loader

भारत को लॉकडाउन से कई ट्रिलियन डालर का नुक़सान? 

लॉकडाउन की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था को कितना नुक़सान हुआ? इसका हिसाब लगाना बेहद मुश्किल है। सरकार ने अब तक कोई अनुमान भी नहीं लगाया है। लेकिन, मैनेजमेंट अध्ययन की संस्था इंडियन स्कूल ऑफ़ बिज़नेस और इम्पीरियल कॉलेज ने मिल कर एक अध्ययन किया और उसके आधार पर अनुमान लगाया है।
इंडियन एक्सप्रेस की एक ख़बर में कहा गया है कि इस अनुमान के मुताबिक़, एक शहर में एक सप्ताह में औसतन 10 हज़ार करोड़ से 14,900 करोड़ रुपए का नुक़सान हुआ। इसकी वजह उस जगह की उत्पादकता में 58 प्रतिशत से लेकर 83.4 प्रतिशत तक की कमी आई।
अर्थतंत्र से और खबरें

लॉकडाउन से नुक़सान

लॉकडाउन अभी भी पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है, लेकिन यदि यह मान लिया जाए कि 25 अप्रैल से शुरू हुआ लॉकडाउन 31 मई को ख़त्म हो गया तो लॉकडाउन 66 दिन रहा। इस आधार पर जो रकम बैठेगी, उसका अनुमान भी लगाना मुश्किल है, पर समझा जाता है कि वह कई ट्रिलियन डॉलर होगी।
यह अनुमान लगाया गया है कि यदि जनसंख्या के 20 प्रतिशत लोगों की कोरोना जाँच कराई जाए तो हर हफ़्ते 200 करोड़ से 317 करोड़ रुपए का खर्च बैठेगा।

मैथेमैटिकल मॉडलिंग

संदीप मंडल ने यह रिपोर्ट तैयार की है। उन्होंने यह रिपोर्ट मैथेमैटिकल मॉडलिंग के आधार पर बनाई है। वे इसके पहले इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च के लिए भी मैथेमैटिकल मॉडलिंग कर चुके हैं।
इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जब महामारी की शुरुआत हुई, भारत के पास उसकी जाँच करने की सुविधा नहीं थी। बाद में धीरे-धीरे वह काम शुरू किया गया। रिपोर्ट में साफ़ माना गया है कि आरटी-पीसीआर जाँच मुख्य रूप से कोरोना संक्रमण का पता लगाने और उसे दबाने की रणनीति है। यह उसके उपचार का इंतजाम नहीं है।
हॉवर्ड विश्वविद्यालय ने एक रोड मैप तैयार किया था, जिसमें कहा गया था कि भारत को हर हफ़्ते 50 लाख जाँच की ज़रूरत जून में होगी। इसे संक्रमण के शिखर पर रहने के समय यानी जुलाई से अगस्त तक हफ़्ते में दो करोड़ जाँच करनी होगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें