loader

लव जिहाद: एमपी में भी होगी 10 साल की जेल!

मध्य प्रदेश में भी लव जिहाद में लिप्त पाये जाने वालों की खैर नहीं होगी। शिवराज सरकार ने लव जिहाद से जुड़े कानून के मसौदे को हरी झंडी दे दी है। उत्तर प्रदेश की तरह मध्य प्रदेश में भी लव जिहाद साबित होने पर दस साल की जेल होगी। जबकि धर्मातरण कराने के दोषी पाये जाने पर मुल्ला, मौलवियों, पादरियों और अन्य धर्मगुरूओं को पांच सालों के लिए सीखचों के पीछे डाला जायेगा।

लव जिहाद को लेकर मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने कानून के मसौदे को अपनी मंजूरी दे दी है। धर्म स्वतंत्र विधेयक 2020 पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की अगुवाई में बुधवार शाम को लंबा मंथन हुआ। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा समेत अन्य काबीना मंत्री भी इसमें जुटे। अफ़सरों ने भी अपनी राय प्रकट की। तमाम विमर्श के बाद मसौदे को हरी झंडी दे दी गई।

ताज़ा ख़बरें

गुरूवार शाम को बुलाई गई शिवराज कैबिनेट की बैठक में लव जिहाद कानून के मसौदे पर मुहर लगने के संकेत हैं। मध्य प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र दिसंबर के अंतिम सप्ताह में बुलाया गया है। देखने वाली बात यह होगी कि राज्य की सरकार सत्र तक रूकती है अथवा उसके पहले ही यूपी की योगी सरकार की तरह अध्यादेश लाकर इस कानून को प्रदेश में लागू करती है।

प्रस्तावित कानून में हैं ये प्रावधान

  • बहला-फुसलाकर, धमकी देकर जबरदस्ती धर्मांतरण और विवाह पर 10 साल की सजा का प्रावधान।
  • धर्मांतरण और धर्मांतरण के बाद होने वाले विवाह के एक माह पूर्व डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के सामने धर्मांतरण और विवाह करने और करवाने वाले दोनों पक्षों को लिखित में आवेदन प्रस्तुत करना होगा।
  • बगैर आवेदन प्रस्तुत किए धर्मांतरण कराने वाले धर्मगुरु, काजी, मौलवी या पादरी को 5 साल तक की सजा का प्रावधान।
  • धर्मांतरण और जबरन विवाह की शिकायत स्वयं पीड़ित, माता- पिता, परिजन या गार्जियन द्वारा की जा सकेगी।
  • यह अपराध संज्ञेय और गैर जमानती होगा।
  • जबरन धर्मांतरण या विवाह कराने वाली संस्थाओं का पंजीयन निरस्त किया जाएगा।
  • धर्मांतरण या विवाह कराने की दोषी पाये जाने वाली संस्थाओं को डोनेशन देने वाली संस्थाएं या लेने वाली संस्था का पंजीयन भी निरस्त होगा।
  • धर्मांतरण या विवाह में सहयोग करने वाले सभी आरोपियों के विरुद्ध मुख्य आरोपी की तरह ही न्यायिक कार्यवाही की जाएगी।
देखिए, इस विषय पर चर्चा-

श्रेय लेने की होड़ में मिश्रा!

लव जिहाद कानून लागू कराने का ज्यादा श्रेय लेने की होड़ में मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा जुटे हुए हैं। कानून से जुड़े प्रस्तावित मसौदे को लेकर वे मीडिया में लगातार बयानबाजी कर रहे हैं। बुधवार की शाम मुख्यमंत्री ने गृह विभाग के अफसरों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में गृह मंत्री भी आमंत्रित थे। गुरूवार सुबह मिश्रा ने गृह महकमे के अफसरों की एक बैठक अपने घर पर की। इस बैठक का एजेंडा लव जिहाद कानून का मसौदा ही था।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें
बता दें, कमलनाथ सरकार के जाने के बाद मिश्रा मुख्यमंत्री की रेस में शामिल रहे थे। आलाकमान ने शिवराज को तवज्जो दी थी और उन्हें चौथी बार सीएम बनाया गया। विधानसभा की 28 सीटों के लिए हुए उपचुनाव में शिवराज ने 19 सीटें जीतकर अपनी उपयोगिता को ना केवल साबित किया, बल्कि आलाकमान के दरबार में अपने नंबर बढ़ाने में भी वे सफल रहे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें