loader

कश्मीर: हिज़बुल का टॉप कमांडर रियाज़ नाइकू मुठभेड़ में ढेर

सुरक्षा बलों ने बुधवार को हिज़बुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर रियाज़ नाइकू को कश्मीर के पुलवामा में मार गिराया है। बुरहान वानी के मारे जाने के बाद रियाज़ ने उसकी जगह ले ली थी। वह आठ साल से फरार चल रहा था। बुरहान वानी कश्मीर में आतंकवाद का पोस्टर ब्वॉय था, उसे जुलाई 2016 में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में मार गिराया था। 

सूत्रों के मुताबिक़, रियाज़ नाइकू रमज़ान के दौरान अपने बूढ़े माता-पिता से मिलने आया था। ख़ुफ़िया सूत्रों को उसके इस इलाक़े में मौजूद होने की जानकारी मिली थी। इसके बाद सुरक्षा बलों ने ऑपरेशन चलाया और उसे घेर लिया। 

ताज़ा ख़बरें

इंडिया टुडे के मुताबिक़, भारतीय सेना, सीआरपीएफ़ और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मिलकर बेग़बोरा गांव में मंगलवार रात को तलाशी अभियान चलाया। रियाज़ के छुपने की जगह के बारे में जानकारी मिलने पर जवानों ने मिलकर कई खेतों और रेलवे ट्रैक को खोद डाला। 

बुधवार सुबह 9 बजे उसका पता चला और जवानों ने उसका पीछा किया। सुरक्षाबलों को अंदेशा था कि रियाज़ अवंतीपोरा के एक घर में छुपा हुआ है। सुरक्षा बलों ने इस घर को उड़ा दिया। तलाशी अभियान दिन में 1 बजे ख़त्म हुआ। नाइकू को ढेर करने से पहले कश्मीर के 10 जिलों में इंटरनेट निलंबित कर दिया गया था। 

रियाज़ नाइकू के सिर पर 12 लाख रुपये का इनाम था। नाइकू से पहले बुधवार को ही पुलवामा जिले के एक और गांव में दो और आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने मार गिराया। 

जम्मू-कश्मीर पुलिस के पूर्व महानिदेशक एस.पी. वैद ने कहा कि नायकू बुरहान वानी के बाद सबसे कुख्यात आतंकवादी था जिसकी पुलिस को तलाश थी। 

पुलिस के मुताबिक़, नायकू कश्मीरी नौजवानों को आतंकवाद का प्रशिक्षण देने के लिए भर्ती कर रहा था। उस पर कई पुलिस अफ़सरों की हत्या करने और कई पुलिस अफ़सरों को धमकाने का आरोप था। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

पिछले एक महीने में भारत के 22 जवान कश्मीर घाटी में शहीद हो चुके हैं। रविवार को सेना के दो वरिष्ठ अफ़सर सहित 5 जवान कश्मीर के कुपवाड़ा में शहीद हो गए थे। सोमवार को इसी इलाक़े में आतंकवादियों ने सीआरपीएफ़ की एक टीम पर हमला किया था जिसमें तीन जवान शहीद हो गए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें