loader
fb/kristlinageorgeiva

भारत में आर्थिक मंदी ज़्यादा, नई आईएमएफ़ प्रमुख ने जताई चिंता

भारत की आर्थिक मंदी पर विदेशी विशेषज्ञों और संस्थानों ने बार-बार चिंता जताई है। अब अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की नव निर्वाचित प्रबंध निदेशक क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कहा है कि भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में आर्थिक मंदी ज़्यादा प्रभावी और साफ़ दिख रही है।
जॉर्जीवा ने मुद्रा कोष और विश्व बैंक की अगले हफ़्ते होने वाली साझा बैठक के पहले यह बात कही। उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि विश्व अर्थव्यवस्था का 90 प्रतिशत हिस्सा अगले साल मंदी की चपेट में आ जाएगा। उन्होंने कहा कि वित्तीय  वर्ष 2019-2020 के दौरान वैश्विक वृद्धि दर अब तक के न्यूनतम स्तर पर आ पहुँच जाएगी।
सम्बंधित खबरें
आईएमएफ़ प्रमुख ने कहा, 'अमेरिका और जर्मनी में बेरोज़गारी ऐतिहासिक रूप से न्यूनतम स्तर पर है। लेकिन भारत और ब्राजील जैसी सबसे तेज़ी से उभरती अर्थव्यवस्थाओं में मंदी उससे भी अधिक साफ़ दिख रही है।'
क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने क्रिस्टीन लगार्द से पदभार ग्रहण किया है। लगार्द फ्रांस की राजनेता हैं और लंबे समय से आईएमएफ़ की प्रमुख रही हैं। 
इसके पहले आईएमएफ़ ने साल 2019 के लिए 3.2 प्रतिशत और साल 2020 के लिए 3.5 प्रतिशत वैश्विक वृद्धि दर का अनुमान लगाया था। लेकिन जॉर्जीवा ने कहा कि इस अनुमान में कटौती की जाएगी। मुद्रा कोष 15 अक्टूबर को नया विश्व आर्थिक आउटलुक जारी करेगा। समझा जाता है कि नया अनुमान साल 2019 के लिए 3 प्रतिशत और 2020 के लिए 3.2 प्रतिशत रखा जाएगा। 
आईएमएफ़ ने इस साल भारत के आर्थिक विकास दर के और कम होने की आशंका जताई है। इसने साल 2019 और 2020 के लिए आर्थिक विकास दर के अनुमान में 0.3 प्रतिशत की कटौती कर दी है।
मुद्रा कोष ने भारत के सकल घरेलू उत्पाद वृद्धि की दर 2019 और 2020 के लिए 7.2 प्रतिशत से 7 प्रतिशत कर दिया है। 
भारत सरकार के आँकड़ों के हिसाब से जून में ख़त्म हुई तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 5 प्रतिशत दर्ज की गई। यह मार्च 2013 के बाद से न्यूनतम है। उस समय  जीडीपी वृद्धि दर 4.7 प्रतिशत पर पहुँच गई थी। 
ख़ुद भारत सरकार की एजेंसियों के आँकड़े उत्साहवर्द्धक नहीं हैं। ताज़ा आँकड़ों के मुताबिक़, अगस्त महीने में 8 कोर सेक्‍टर की विकास दर में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। लेकिन इससे भी बड़ी चिंता की बात यह है कि 5 कोर सेक्टर में निगेटिव ग्रोथ हुआ है, यानी विकास शून्य से भी कम हुआ है। ये क्षेत्र हैं बिजली, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, कोयला और सीमेंट। यह बड़ी चिंता की बात इसलिए है कि इससे यह साफ़ है कि अर्थव्यवस्था अब मंदी के चरण में प्रवेश कर चुकी है। 

ताजा आँकड़ों के मुताबिक़, अगस्त में इस विकास दर में 0.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। अगर इसकी तुलना पिछले साल से करें तो अगस्त 2018 में 8 कोर सेक्‍टर की विकास दर 4.7 फ़ीसदी थी। 

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें