loader

औद्योगिक घरानों के 5 लाख करोड़ के क़र्ज़ माफ़ किए मोदी सरकार ने

किसानों का क़र्ज़ माफ़ करने और ग़रीबों को हर महीने कुछ पैसे देने के फ़ैसले के लिए राहुल गाँधी की आलोचना करने और उनका मजाक उड़ाने वाले नरेंद्र मोदी की सरकार ने अपने कार्यकाल में बड़े औद्योगिक घरानों के 5.50 लाख करोड़ रुपये से ज़्यादा का क़र्ज़ माफ़ कर दिया। औद्योगिक घरानों के प्रति यह दरियादिली उस सरकार ने दिखाई है, जो पेट्रोल-डीज़ल, रसोई गैस और किरासन तेल जैसी ज़रूरी और आम लोगों के इस्तेमाल की चीजों पर सब्सिडी में ज़बरदस्त कटौती यह कह कर की कि सरकार के पास पैसे नहीं हैं।

सम्बंधित खबरें
कारपोरेट घरानों का क़र्ज़ माफ़ करने का यह पहला वाक़या नहीं है। इसके पहले की सरकारों ने भी यह काम किया है। लेकिन ग़रीबों की हितैषी होने का दावा करने वाली सरकार ने सबसे ज़्यादा क़र्ज़ माफ़ उद्योगपतियों का ही किया है। अंग्रेज़ी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के पूछे एक सवाल के जवाब में रिज़र्व बैंक ने कहा कि पिछले दस साल में कुल 7 लाख करोड़ रुपये के क़र्ज़ माफ़ कर दिए गए। 
सरकार ने अप्रैल 2014 के बाद से अब तक 5,55,603 करोड़ रुपये के क़र्ज़ माफ़ कर दिए गए। यानी, बीते दस साल में हुई क़र्ज़माफ़ी का तक़रीबन 80 प्रतिशत क़र्ज़ हिस्सा मोदी सरकार ने किया। कॉरपोरेट जगत को यह फ़ायदा तब पहुँचाया गया, जब ग़रीबों को पहले से मिल रही सब्सिडी में ज़बरदस्त कटौती की गई।

कैसे होता है क़र्ज़ माफ़?

दरअसल होता यह है कि बैंकों को जब दिए हुए क़र्ज़ पर ब्याज़ मिलना बंद हो जाता है तो वे उसे ‘नन परफ़ॉर्मिग असेट’ क़रार देते हैं। लेकिन उसे खाते में दिखाना तो होता है। इससे उनका बैलंस शीट ख़राब हो जाता है। इससे बचने के लिए वे एक सीमा के बाद क़र्ज को ‘राइट ऑफ़’ कर देते हैं यानी माफ़ कर देते हैं। दरअसल वह क़र्ज तो बना ही रहता है, लेकिन वह बैलंस शीट में नहीं दिखाया जाता है। उसके बाद बैंक उस क़र्ज़ की उगाही को लेकर उदासीन हो जाते हैं। उस कर्ज के 20 प्रतिशत से अधिक की वसूली नहीं हो पाती है। लेकिन इसके पीछे राजनीतिक कारण भी होते हैं, ख़ास कर सरकारी बैंकों के मामलों में। कई बार सरकार बैंकों को संकेत देती है और दबाव भी बनाती है कि क़र्ज़ माफ़ कर दिए जाएँ। 

Modi government writes off 5.5 lakh crore loan - Satya Hindi
देश के सरकारी बैंकों ने वित्तीय वर्ष 2016-17 में 1,08,374 करोड़ रुपये का क़र्ज़ माफ़ कर दिया तो वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान उन्होंने 161,328 करोड़ रुपए का क़र्ज़ छोड़ दिया। इसके अगले साल यानी 2018-19 के पहले छह महीने में ही 82,799 करोड़ रुपये के क़र्ज़ माफ़ कर दिए गए।

ये पैसे किसके माफ़ किए गए हैं, किन उद्योगपतियों को सबसे ज़्यादा फ़ायदा मिला है, यह साफ़ नहीं है। बैंकों के खातों में इसका पूरा ब्योरा होगा और थोड़ी सी पड़ताल से यह मालूम पड़ जाएगा कि किसने पैसे नहीं दिए। पर अब तक इस पर स्थिति साफ़ नहीं है।

माल्या-मेहुल-नीरव की कहानी

याद रहे कि बैंकों से पैसे लेकर रफ़ूचक्कर हो जाने का मामला विवादों में रहा है। पहले शराब उद्योग के बेताज़ बादशाह समझे जाने वाले और ‘किंग ऑफ़ गुड टाइम्स’ कहे जाने वाले विजय माल्या 10 हज़ार करोड़ रुपये से अधिक लेकर विदेश भाग गए और लंदन में जा बसे। उसके बाद मेहुल चोक्सी और हीरा व्यापार से जुड़े नीरव मोदी भी अरबों रुपये का क़र्ज़ लेकर बग़ैर चुकाए ही विदेश भाग गए। मेहुल चोक्सी ने कैरीबियाई द्वीप एंटीगा एंड बारबडोस की नागरिकता ले ली है। नीरव मोदी को लंदन में रहने और काम करने का वीज़ा मिला है और वह वहीं हैं। 

यह महज़ संयोग नही है कि ये तीनों लोग नरेंद्र मोदी के ही शासनकाल में भागे हैं। इनमें से चोक्सी और नीरव तो मोदी के नज़दीक समझे जाते थे। नरेंद्र मोदी ने मेहुल चोक्सी की सार्वजनिक तारीफ़ कई बार की थी। नीरव मोदी वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम की बैठक में भाग लेने डावोस गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे। इस प्रतिनिधिमंडल की अगुआई ख़ुद प्रधानमंत्री मोदी कर रहे थे।
इस पूरी क़वायद का आर्थिक पक्ष तो है ही, इसके राजनीतिक मायने भी हैं। अडानी-अंबानी के साथ रिश्तों को लेकर सुर्खियों में रह चुके नरेंद्र मोदी चोक्सी-नीरव नोदी के प्रति नरमी दिखाने के लिए भी जाने जाते हैं। ताज़ा ख़बर उस समय आई है, जब देश में आम चुनाव शुरूु हो चुका है और पहले चरण का मतदान भी हो गया है। चुनाव प्रचार ज़ोरों पर है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष पर जम कर चोट कर रहे हैं। सवाल यह उठता है कि जिस समय राष्ट्रवाद चुनावी मुद्दा बन गया हो और दूसरे तमाम मुद्दे दरकिनार कर दिए गए हों, क्या उद्योगपतियों को लाखों करोड़ रुपये की क़र्ज़माफ़ी मुद्दा बनेगा? इसका जवाब तुरन्त ही मिल जाएगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें