loader

पीएमसी बैंक घोटाला: मोदी के न्यू इंडिया में सुनी जाएगी बुजुर्गों की बात?

क्या नरेंद्र मोदी के न्यू इंडिया में बुजुर्गों की आवाज़ सुनी जायेगी? यह सवाल खड़ा होता है बारिश की धार में अपनी आशा के दीपक को जलाये रखने का संघर्ष कर रहे बुजुर्गों को देखकर। ये बुजुर्ग देश की बैंकिंग प्रणाली का नियंत्रण करने वाले रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं।
सरकार ने आदेश दे दिया और पुलिस ने आन्दोलन  कर रहे बुजुर्गों को खदेड़ दिया। ये बुजुर्ग पंजाब महाराष्ट्र बैंक में अपना पैसा या यूँ कहें कि अपनी जमा पूंजी निकालने के लिए आन्दोलन कर रहे हैं।  एक और खातेदार की मौत हर्ट अटैक से होने के साथ ही इस मामले में मरने वालों की तादाद चार हो गयी। 

बुजुर्गों का आन्दोलन

जिस तरह से प्रदर्शन के दौरान कई वृद्ध महिला और पुरुष खाताधारकों की तबियत खराब हो गयी, उससे इस बात के संकेत तो मिल ही रहे हैं कि सदमा बहुत गंभीर है। यदि इतना गंभीर नहीं होता तो लोग क्यों अपनी जान जोखिम में डाल बारिश में भींगते हुए उस सरकार को जगाने की कोशिश कर रहे हैं? यह पता होते हुए कि सरकार अपनी कुर्सी बचाने की कसरत में है और सरकार के लोग उनके दुख दर्द सुनने नहीं आयेंगें, फिर भी लोग घरों से निकलकर आये। 
इस बीच  खबर आयी है की पीएमसी बैंक के एक और खाताधारक की मौत हो गई है।  80 साल के मुरलीधर धारा की हार्ट अटैक से मौत का मामला सामने आया है। मुरलीधर मुलुंड के रहने वाले थे।  मृतक के बेटे प्रेम धारा ने ख़बर की पुष्टि करते हुए बताया कि लंबे समय से उनके पिता बीमार थे और उनकी बाईपास सर्जरी करानी थी, जिसके लिए पैसे की ज़रूरत  थी। लेकिन सही समय पर पैसे न जुटा पाने के कारण प्रेम अपने पिता का इलाज नही करा पाए। 
ऐसा नहीं कि उनके पास पैसा नहीं था। उनके पिता ने अपनी वृद्धावस्था के लिए लाखों रुपये पीएमसी बैंक में सहेज कर रखा था, लेकिन वक्त आने पर वह बैंक ही धोखा दे गया? बैंक डूब गया और यह सदमा मुरलीधर नहीं झेल सके, इलाज के अभाव में जान चली गयी। 
देश की सर्वोच्च न्याय संस्था सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिलने के चलते खाताधारकों में नाराज़गी भी है और कहीं ना कहीं कुछ हताशा भी।

आरबीआई का दफ़्तर घेरा

जिन्हें चुनकर देश या राज्य चलाने को दिया था, वे अपनी कुर्सी के चक्कर में व्यस्त हैं, लिहाज़ा, बैंक के खाताधारकों ने शनिवार को मुंबई में एशियाटिक लाइब्रेरी के पास रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का दफ्तर घेर लिया और विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान कई लोगों की तबीयत भी खराब हो गई।   पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए कई लोगों को खदेड़ा।
इस दौरान प्रदर्शन कर रहे खताधारकों ने सड़क से गुज़र रही गाड़ियों का रास्ता रोक दिया।  खाताधारकों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए आरबीआई के बाहर पुलिस ने कड़े बंदोबस्त किए थे। पुलिस ने सभी प्रदर्शनकारियों को गेट पर रोक लिया था।
सुप्रीम कोर्ट ने पीएमसी बैंक से नकदी निकालने पर आरबीआई की ओर से लगाई गई रोक हटाने की माँग कर रहे पीएमसी खाताधारकों की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया।

क्या कहा सुप्रीम कोर्ट ने?

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि हम अनुच्छेद 32 (रिट अधिकार क्षेत्र) के तहत इस याचिका की सुनवाई नहीं करना चाहते।  याचिकाकर्ता उचित राहत के लिए संबंधित हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं। सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने इस बारे में कहा कि सरकार इस स्थिति की गंभीरता से परिचित है और प्रवर्तन निदेशालय दोषी के ख़िलाफ़ उचित कार्रवाई कर रहा है। लेकिन सवाल लोगों के पैसों का है, जिससे उनके जीवन की आये दिन की दिनचर्या या गतिविधियाँ जुडी हुई हैं।
इस देश में विलफुल डिफॉल्टर्स की सूची जितनी लम्बी होती जा रही है कि लोगों का बैंकों से विश्वास उतनी ही तेजी से कम होता जा रहा है।
सरकार चुनाव का बहाना कर अपना पल्ला झाड़ कर खड़ी हो गई है। लेकिन यह मामला देश की बैंकिंग व्यवस्था के विश्वास से जुड़ा है, फिर इस मामले में तत्परता क्यों नहीं देखने को मिल रही? क्या यही है न्यू इण्डिया जंहाँ लोगों को अपने हक़ और हक़ूक के लिए जान की बाजी लगानी पड़ेगी और अपनी मेहनत का पैसा हासिल करने के लिए सरकार के सामने हाथ फैलाये किसी लाचार आदमी की तरह खड़ा होना होगा?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें