loader

कोरोना वायरस: दुनिया का मंदी की चपेट में आना तय

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को चपेट में ले लिया है और इससे अछूती वैश्विक अर्थव्यवस्था भी नहीं है। मॉर्गन स्टैनली की रिसर्च टीम का कहना है कि पूरी दुनिया मंदी की चपेट में है, यह मानकर ही आगे का हिसाब लगाया जाएगा। टीम का मानना है कि दुनिया भर की जीडीपी ग्रोथ की रफ्तार इस साल गिरकर 0.9 फ़ीसदी ही रह जाएगी। जबकि गोल्डमैन सैक्स के हिसाब से यह रफ्तार 1.25% तक रह सकती है।
आलोक जोशी

दुनिया मंदी की चपेट में आ चुकी है या आ रही है, इसमें अब कोई शक नहीं रह गया है। दुनिया के दो बड़े इन्वेस्टमेंट बैंकर्स मॉर्गन स्टैनली और गोल्डमैन सैक्स ने भी अब मान लिया है कि कोरोना वायरस के डर से दुनिया भर में कामकाज पर जो असर पड़ रहा है, वह दुनिया को मंदी की ओर धकेल रहा है। यानी अब बहस इस बात पर नहीं है कि मंदी आएगी या नहीं। इन इन्वेस्टमेंट बैंकर्स का मानना है कि मंदी तो आ ही रही है, सोचने को सिर्फ यह बचा है कि यह कितने लंबे समय तक चल सकती है और अर्थव्यवस्था को इससे कितना झटका लगेगा। 
ताज़ा ख़बरें

दो दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने यह आशंका जताई थी कि सिर्फ अमेरिका को इस बीमारी की वजह से जो आर्थिक नुक़सान झेलना पड़ेगा, वह काफी ज़्यादा हो सकता है। और अब वे सारे अर्थशास्त्री भी लगता है कि हिम्मत हार गए हैं जिन्हें अभी तक लग रहा था कि शायद दुनिया कोरोना वायरस के झटके को झेल जाएगी और मंदी की आशंका आखिरकार टल जाएगी। 

चीन को होगा ज़्यादा नुक़सान 

ऐसे अर्थशास्त्रियों के विचार में आए इस बदलाव की वजह क्या है? वजह है कोरोना वायरस का विश्वव्यापी महामारी बन जाना। यह बीमारी जिस रफ्तार से यूरोप और अमेरिका तक फैल गई है, वह चिंता की एक बड़ी वजह है। और चीन में इस महामारी की वजह से जितना नुक़सान होने का अंदाजा लगाया जा रहा था, नुक़सान उसके मुक़ाबले कहीं ज्यादा है और यह चिंता की दूसरी बड़ी वजह है। चीन इस वक्त दुनिया के व्यापार में बहुत बड़ा खिलाड़ी है। उसकी रफ्तार थमेगी तो बाक़ी सब पर भी ब्रेक लगना लाजिमी है। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें

मॉर्गन स्टैनली की रिसर्च टीम का तो यह भी कहना है कि पूरी दुनिया मंदी की चपेट में है, यह मानकर ही आगे का हिसाब लगाया जाएगा। टीम का मानना है कि दुनिया भर की जीडीपी ग्रोथ की रफ्तार इस साल गिरकर 0.9 फ़ीसदी ही रह जाएगी। जबकि गोल्डमैन सैक्स के हिसाब से यह रफ्तार 1.25% तक रह सकती है। रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड एंड पुअर की एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक़ ग्रोथ की रफ़्तार एक से डेढ़ फ़ीसदी के बीच कहीं भी अटक सकती है। 

हालांकि अब भी उम्मीद की किरण बाक़ी है। जानकारों को उम्मीद है कि साल की दूसरी छमाही में ग्रोथ फिर रफ्तार पकड़ सकती है, लेकिन मॉर्गन स्टैनली और गोल्डमैन सैक्स दोनों ही यह आशंका भी जता रहे हैं कि अर्थव्यवस्था में और तकलीफदेह दौर आने का ख़तरा अभी टला नहीं है। 

इतनी बात तो साफ है कि जब तक कोरोना वायरस का पुख्ता इलाज या इसका टीका सामने नहीं आ जाता तब तक मंदी का ख़तरा टलने वाला नहीं है। लेकिन फिलहाल इसका एक मतलब यह भी है कि दुनिया भर की सरकारों और रिजर्व बैंक जैसे केंद्रीय बैंकों को इस संकट से पैदा हो रही आर्थिक मंदी को मात देने के लिए अपने तरकश के न जाने कितने तीर चलाने पड़ेंगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
आलोक जोशी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें