loader

दक्षिण की पांच हस्तियों को 'संकटमोचक' के रूप में देख रही है बीजेपी

बीजेपी के लिए दक्षिण में विजय हासिल करना आसान नहीं है। दक्षिण में लोकसभा की 130 सीटें हैं। अब तक जो भी चुनावी सर्वेक्षण आए हैं, अगर इनके नतीजों को सही माना जाए तो बीजेपी इन 130 में से 20 सीट भी जीतती नज़र नहीं आ रही है। यही वजह है कि बीजेपी ने दक्षिण के हर राज्य से एक-एक और कुल मिलाकर पाँच बड़ी हस्तियों पर अपनी नज़रें गड़ा रखी हैं। 

बीजेपी को उम्मीद है कि इनमें से दो हस्तियाँ उसे चुनाव के दौरान फ़ायदा पहुँचाएँगी और बाक़ी तीन बड़ी हस्तियाँ चुनाव के बाद बीजेपी के साथ आएँगी। इन्हीं पाँच हस्तियों की वजह से केंद्र में बीजेपी के नेतृत्व में सरकार बनेगी और नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने रहेंगे। 

अब आपको बताते हैं कि ये पाँच हस्तियाँ कौन हैं। ये पाँच हस्तियाँ हैं - तमिलनाडु से सुपरस्टार रजनीकांत, केरल से मलयालम फ़िल्मों के सुपरस्टार मोहनलाल, कर्नाटक से पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा, तेलंगाना से मुख्यमंत्री और टीआरएस के मुखिया के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) और आंध्र प्रदेश से वाईएसआर कांग्रेस के मुखिया जगन मोहन रेड्डी।

बीजेपी आलाकमान का मानना है कि तेलंगाना में केसीआर की टीआरएस को और आंध्र प्रदेश में जगन की वाईएसआर कांग्रेस को दूसरी पार्टियों के मुक़ाबले ज़्यादा सीटें मिलेंगी। इन दोनों पार्टियों को मिलाकर कम से कम 30 लोकसभा सीटें मिलने की उम्मीद है।

केसीआर और जगन से उम्मीद

अभी तक आए सर्वेक्षणों के मुताबिक़, टीआरएस को तेलंगाना की 17 में से कम से कम 10 सीटें मिलेंगी, जबकि जगन की पार्टी को आंध्र की 25 में से कम से कम 20 सीटें मिलेंगी। लोकसभा चुनाव के बाद बनने वाली संभावित परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए ही बीजेपी आलाकमान केसीआर और जगन से अच्छे संबंध बनाए रखने की कोशिश में है। 

सूत्रों की मानें तो केसीआर और जगन दोनों चाहते हैं कि इस बार केंद्र में ग़ैर-बीजेपी और ग़ैर-कांग्रेस वाली तीसरे मोर्चे की सरकार बने। तीसरे मोर्चे की सरकार बनने की स्थिति में दोनों केंद्र की राजनीति में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।
लोकसभा चुनाव के बाद अगर स्थिति ऐसी बनी कि बीजेपी को सरकार बनाने के लिए कुछ सीटें कम पड़ जाती हैं, तब केसीआर और जगन बीजेपी की मदद कर सकते हैं। दोनों के कांग्रेस के साथ जाने की संभावनाएँ काफ़ी कम हैं।

कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन टूटने पर नज़र

केंद्र की राजनीति में बड़ी भूमिका निभाने का एलान कर चुके केसीआर, फे़डरल फ्रंट के नाम से तीसरा मोर्चा बनाने की कवायद में जुटे हुए हैं। बात कर्नाटक की करें, तो बीजेपी आलाकमान चाहता है कि कांग्रेस और जेडीएस का गठबंधन टूट जाए और दोनों पार्टियाँ अलग-अलग होकर चुनाव लड़ें। इससे बीजेपी को दो फ़ायदे होंगे। पहला, त्रिकोणीय मुक़ाबला होने की वजह से बीजेपी को कुछ सीटों का फ़ायदा होगा और कांग्रेस को नुक़सान। दूसरा, कर्नाटक की कांग्रेस-जेडीएस सरकार के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगेगा। 

बेटों को ‘फ़िट’ करना चाहते हैं देवेगौड़ा

बीजेपी आलाकमान को उम्मीद है कि लोकसभा चुनाव बाद अगर कुछ सीटों की कमी पड़ी, तब देवेगौड़ा भी बीजेपी को मदद देंगे। सवाल यही कि, ऐसा करने पर देवेगौड़ा को क्या फ़ायदा होगा। सूत्रों की मानें तो, देवेगौड़ा अपने बेटे कुमारस्वामी को मोदी सरकार में मंत्री बनवा सकते हैं और राज्य में बीजेपी-जेडीएस सरकार बनवा कर अपने बड़े बेटे रेवन्ना को उपमुख्यमंत्री। फ़ॉर्मूले के तहत येदियुरप्पा मुख्यमंत्री होंगे और रेवन्ना उपमुख्यमंत्री। लेकिन, यह बातें अभी तक सिर्फ़ अटकलें ही हैं।

जहाँ तक बात तमिलनाडु की है, बीजेपी चाहती थी कि उसे डीएमके के स्टालिन का साथ मिले, लेकिन स्टालिन के कांग्रेस के साथ चले जाने की वजह से बीजेपी की उम्मीदें सत्ताधारी एआईएडीएमके पर टिकी हैं। लेकिन जयललिता के निधन के बाद से ही पार्टी का नेतृत्व बहुत ही कमज़ोर है। 

बीजेपी उम्मीद कर रही है कि सुपरस्टार रजनीकांत उस गठजोड़ का नेतृत्व करेंगे जिसमें बीजेपी, एआईएडीएमके, रजनीकांत की पार्टी के अलावा कुछ अन्य क्षेत्रीय पार्टियाँ होंगी। रजनीकांत की लोकप्रियता की वजह से इस गठबंधन को विरोधी पार्टियों के मुक़ाबले बढ़त मिलेगी।

केरल में भी बीजेपी की उम्मीदें एक सुपरस्टार पर ही टिकी हैं। हाल ही में मोहन लाल को 'पद्म भूषण' देने की घोषणा की गई है। अगर मोहनलाल बीजेपी में शामिल हो जाते हैं तो केरल में बीजेपी का खाता खुलने और जनाधार बढ़ने की बहुत संभावनाएँ हैं।
बात साफ़ है, बीजेपी इन पाँच हस्तियों को अपने 'संकटमोचक' के तौर पर देख रही है। यानी, केसीआर, जगन, देवेगौड़ा, रजनीकांत और मोहनलाल से बीजेपी को मदद की काफ़ी उम्मीदें हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अरविंद यादव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें