loader

एमपी: मुख्यमंत्री शिवराज के ही वेयर हाउस में चोरी, क़ानून-व्यवस्था पर सवाल उठे

क़ानून और व्यवस्था की स्थिति तथा पुलिस के विद्रूप चेहरे को लेकर मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार विपक्ष के निशाने पर है। सरकार और सीएम का सिरदर्द बढ़ाने वाली एक नयी ‘वारदात’ प्रदेश में हुई है। बेखौफ चोरों ने शिवराज के वेयर हाउस को निशाना बनाते हुए हाथ साफ़ कर डाला है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का भोपाल से लगे विदिशा (शिवराज यहाँ से पाँच बार सांसद रहे हैं) में वेयर हाउस है। वेयर हाउस की ज़मीन पर मुख्यमंत्री के बेटे बड़े स्तर पर फूलों की खेती करते हैं। भोपाल में फूलों और बुके के कई आउट्लेट्स खोल रखे हैं। फूल निर्यात भी होते हैं। वेयर हाउस में ही एक दूध डेयरी भी चलाई जाती है। अमृत मंथन के नाम से दूध का उत्पादन और आपूर्ति 2012 से यहाँ की जा रही है।

ताज़ा ख़बरें

विदिशा के इसी वेयर हाउस को चोरों ने निशाना बनाया है। वेयर हाउस की बेहद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को भेदते हुए चोर न केवल घुसे, बल्कि वेयर हाउस के वेटरनरी एरिया और एक डाॅक्टर के यहाँ से माल समेटकर चंपत हो गये। घटना की सूचना मिली तो विदिशा से लेकर भोपाल तक पुलिस सकते में आ गई।

भोपाल और होशंगाबाद रेंज की कमान संभाल रहे एडीजी उपेन्द्र जैन बिना देर किये भोपाल से विदिशा रवाना हुए। दल-बल के साथ पहुँचे जैन ने स्थानीय पुलिस को आड़े हाथों लेने के साथ ही ख़ुद आगे होकर छानबीन की। तमाम सीसीटीवी फुटेजे भी देर शाम तक खंगाले गये।

उपेन्द्र जैन ने मीडिया से कहा, ‘कुछ ख़ास नहीं गया है। वेटरनरी एरिया में निवासरत एक डाॅक्टर के घर से सोने की कुछ अंगूठियाँ और छिटपुट समान ग़ायब हैं।’ जैन ने कहा, ‘पुलिस जाँच कर रही है, चोरों का सुराग जल्दी लगा लिया जायेगा।’

बीते दो दिनों में तीसरी ‘बड़ी घटना’

प्रदेश में पिछले दो दिनों में सरकार का सिरदर्द बढ़ाने वाली यह (सीएम के वेयरहाउस में चोरी की) तीसरी घटना है। मंगलवार को गुना में एक दलित किसान और उसके परिवार को पुलिस वालों ने जमकर पीटा था। सरकारी ज़मीन पर खेती करने वाले किसान और परिवार को हटाने के लिए नगर पालिका का अतिक्रमण विरोधी अमला पहुँचा था। दुःखी किसान और उसकी पत्नी ने जहर खा लिया था। किसान की पत्नी की हालत अब भी चिंताजनक बनी हुई है।

दो घटनाएँ बुधवार को हुईं। मंडला में ज़मीन के विवाद को लेकर दो भाइयों ने अपने रिश्तेदार परिवार के छह लोगों को धारधार हथियारों से काटकर मार डाला। वारदात को अंजाम देने के बाद भागते आरोपी एक भाई की ग़ुस्साये ग्रामीणों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। बुधवार को तीसरी घटना सीएम के वेयर हाउस में चोरी की सामने आयी।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

सीएम सुरक्षित नहीं तो जनता कैसे सुरक्षित: कांग्रेस

मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता के.के. मिश्रा ने ‘सत्य हिन्दी’ से कहा कि राज्य में क़ानून-व्यवस्था का ताना-बाना छिन्न-भिन्न हो गया है। जिस राज्य में सीएम के वेयर हाउस में ही चोरी हो जाये, उस सूबे की जनता कैसे ख़ुद को सुरक्षित महसूस करेगी।

मिश्रा ने कहा, ‘शिवराज सरकार के आने के बाद माफिया और गुंडे फिर सक्रिय हो गये हैं। कमलनाथ सरकार ने इन्हें खदेड़ दिया था।’ लचर क़ानून-व्यवस्था के चलते लूट, डकैती, हत्या, चोरी और बलात्कार की वारदातें बढ़ गई हैं। पुलिस भी निरंकुश है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें