loader

बेटे विजयेंद्र की वजह से बढ़ रही हैं येदियुरप्पा की मुसीबतें, हटाने की मांग तेज

कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा एक बार फिर अपने परिवारवालों की वजह से मुसीबतों से घिरते नज़र आ रहे हैं। उनके लिए मुसीबत की सबसे बड़ी वजह बन रहे हैं उनके बेटे विजयेंद्र। विपक्षी नेताओं का आरोप है कि कर्नाटक सरकार में सभी बड़े फ़ैसले विजयेंद्र ही ले रहे हैं और 77 साल के येदियुरप्पा सिर्फ नाम मात्र के मुख्यमंत्री रह गए हैं। 

बीजेपी नेताओं को भी आपत्ति

गौर करने वाली बात यह है कि विजयेंद्र किसी सरकारी या प्रशासनिक पद पर नहीं हैं। वे न विधायक हैं और न ही सांसद। सूत्रों का कहना है कि येदियुरप्पा इन दिनों ज़्यादातर बैठकें मुख्यमंत्री के आधिकारिक निवास 'कावेरी' में कर रहे हैं। इन बैठकों में विजयेंद्र भी मौजूद रहते हैं। विपक्ष को ही नहीं बल्कि बीजेपी के कई नेताओं को भी इन बैठकों में विजयेंद्र की मौजूदगी पर आपत्ति है।

कांग्रेस के कद्दावर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दारमैय्या विजयेंद्र को 'कर्नाटक का सुपर सीएम' कहते हुए येदियुरप्पा पर राजनीतिक हमले बोल रहे हैं।
बीजेपी के कई नेता भी दबी जुबान में विजयेंद्र को तबादलों, नियुक्तियों और अनुमति देने वाला मंत्री कहने लगे हैं। सूत्रों से पता चला है कि बीजेपी के कुछ नेताओं जिनमें विधायक भी शामिल हैं, ने पार्टी नेतृत्व से विजयेंद्र के बारे में शिकायत भी की है। लेकिन बीजेपी इस समय कोई फैसला लेने के मूड में नहीं है।
ताज़ा ख़बरें

विजयेंद्र का स्टिंग ऑपेरशन 

हाल ही में एक कन्नड़ टीवी न्यूज चैनल ने एक स्टिंग ऑपेरशन प्रसारित किया था। टीवी चैनल का दावा था कि उसके पास विजयेंद्र के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार के सबूत हैं। इस प्रसारण के बाद कर्नाटक पुलिस ने टीवी चैनल के न्यूज़ रूम और दफ्तर पर छापे मारे और हार्ड डिस्क, सर्वर आदि ज़ब्त कर लिया। सर्वर ज़ब्त होने की वजह से टीवी चैनल का प्रसारण रुक गया। कांग्रेस और दूसरी विपक्षी पार्टियों ने येदियुरप्पा और उनके परिवारवालों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए इस्तीफ़ा देने की माँग की। 

सिद्दारमैय्या का आरोप है कि बेंगलुरू डेवलपमेंट अथॉरिटी की 666 करोड़ लागत वाली एक निर्माण परियोजना में घोटाला हुआ है और इसमें विजयेंद्र शामिल हैं। सिद्दारमैय्या ने मामले की जांच कर्नाटक उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश या फिर उच्चतम न्यायालय के किसी मौजूदा न्यायाधीश से करवाने की माँग की है।

आरोपों को नकारा

उधर, विजयेंद्र विपक्ष के आरोपों को निराधार बता रहे हैं। उनका कहना है कि विपक्षी पार्टियाँ येदियुरप्पा की लगातार बढ़ती लोकप्रियता को पचा नहीं पा रही हैं और इसी वजह से उनके परिवारवालों पर बेबुनियाद आरोप लगा रही हैं और एक साज़िश के तहत मुख्यमंत्री को बदनाम करने की कोशिश कर रही हैं। 

अपनी सफाई में विजयेंद्र यह दलील देते हैं कि वे अपने पिता येदियुरप्पा और बीजेपी के नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच सेतु का काम करते हैं और इसी वजह से लोग उनसे मिलने आते हैं। विजयेंद्र बीजेपी की कर्नाटक इकाई के उपाध्यक्ष भी हैं।

येदियुरप्पा के नाती का मामला

विजयेंद्र विपक्षी पार्टियों के निशाने पर उस समय आये, जब एक अखबार ने येदियुरप्पा के नाती शशिधर मार्डी को तीन शेल कंपनियों से पाँच करोड़ रुपये मिलने की बात का खुलासा किया। येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके नाती शशिधर दो अलग-अलग कंपनियों में निदेशक बने। इन्हीं दो कंपनियों को कुछ शेल कंपनियों से पाँच करोड़ मिले। 

विपक्ष का आरोप है कि यह मामला बेंगलुरू डेवलपमेंट अथॉरिटी घोटाले से जुड़ा है और रिश्वत की यह रकम शेल कंपनियों के माध्यम से अदा की गयी। इतना ही नहीं, राशि का सारा लेन-देन विजयेंद्र के निर्देशन में हुआ। 

yediyurappa son vijayendra Shaken karnataka Politics - Satya Hindi
येदियुरप्पा की कुर्सी ख़तरे में है।
बहरहाल, इतना ज़रूर है कि विजयेंद्र कर्नाटक में सत्ता का नया केंद्र बने हैं। करीबी सूत्र बताते हैं कि विजयेंद्र अपने पिता येदियुरप्पा के राजनीतिक उत्तराधिकारी के रूप में खुद को स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं। उनकी नज़र मुख्यमंत्री की कुर्सी पर है। यही वजह है कि वे अपने पिता की तरह ही लिंगायत समुदाय के सभी छोटे-बड़े धार्मिक और आध्यात्मिक गुरुओं से करीबी बनाये हुए हैं। 
कर्नाटक से और ख़बरें

येदियुरप्पा को बदलने की चर्चा

विजयेंद्र बीजेपी नेतृत्व को इसके लिए मनाने की भी कोशिश कर रहे हैं कि उनमें नेतृत्व क्षमता है और वे अगले विधानसभा चुनाव में बीजेपी का सफल नेतृत्व कर सकते हैं। विजयेंद्र की इन्हीं कोशिशों की वजह से कर्नाटक में बीजेपी के कई नेता येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ हो गये हैं। कुछ बड़े नेता अपने समर्थकों के बीच यह भी कहने लगे हैं कि येदियुरप्पा को जल्द ही बदला जाएगा। यही वजह है कि कुछ नेता पूरी ताकत लगाकर येदियुरप्पा की जगह लेने की कोशिश में जुट गये हैं और इन दिनों लगातार दिल्ली के चक्कर काट रहे हैं। 

सूत्रों का कहना है कि बीजेपी के संगठन महासचिव बीएल संतोष भी चाहते हैं कि येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से हटाया जाये। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह येदियुरप्पा को बनाये रखने के पक्ष में हैं। 

कर्नाटक की राजनीति के जानकारों का कहना है कि अगर येदियुरप्पा ने अपने परिवारवालों की सरकारी कामकाज में दख़लअंदाज़ी बंद नहीं करवाई तो उन्हें इसका नुक़सान उठाना पड़ सकता है।

‘पुत्र-मोह’ ले डूबेगा?

बड़ी बात यह भी है कि ऐसा पहली बार नहीं है, जब येदियुरप्पा पर अपने परिवारवालों खासकर बेटों को बढ़ावा देना का आरोप लगा है। जब-जब वे मुख्यमंत्री बने, तब-तब विजयेन्द्र पर सरकारी कामकाज में दखल देने का आरोप लगा। 

खनन घोटाले में बेटे के साथ अपना नाम आने की वजह से 2011 में येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री की कुर्सी गंवानी पड़ी थी। तब भी यही कहा गया कि पुत्र-मोह की वजह से येदियुरप्पा सत्ता गंवा बैठे। इस मामले में येदियुरप्पा बरी हो गए और दुबारा अपनी खोई हुई लोकप्रियता हासिल की। लेकिन एक बार फिर ‘पुत्र-मोह’ के चलते उनकी लोकप्रियता और कुर्सी दोनों खतरे में नज़र आ रही हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दक्षिणेश्वर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें