loader

मध्य प्रदेश के सीधी में बस हादसा, 47 लोगों की मौत

मध्य प्रदेश के सीधी में भयंकर बस हादसा हुआ है। मंगलवार को सीधी से सतना जा रही बस बेक़ाबू होकर नहर में गिर गई। एसडीआरएफ की टीम और गोताखोर मौके पर पहुंच कर राहत और बचाव के काम में जुटे हैं। प्रशासनिक टीम भी मौके पर मौजूद है। 

सीधी से सतना जाते वक़्त यह दुर्घटना रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र के पटना पुल पर घटी। यात्रियों से भरी यह बस बाणसागर बांध की नहर में जा गिरी। अब तक 47 शव बरामद कर लिये गये हैं जबकि सात लोगों को बचा लेने में भी सफलता मिली है। 

बस में कुल कितने यात्री सवार थे, यह तो सही-सही पता नहीं चल सका है। बताया जा रहा है 60 से कुछ ज्यादा यात्री इसमें सवार थे।

मृतकों में काफी संख्या में स्टूडेंट बताये जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि स्टूडेंट रेलवे की परीक्षा देने और एक क्रिकेट मैच खेलने जा रहे थे। इसी वजह से इनकी संख्या अधिक है। मृतकों में काफी संख्या में बुजुर्ग और बच्चे भी शामिल बताये जा रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

ओवर लोड थी बस, रूट भी बदला 

शुरूआती जांच में सामने आया है कि बस ओवरलोड थी। उसकी स्पीड भी अधिक थी। इसके अलावा बस ड्राइवर ने रास्ते के जाम से बचने के लिए रूट बदल लिया था। करीब सात किलोमीटर लंबे इस रूट पर यह हादसा हुआ। राज्य सरकार ने घटना की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिये हैं।

पांच लाख का मुआवजा, कार्यक्रम निरस्त

घटना के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक को स्थगित करते हुए अपनी काबीना के दो सहयोगियों को मौके के लिए रवाना कर दिया है और वे ख़ुद भोपाल में पल-पल की जानकारियां जुटा रहे हैं।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

मृतकों के परिजनों के लिए पांच-पांच लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की गई है। घायलों को भी उपचार के लिए माकूल इंतजाम के साथ राहत राशि प्रदान की गई है।

मंगलवार को भोपाल में वर्चुअल कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री कुटीर गरीबों को समर्पित किये जाने थे। मुख्यमंत्री ने अपना यह कार्यक्रम भी स्थगित कर दिया। मुख्यमंत्री ने कल के भी अपने सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिये गये हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें