बैंक का मानना है।
इससे पहले से चलाए जा रहे ग़रीबी उन्मूलन कार्यक्रमों पर भी बुरा असर पड़ेगा। आईपीई ग्लोबल के प्रबंध निदेशक अश्वजीत सिंह ने एनडीटीवी से कहा, 'भारत सरकार की ओर से चलाए जा रहे ग़रीबी उन्मूलन कार्यक्रमों के बड़े हिस्से पर कुछ महीनों में ही पानी फिर जाएगा।'
संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय ने एक अध्ययन में पाया है कि भारत के लगभग 10.40 करोड़ लोग निम्न-मध्य वर्ग की रोज़ाना आय सीमा 3.2 डॉलर से भी नीचे चले जाएंगे।

ग़रीबी बढ़ेगी

यानी भारत में इतने लोग निम्न मध्य वर्ग से नीचे जाकर निम्न वर्ग में शामिल हो जाएंगे। इससे भारत में ग़रीबों की तादाद 60 प्रतिशत से बढ़ कर 68 प्रतिशत हो जाएगी। संख्या में कहा जाए तो 92 करोड़ भारतीय ग़रीब हो जाएंगे, फ़िलहाल यह संख्या 81.20 करोड़ पर है। भारत में ग़रीबी का यह स्तर एक दशक पहले था।
सीएमआईई और विश्व बैंक के ये आँकड़े अप्रैल महीने के हैं। मई बीत जाने को है, ज़ाहिर है कि स्थिति पहले से बदतर हुई होगी। यानी आज अप्रैल से भी अधिक लोग बेरोज़गार हैं, आज का आकलन अधिक भयावह तसवीर पेश करेगा।

बर्बाद अर्थव्यवस्था

जहाँ तक अर्थव्यवस्था की बात है, यह तो पहले से ही घिसट रही थी, लॉकडाउन से ने इसे पूरी तरह बर्बाद कर दिया है। नरेंद्र मोदी सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपए यानी पूरे सकल घरेलू उत्पाद के लगभग 10 प्रतिशत के आर्थिक पैकेज का एलान किया।
लेकिन घरेलू और अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों का कहना है कि इससे भारतीय अर्थव्यवस्था को कोई ख़ास बल नहीं मिलेगा। इसकी वजह यह है कि यह पैकेज मुख्य रूप से क़र्ज़ और क्रेडिट गारंटी तक ही सीमित है। इससे माँग और खपत बढ़ाने के लिए कुछ ख़ास नहीं किया गया है। विशेषज्ञों का मानना है कि खपत और माँग नहीं होने से लोग क़र्ज़ नहीं लेंगे। लिहाज़ा, पूरे पैकेज की अवधारणा पर ही सवालिया निशा लग रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें