loader

ड्रग्स जाँच केस: दीपिका, श्रद्धा कपूर, सारा अली ख़ान, रकुल को एनसीबी का समन

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स जाँच मामले में अब दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली ख़ान और रकुल प्रीत सिंह को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी ने समन जारी किया है। उन्हें अगले तीन दिन में एनसीबी के सामने पेश होना होगा। दीपिका को शुक्रवार को पेश होना है जबकि बाक़ी से उसके एक दिन बाद शनिवार को पूछताछ की जाएगी। बॉलीवुड में ये अब तक के सबसे बड़े नाम हैं जिनको ड्रग्स मामले में समन भेजा गया है। एनसीबी ने ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को पहले ही गिरफ़्तार कर लिया है। 

अब चार अभिनेत्रियों को समन भेजने की कार्रवाई तब हुई है जब हाल ही में रिया चक्रवर्ती के वाट्सऐप मैसेज में ड्रग की खरीद से जुड़ी बातचीत होने का खुलासा हुआ है। 

ताज़ा ख़बरें

रिया चक्रवर्ती के वाट्सऐप मैसेज के खुलासे के बाद दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश से एनसीबी ने कल ही पूछताछ की थी। पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार जाँचकर्ताओं को करिश्मा प्रकाश के फ़ोन से ड्रग्स को लेकर 'डी' और 'के' के बीच बातचीत का पता चला। कहा जा रहा है कि ‘डी’ का मतलब दीपिका है और ‘के’ का मतलब करिश्मा। चैटिंग में ‘डी’ की ओर से पूछा जाता है कि क्या तुम्हारे पास माल है तो ‘के’ की ओर से जवाब आता है कि 'हां है लेकिन घर पर है और मैं बांद्रा में हूं'। चैटिंग में आगे किसी अमित नाम के शख़्स का भी जिक्र है और गांजा और वीड का भी ज़िक्र होता है।

रिपोर्टों में कहा गया है कि पूछताछ के दौरान रिया ने फ़िल्म अदाकारा श्रद्धा कपूर और सारा अली ख़ान का नाम भी लिया है और इसीलिए एनसीबी ने इन दोनों को भी पूछताछ के लिए समन भेजा है। 

बता दें कि रिया चक्रवर्ती को ड्रग्स केस में तब गिरफ़्तार किया गया था जब एनसीबी ने दावा किया था कि उसने 59 ग्राम मरिजुआना बरामद किया है। रिया पर आरोप है कि वह सुशांत सिंह राजपूत के लिए ड्रग्स का इंतज़ाम करती थीं। 6 अक्टूबर तक के लिए रिया के साथ ही उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को भी जेल भेज दिया गया है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

जब से सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में राजनीति शुरू हुई है तब से ही इस मामले में नये-नये मोड़ सामने आ रहे हैं। इस मामले में ड्रग्स के विवाद ने तब जोर पकड़ा जब कंगना रनौत ने बॉलीवुड में ड्रग्स का मुद्दा उठाया। इसके बाद इस पर नये सिरे से बहस शुरू हो गई। कंगना ने ट्वीट कर फ़िल्मी सितारों रणवीर सिंह, रणबीर कपूर, अयान मुखर्जी, विक्की कौशिक से ड्रग टेस्ट के लिए अपने ब्लड सैंपल देने को कहा था। उन्होंने कहा था, ‘इस तरह की अफ़वाहें हैं कि ये लोग कोकीन के आदी हैं। मैं चाहती हूँ कि ये इन अफ़वाहों को ग़लत साबित कर दें।’ कंगना के इस ट्वीट के बाद बॉलीवुड में खलबली मच गई थी। 

इस मामले के उछलने के बाद यह कहा जाने लगा कि इस मामले में उनपर कार्रवाई हो सकती है जो सरकार के ख़िलाफ़ मुखर होकर आवाज़ उठाते रहे हैं। हाल के दिनों में दीपिका पादुकोण का जब नाम आया तो लोगों ने इसे जेएनयू से जोड़कर देखा जाने लगा। इस साल जनवरी में दीपिका पादुकोण जब जेएनयू के छात्रों पर हुए हमले के बाद वहां चल रहे धरने में पहुंची थीं तो दक्षिणपंथी ट्रोल आर्मी से लेकर बीजेपी नेता और केंद्र सरकार के मंत्री तक उनके पीछे पड़ गये थे। दीपिका के पुराने वीडियो को निकालकर शेयर किया गया था और कहा गया था कि वह तो कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनाने की बात कह चुकी हैं। बीजेपी में अहम पदों पर बैठे कई नेताओं ने दीपिका को जेहादी, पाकिस्तान परस्त और टुकड़े-टुकड़े गैंग का समर्थक बताया था। 

दीपिका पादुकोण को देशद्रोही बताने वाले लोग कौन? देखिए वीडियो- 

रिया चक्रवर्ती के ड्रग्स मामले को लेकर एनसीबी की कार्रवाई गंभीर सवालों के घेरे में है। एनसीबी के पूर्व प्रमुख बी वी कुमार ही इस मामले में एनसीबी की कार्रवाई पर सवाल उठाते हैं। ‘इंडिया टुडे’ टीवी पर कार्यक्रम में बी वी कुमार ने कहा कि एनसीबी जो कर रहा है वह दरअसल उसका काम ही नहीं है। उन्होंने कहा कि एनसीबी के गठन का उद्देश्य बड़े ड्रग तस्कर की जानकारी जुटाना, अंतरराज्यीय स्तर पर ड्रग की तस्करी का भंडाफोड़ करना और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ड्रग माफिया के ख़िलाफ़ कार्रवाई करना था। किसी व्यक्तिगत मामले में पड़ना नहीं। और एक बड़ा सवाल एनसीबी का काम बड़े ड्रग्स माफिया का भंडाफोड़ करना है या फिर 59 ग्राम ड्रग्स के उपभोक्ताओं के पीछे पड़े रहना?

सवाल तो ये भी उठ रहे हैं कि जिस मामले में किसी के दोषी पाए जाने पर भी ज़मानत मिल जाने का प्रावधान हो वहाँ आरोप लगने पर भी रिया को ज़मानत क्यों नहीं मिल रही है? चुनिंदा तरीक़े से वाट्सऐप चैट क्यों लीक की जा रही हैं? क्या ये लीक दीपिका पादुकोण, दीया मिर्ज़ा, सारा अली ख़ान जैसी अभिनेत्रियों को चुनिंदा तौर पर निशाने पर लेने के लिए किए जा रहे हैं? 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें