loader

राष्ट्रपति मेडल पाया अफ़सर क्यों कर रहा था कश्मीरी आतंकवादियों की मदद?

जम्मू-कश्मीर के डिप्टी पुलिस सुपरिटेंडेन्ट दविंदर सिंह का तीन आतंकवादियों के साथ पकड़ा जाना कई सवाल खड़े करते हैं। पुलिस का कहना है कि उनके साथ आतंकवादियों जैसा ही व्यवहार किया जाएगा। सवाल यह है कि राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित यह पुलिस अफ़सर क्यों आतंकवादियों के साथ था?
जम्मू-कश्मीर से और खबरें

अफ़ज़ल गुरु से जुड़े थे तार?

दविंदर सिंह पहली बार विवादों के घेरे में तब आए थे, जब संसद हमले के अभियुक्त अफ़ज़ल गुरु ने उनका नाम लिया था। अफ़ज़ल को दिसंबर 2001 में संसद पर हुए हमले में शामिल होने का दोषी पाया गया था और 9 फ़रवरी 2013 को उसे फाँसी की सज़ा दे दी गई थी। 

अफ़ज़ल ने 2004 में अपने वकील सुशील कुमार को लिखी चिट्ठी में पहली बार देविंदर सिंह का नाम लिया था। तिहाड़ जेल से लिखे ख़त में उसने कहा था कि दविंदर सिंह ने उसे पाकिस्तानी नागरिक मुहम्मद को दिल्ली ले जाने, भाड़े पर घर ढूंढने और गाड़ी खरीदने में मदद करने को कहा था।
मुहम्मद को संसद पर हुए हमले में अभियुक्त बनाया गया था। दविंदर सिंह उस समय जम्मू-कश्मीर के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप में थे और हुमहामा में तैनात थे।  

तो क्या दविंदर सिंह इस हमले में भी किसी रूप में शामिल थे? या वह किसी गोपनीय ऑपरेशन का हिस्सा थे? क्या वह आतंकवादी संगठनों का विश्वास हासिल कर उनके अंदर तक घुसना चाहते थे? कोई निष्कर्ष निकालना जल्दबाजी होगी।
शुक्रवार को दविंदर और पाकिस्तान स्थित आतंकवादी गुट हिज़बुल मुजाहिदीन के स्थानीय कमान्डर नावेद बाबा के बीच की बातचीत को ख़फ़िया एजेन्सियों ने सुन लिया।
इस पूरे ऑपरेशन की अगुआई डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल (दक्षिण कश्मीर) अतुल गोयल कर रहे थे। पूरी जानकारी मिलने के बाद वे ख़ुद एक चेकपोस्ट पर पहुँच गए और उस गाड़ी को रोका, जिसमें दविंदर जा रहे थे। उन्हें गिरफ़्तार करने के बाद उनके घर पर छापे मारे गए। उनके घर से दो रिवॉल्वर और एक एके-47 राइफल बरामद किए गए। 

आतंकवादियों की मदद?

पुलिस की पहली प्रतिक्रिया यह है कि यह अफ़सर आतंकवादियों को राज्य से बाहर निकलने में मदद कर रहा था, क्योंकि बनिहाल पार कर लेने के बाद जम्मू तक कोई नहीं रोकता। एक बार जम्मू पहुँच जाने के बाद वहाँ से राज्य के बाहर निकलना आसान था। तो क्या डीएसपी आतंकवादियों की मदद कर रहे थे? 

बीते हफ़्ते जब दिल्ली में तैनात कुछ देशों के राजदूतों और उच्चायुक्तों को कश्मीर ले जाया गया, दविंदर सिंह ने ही उनकी आगवानी की थी। देविंदर का महत्व इससे भी समझा जा सकता है कि वह आतंकवादियों के ख़िलाफ़ मुहिम में शामिल हैं। 

फ़िलहाल दविंदर सिंह से पूछताछ चल रही है। इस पूछताछ में स्थानीय पुलिस के अलावा खु़फ़िया एजेन्सी रिसर्च एंड एनलिसिस विंग (रॉ), सीआईडी और इनवेस्टीगेशन ब्यूरो (आईबी) के लोग शामिल हैं। 

पर्यवेक्षकों का कहना है कि कई बार ऐसा भी होता है कि पुलिस के लोग आतंकवादी गुटों के अंदर घुसने के लिए उनसे संपर्क साधते हैं, उनकी छोटी-मोटी मदद करते हैं, उनके साथ उनके जैसा ही व्यवहार करते हैं ताकि वे विश्वास जीत सके। इस आधार पर वे गोपनीय जानकारी हासिल करते हैं। तो क्या दविदंर सिंह इस तरह के किसी ऑपरेशन में थे? यह कहना अभी जल्दबाजी होगी। फ़िलहाल पुलिस उन्हें आतंकवादी मान कर वैसा ही व्यवहार कर रही है। 

संसद पर हमले के मामले में जिस आतंकवादी अफ़ज़ल गुरु को सज़ा-ए-मौत दी गई, उसकी मदद करने के आरोप में पुलिस अफ़सर दविंदर सिंह को क्यों नही पकड़ा गया? उसके बाद भी लंबे समय तक उनका पुलिस में बने रहना, आतंक-निरोधी मुहिम में रहना और उन्हें राष्ट्रपति पुलिस मेडल से सम्मानित किया जाना क्या यह सवाल खड़े नहीं करता है कि यह कैसो हो गया? इन सवालों के जवाब तो पूछताछ से ही निकलेंगे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें