loader

'आप' के घोषणापत्र में दिल्ली को पूर्ण राज्य देने का मुद्दा सबसे अहम

आम आदमी पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी का घोषणापत्र पेश करते हुए दिल्ली को पूर्ण राज्य देने का मुद्दा एक बार फिर उठाया। पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी इस बात पर जोर देगी कि इस बार दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा हर हाल में दे दिया जाए। 
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली को पूर्ण राज्य बनने से हम यह सुनिश्चित करेंगे कि यहाँ के कॉलेजों में कम से कम 85 प्रतिशत सीटें उन बच्चों को मिले, जो दिल्ली के रहने वाले हैं। सरकार क़ानून बना कर यह तय करेगी कि कॉलेज खोले जाएँ क्योंकि फ़िलहाल कॉलेज के लिए ज़मीन केंद्र सरकार नहीं देती है। पूर्ण राज्य बनने से केंद्र पर यह निर्भरता ख़त्म हो जाए। दिल्ली पूर्ण राज्य बनेगी तो हम क़ानून बना कर यह सुनिश्चित करेंगे कि दिल्ली राज्य की सरकारी नौकरियों में 85 प्रतिशत नौकरियाँ यहां के वोटरों को मिले। 
चुनाव 2019 से और खबरें
आम आदमी पार्टी के नेता ने नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने पहले यह कहा था कि उनकी पार्टी दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देगी, पर उन्होंने ऐसा नहीं किया। यदि आम आदमी पार्टी दिल्ली की सभी सात सीटें जीत लेगी तो यह दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने की माँग ज़ोरदार ढंग से उठाएगी और यह दर्जा लेकर रहेगी। 
केजरीवाल ने पार्टी का घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि इस चुनाव में हमारा एक मात्र लक्ष्य भारतीय जनता पार्टी को सत्ता में आने से रोकना है। उन्होंने कहा कि केंद्र की सत्ता में पहुँचने के लिए बीजेपी को रोकने के लिए हम सब कुछ करेंगे, हम उस पार्टी या गठबंधन को समर्थन करेंगे जो बीजेपी को रोक सके। 

'यह चुनाव देश बचाने का चुनाव है'

आम आदमी पार्टी के नेता ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी ने नागरिकता बिल पेश करते हुए कहा कि वह बाहर से भारत में आए हुए हिन्दुओं, सिखों और बौद्धों को ही यहाँ रहने देगी। केजरीवाल ने कहा कि इसका मतलब यह है कि बीजेपी मुसलमानों को यहाँ नहीं रहने देगी। उन्होंने सवाल पूछा कि क्या इन मुसलमानों को समुद्र में डाल दिया जाएगा या उन्हें पीट पीट कर मार दिया जायगा? केजरीवाल ने आगे कहा, 'इस देश की संस्कृति सबको साथ लेकर चलने की है। यहाँ सैकड़ों साल से सभी धर्मों और समुदायों के लोग एक साथ रहते आए हैं। बीजेपी उस संस्कृति के ख़िलाफ़ है। वह भेदभाव की राजनीति करती है। उसे हर हाल में रोकना होगा। यह चुनाव उन्हें रोकने का चुनाव है। यह चुनाव संविधान बचाने का चुनाव है, यह चुनाव देश बचाने का चुनाव है।' 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें